पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दगाबाज दोस्त:एटीएम हड़पा फिर ओटीपी के लिए मोबाइल की जरूरत पड़ी तो कर दी धर्मेंद्र की हत्या

शाजापुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मामले का खुलासा करते एसपी श्रीवास्तव।
  • खुलासा : हत्या के अगले ही दिन 10-10 हजार रु.निकाले, यहीं से पुलिस को मिला था पहला सुराग, दो गिरफ्तार
Advertisement
Advertisement

मोबाइल पर जुआ खेलने की लत ने युवकों को अपने ही दोस्त का हत्यारा बना दिया। पहले एटीएम कार्ड हड़प लिया, इसके बाद ओटीपी के लिए मोबाइल चुराने के लिए शराब पिलाई और मौका मिलते ही नायलोन की रस्सी से गला घोट दिया। शनिवार को कोतवाली थाने में ऐसे ही तथ्यों के साथ एसपी पंकज श्रीवास्तव ने ग्राम धाराखेड़ी निवासी धमेंद्र की हत्या का खुलासा किया। पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश कर रिमांड मांगा है।

एसपी श्रीवास्तव ने बताया कि धर्मेंद्र पाटीदार की हत्या की योजना उसी के गांव के कमल पिता भेरूलाल प्रजापति (24), रामेश्वर पिता श्रीराम सौराष्ट्रीय (22) ने बनाई थी। दरअसल दोनों ही आरोपी युवकों को मोबाइल पर ड्रीम इलेवन गेम खेलने की लत लग गई थी। इसके चक्कर में कमल पर 2 लाख और रामेश्वर पर 60 हजार रुपए का कर्ज हो गया। कर्ज चुकाने की जुगाड़ लगाने के दौरान आरोपियों को पता लगा कि धर्मेंद्र ने बैंक आॅफ इंडिया के खाते में 2 लाख रुपए जमा कराए थे। दोनों ने उसका एटीएम हड़प लिया, लेकिन एटीएम काे एक्टिव करने के लिए ओटीपी की जरूरत पड़ी तो योजना बनाकर हत्या कर दी।

इधर मामले के खुलासे के दौरान टीम में शामिल लालघाटी थाना और साइबर सेल प्रभारी मनीष दुबे ने बताया कि धर्मेंद्र की हत्या के दो दिन बाद आरोपियों ने उसके एटीएम कार्ड से 10-10 हजार रुपए निकाल लिए। इसकी भनक पुलिस को तब लगी जब धर्मेंद्र के उक्त खाते की जानकारी बैंक से मांगी गई। मामले में पुलिस ने यहीं से आरोपियों को शंका के दायरे में ले लिया था।

इनकी रही भूमिका : खुलासा करने के लिए एसपी श्रीवास्तव ने एएसपी आरएस प्रजापति और एसडीओपी एके उपाध्याय के नेतृत्व में टीम बनाई। इसमें कोतवाली थाना प्रभारी अजीत तिवारी, लालघाटी थाना प्रभारी मनीष दुबे, एसआई मोहरसिंह बघेल, प्रेमलता खत्री, आरक्षक प्रदीप सिकरवार, कृष्णपाल सिंह, कपिल नागर, जसवंत जाटव, योगेंद्र गुर्जर, रामपालसिंह, अनिल सक्सेना, राजेश दांगी आदि शामिल थे।

यह स्पष्ट नहीं : आरोपियों को एटीएम कैसे मिला
आरोपियों के पास धर्मेंद्र का एटीएम कैसे पहुंचा, एटीएम को पहली बार एक्टिव करने के लिए जरूरी जानकारी कहां से मिली आदि बातों का पुलिस खुलासा नहीं कर पाई। वहीं यदि केवल ओटीपी के लिए मोबाइल की जरूरत थी तो ऐसा क्या हुआ कि आरोपियों ने धर्मेंद्र को मौत के घाट ही उतार दिया। इन सभी बिंदुओं को लेकर कोतवाली टीआई ने बताया विवेचना के दौरान सारी जानकारी सामने आ जाएगी।

हत्या से पहले धर्मेंद्र को जमकर शराब पिलाई
आरोपियों द्वारा पुलिस को दी गई जानकारी के अनुसार हत्या से पहले धर्मेंद्र, कमल और रामेश्वर तीनों धर्मेंद्र के खेत पर पहुंचे। यहां दोनों ने धर्मेंद्र को नशे में धुत कर दिया। इसके बाद नायलोन की रस्सी से गला घोट दिया। वारदात के दौरान धर्मेंद्र की नाक और कान से खून भी निकला, जिसे कमल ने कपड़े से पोंछकर मृतक की जेब से मोबाइल निकाल लिया।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement