अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी:बिजली अधिकारी-कर्मचारियों ने कहा- मांग नहीं मानी तो 13 को काम पर ही नहीं आएंगे

शाजापुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

संयुक्त मोर्चा के तत्वावधान में शनिवार काे एक दिवसीय कार्य बहिष्कार के कार्यक्रम के तहत बेरछा रोड स्थित कार्यालय के प्रांगण में सभी संगठनों के पदाधिकारी एवं सदस्य एकत्रित हुए। इसमें निजीकरण के विरुद्ध सहित बिजली कर्मचारी समर्थन करते हुए नजर आए। बिजली सुधार अधिनियम 2021 निजीकरण का विरोध, केंद्र के समान महंगाई भत्ता, संविदा कर्मचारियों का नियमितीकरण, ठेका श्रमिकों का संविलियन एवं कोरोना काल में मारे गए कर्मचारियों को 50 लाख की आर्थिक सहायता दिए जाने की मांगें रखी गई।

जूनियर इंजीनियर एसोसिएशन के बलराज तिवारी ने बताया कि बिजली कर्मचारियों की वाजिब मांगों पर शासन शीघ्र ध्यान दें नहीं ताे 13 अगस्त को पूरे प्रदेश में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर कर्मचारी चले जाएंगे। इससे प्रदेश में भारी नुकसान की आशंका बनी हुई है। आज भी कर्मचारियों ने अस्पताल और जलप्रदाय में विद्युत आपूर्ति प्रदान की है। अन्य कोई भी लोकल शिकायत अटेंड नहीं की गई है। किंतु 13 अगस्त को कोई भी कर्मचारी अपने काम पर नहीं आएगा। इसकी पूरी जिम्मेदारी केंद्र और राज्य सरकार की होगी।

पावर इंजीनियर एसोसिएशन के सोमनाथ मरकाम, पश्चिम क्षेत्र बिजली कर्मचारी महासंघ के अशोक राठौड़, कोषाध्यक्ष जगदीश मीणा, उपाध्यक्ष मनोज दवे, भारतीय मजदूर संघ के जिला मंत्री हरीशचंद्र थोमरे, शाजापुर वृत के चंद्रशेखर दावरे, महेंद्रसिंह सिसाैदिया, राजू जेजुरीकर, सुरेश वर्मा, मदन राठौर एवं आउट सोर्स के महेंद्र सिंह, संदीप गोस्वामी, श्याम रावल, सुजीत डोरे संविदा कर्मचारियों सहित कर्मचारी उपस्थित हुए।

खबरें और भी हैं...