पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

यात्रीगण परेशान:असुविधा, साबरमती एक्सप्रेस व अन्य ट्रेनों के स्टॉपेज बंद होने से बेपटरी हुई 250 लोगों की जिंदगी

शाजापुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गुस्साए लोग बोले- अब यहां हर ट्रेन को रुकना होगा, विभिन्न समाजिक संगठन हुए एकजुट, आप और कांग्रेस ने भी मोर्चा खोला

जिला मुख्यालय पर रेल सुविधाओं का खात्मा होने के साथ अब पूरा शहर सड़क पर उतरने को तैयार है। शनिवार को ब्राह्मण समाज ने स्थानीय स्टेशन पहुंच न सिर्फ साबरमती ट्रेन के स्टापेज, बल्कि शहर से गुजरने वाली हर ट्रेन को रोकने का मन बना लिया।

क्याेंकि स्टेशन राेड से लेकर धोबी चौराहे और टंकी चौराहे के 200 से ज्यादा व्यापारी और ऑटो चालकों की इसी स्टेशन से रोजी रोटी जुड़ी हुई है। ऐसे में बीते 11 माह से बंद पड़ी रेल सुविधाओं के कारण उनके जीवन यापन करने में मुश्किलें आने लगी है। इसे देखते हुए ब्राह्मण समाज ने ट्रेनों के स्टापेज नहीं होने की स्थिति में उग्र आंदोलन की चेतावनी भी दे डाली। शनिवार को ट्रेनों की सुविधाओं को पुन: बहाल करने के लिए सर्व ब्राह्मण समाज के युवा और वरिष्ठ सदस्य स्थानीय रेलवे स्टेशन पहुंचे।

यहां समाज के वरिष्ठ दिनेश तिवारी के साथ समाज अध्यक्ष विनीत वाजपेयी और युवा अध्यक्ष ललित तिवारी ने स्टेशन अधीक्षक आर.सी. मीणा से चर्चा करते हुए साफ कह दिया कि यह केवल साबरमती ही नहीं, अब शहर से गुजरने वाले हर ट्रेनों का रुकना होगा। क्योंकि यह जिला मुख्यालय है। यहां सरकारी से लेकर व्यक्तिगत कामों के लिए कई लोग आना-जाना करते हैं। इस अवसर पर समाज के महेंद्र शर्मा, आशुतोष शर्मा, संजय त्रिवेदी, महिला शाखा अध्यक्ष सीमा शर्मा, उमा शर्मा, कौटिल्य जोशी, महेंद्र आचार्य, हरीश व्यास आदि मौजूद थे।

वैश्य समाज भी आया आगे
वैश्य महासम्मेलन जिला इकाई शाजापुर ने भी स्टेशन पर पहुंचकर एक ज्ञापन दिया। इसमें शहर से गुजरने वाली ट्रेनों के स्टापेज की मांग की गई। ज्ञापन में बताया कि ट्रेनों के स्टापेज नहीं होने से बोर्डिंग मक्सी और ब्यावरा से करना होगा। इससे आर्थिक परेशानियों के साथ समय की बर्बादी भी होगी। इस अवसर पर कमल माहेश्वरी, मनोज नारोलिया, महेंद्र कोठारी, गुलाब गुप्ता, संजय गुप्ता, गायत्री विजयवर्गीय, मिथिलेश माहेश्वरी, रीता गुप्ता, मनीष माहेश्वरी आदि उपस्थित थे।

कई परिवारों का रोजगार छिना
रेल मुद्दों के लिए लड़ने वाले किशोरसिंह दरबार ने ट्रेनों के स्टापेज को लेकर जानकारी जुटाना भी शुरू कर दिया है। दरबार ने स्थानीय रेलवे स्टेशन के केंटिंग से लेकर स्टेशन रोड, धाेबी चौराहे, टंकी चौराहे और ऑटो चालकों से जानकारी जुटाई तो बड़ी बात यह सामने आई कि ट्रेनों के आवागमन से 200 से ज्यादा परिवारों की रोजी रोटी जुड़ी हुई है। ऑटो चालक संतोष राठौर ने बताया कि स्टेशन पर 25 से 30 ऑटो हर ट्रेन पर सवारियां लाने ले जाने के काम से जुड़े हुए हैं। ऐसे करीब 120 से ज्यादा ऑटो चालकों का परिवार भी इसी स्टेशन से जुड़ा है।

फोन लगाकर बताई शहर की समस्या
पूर्व नपा अध्यक्ष प्रतिनिधि क्षितिज भट्ट ने ज्योतिरादित्य सिंधिया से फोन पर चर्चा कर शहर की रेल सुविधाओं के बारे में जानकारी दी। इस पर सिंधिया ने भी आश्वस्त किया कि सुविधाओं का खात्मा नहीं होने देंगे। इधर, कांग्रेस के आशुतोष शर्मा ने भी विधायक हुकुमसिंह कराड़ा को फोन के माध्यम से रेल की असुविधाओं को लेकर अवगत कराया। इस पर विधायक कराड़ा ने भी जल्द ही इस मुद्दे पर बड़ा कदम उठाने की बात कही।

भूख हड़ताल करेगी आप, रेल मंत्री को किया ट्वीट
रेल सुविधाओं का खात्मा होने के बाद अब शहर के आम आदमी के साथ अब राजनीतिक संगठन भी जुड़ते जा रहे हैं। शुक्रवार को आप पार्टी के जीयालाला ने न सिर्फ रेल मंत्री पीयूष गोयल को ट्वीट कर उनके इस निर्णय को गलत बताया, बल्कि यह भी कह दिया कि शहरवासियों को यदि जल्द ही रेल सुविधाएं नहीं मिलेगी तो वे अपने सभी कार्यकर्ताओं और शहर के लोगों के साथ भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे।

कांग्रेस का धरना प्रदर्शन कल, तैयारी पूरी
इधर, कांग्रेस ने भी शाजापुर जिला मुख्यालय पर खात्मे की ओर अग्रसर रेल सुविधाओं को पुन: बहाल करने के लिए धरना प्रदर्शन करने की तैयारी कर ली है। ब्लाॅक कांग्रेस अध्यक्ष इरशाद खान ने बताया कि आमजन की समस्याओं से जुड़े इस मुद्दे पर लड़ने की तैयारी कर ली है। सोमवार को कांग्रेस के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में स्टेशन पहुंचकर ज्ञापन सौंपेंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें