फजीहत / बिना रीडिंग लिए थमाए ज्यादा राशि के बिल, लोगों का आरोप- 200 के बिल को 1000 रुपए से ऊपर कर दिया

Bill of high amount without paying readings, charge of people - 200 bill above 1000 rupees
X
Bill of high amount without paying readings, charge of people - 200 bill above 1000 rupees

  • उपभोक्ताओं की हेल्पलाइन पर भी कोई सुनवाई नहीं

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 05:00 AM IST

शाजापुर. शहर के बिजली उपभोक्ताओं की बिलों को लेकर खासी फजीहत हो रही है। सोमवार को भी बिजली कंपनी द्वारा उपभोक्ताओं को रीडिंग से अधिक बिजली के बिल दिए गए जो अभी संबल योजना के हितग्राही भी हैं। यह कहने के लिए तो दो मामले, लेकिन शहर में ऐसे कई मामलों में उपभोक्ता परेशान हैं। जिनके बिल ज्यादा आ रहे हैं। इसके अलावा भरी गर्मी में भी शहर के मोहल्लों से मेंटेनेंस के नाम पर बिजली काटी जा रही है। महूपुरा के सिद्धार्थ मित्तल ने बताया कि दो से चार बजे तक गर्मी तेज रहती है और ऐसे में मोहल्ले की लाइट 2 घंटे बंद रही।
कंपनी के जेई बलराज तिवारी का कहना है कि उपभोक्ता के बिल सुधारे जा रहे हैं, यह मामले अभी दोनों नहीं आए हैं। सामने आने पर अगर गलत पाए गए तो सुधारा जाएगा। बारिश का सीजन पास है इसलिए टीम द्वारा मेंटेनेंस द्वारा किया जा रहा है। मेंटेनेंस नहीं होने पर उपभोक्ता को ज्यादा परेशानी होगी। ऑफिस में दोपहर में कर्मचारी को घबराहट होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिनकी तबीयत अभी अच्छी है।

71 यूनिट खपत और बिजली का बिल 2860 
ज्योति नगर वार्ड क्रमांक 26 में राधा सत्संग व्यास के पीछे रहने वाले ताराचंद कन्हैयालाल देशवाल कमाई का बिल 71 यूनिट का 2860 दे दिया गया है। जबकि 71 यूनिट का अप्रैल का बिल 450 रुपए आया था। इसे सब्सिडी में ठीक करवाने पर 350 माफ हुआ और 100 रुपए लगे थे। इनका पिछला कोई भी बिल बकाया नहीं था जो इस बिल में बकाया भी बताया जा रहा है। जब वे बेरछा रोड पर एमपीईबी के ऑफिस गए तो उचित जवाब देने वाला नहीं मिला सीएम हेल्पलाइन पर नंबर लगाया तो कोरोना के अलावा और कोई समस्या लेने से मना कर दिया।
दो घंटे लाइन मंे लगे फिर भी निवारण नहीं हुआ
त्रिलोक चंद्र राव का है जो वार्ड क्रमांक 28 में रहते हैं। उनके घर में तीन एलईडी है वह दो पंखे और एक टीवी चलता है। जनवरी में 99, फरवरी में 42, मार्च में 42, अप्रैल में 53 यूनिट बनी। इसका बिल 100 रु आया। जबकि अभी बिना रीडिंग के किए बिल में 472 यूनिट बना दी। इसका बिल 3963 रुपए दिया है और पिछला बकाया 94 रुपए बताया जा रहा है। बेरछा रोड पर यह भी देर घंटे तक लाइन में लगने के बाद इनके बिल का निवारण नहीं हो सका।

खौफ : कर्मचारी की तबीयत बिगड़ी, कोरोना के संदेह में दफ्तर बंद कर दिया

कोरोना का लोगांे के बीच कितना खौफ है, इसका ताजा उदाहरण सोमवार को बेरछा रोड स्थित बिजली कार्यालय में दिखा। यहां बिल में सुधार करने वाले एक कर्मचारी की अचानक तबीयत खराब हो गई। आंखें लाल होकर वह अचानक कुर्सी से नीचे गिर पड़ा। इसके बाद कंपनी कार्यालय में हडकंप मच गया। ताबड़तोड़ दोपहर 3 बजे पूरा दफ्तर बंद कर दिया गया।
कर्मचारियांे ने उक्त कर्मचारी को कोरोना के लक्षण समझकर एहतियात के तौर पर कार्यालय को बंद किया। इधर, ताबड़तोड़ बीमार कम्प्यूटर ऑपरेटर मनीष शास्त्री को जिला अस्पताल भेजा गया। अस्पताल में उसका उपचार किया गया। कर्मचारियों ने बताया कि वह आदित्य नगर में अकेले ही रहते हैं। इसलिए टिफिन नहीं आने के कारण 2 दिन से बाजार से तली हुई चीजें खा रहे थे। इधर, कंपनी में कार्यरत अन्य कर्मचारियों ने कहा कि उसे सर्दी भी हो रही है। ऐसे में कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर उसे अस्पताल भेजा गया। हालांकि कुछ कर्मचारी डिहाइड्रेशन की बात कह रहे थे। बावजूद डॉक्टरों ने उसे होम क्वारेंटाइन रहने की सलाह दी है।
अन्य कर्मचारी भी सकते में : उक्त कर्मचारी की तबीयत खराब होने के बाद कंपनी के अन्य कर्मचारी भी घबराए हुए नजर आए। खासकर उक्त कर्मचारी के संपर्क में आने वाले अन्य कर्मचारी एक दूसरे से उसका हाल जानने का प्रयास करते रहे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना