पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना है, अस्पताल नहीं:लक्षण दिखें भी तो कोविड किट के साथ घर में रहो या रैफर

शाजापुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शाजापुर | इस तरह ग्रामीणों ने कर दी अपनी सीमाएं सील। बाहरी लोगों के आने पर लगाया प्रतिबंध। - Dainik Bhaskar
शाजापुर | इस तरह ग्रामीणों ने कर दी अपनी सीमाएं सील। बाहरी लोगों के आने पर लगाया प्रतिबंध।
  • चार गांवों में ही संदिग्ध मौत का आंकड़ा पहुंचा 100 के आसपास

शहरी क्षेत्र में नियंत्रित हुआ संक्रमण अब ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी से फैल रहा है। जिले की 326 पंचायतों के 574 गांव में 1982 संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं। इनमें छोटे नगरीय क्षेत्र अलग हैं। यदि उन्हें जोड़ दिया जाए तो यह आंकड़ा और अधिक बढ़ सकता है। ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण की रफ्तार जांचने भास्कर ने शाजापुर ब्लॉक के महज चार गांवों में सर्वे किया तो भयावह तस्वीरें सामने आने लगी।

क्योंकि इन चार गांवों में ही संदिग्ध मौत का आंकड़ा 100 के आसपास पहुंच गया। शाजापुर, मोहन बडाेदिया, शुजालपुर और कालापीपल ब्लॉकों में कोरोना इलाज की व्यवस्था भी ज्यादा अच्छी नहीं दिखाई दी। कहीं पर कोविड वार्ड ही नहीं है तो जहां है वहां आॅक्सीजन की कोई व्यवस्था नहीं।

ऐसे में संक्रमण की चपेट में आए मरीज इलाज के लिए शाजापुर और शुजालपुर के सरकारी अस्पतालों पर ही निर्भर हैं। इसके चलते इन अस्पतालों में अचानक से मरीजों की भीड़ बढ़ जाने से यहां की व्यवस्था भी चरमरा गई थी।
गांव का आइसोलेशन : बाहरियों पर रोक
जिला मुख्यालय से करीब 14 किलोमीटर दूर ग्राम तिलावद गोविंद साढ़े चार हजार आबादी वाले गांव में भी संक्रमण का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। यहां भी एक माह में 20 से 25 लोगों की मौत संदिग्ध बताई जा रही है। पूर्व सरपंच रामप्रसाद चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि संक्रमण पूरी तरह गांव में फैला हुआ है।

हर घर परिवार में कोई न कोई बीमार है। किसी की संक्रमण से मौत तो किसी की संदिग्ध मौत हो रही है। संक्रमण से बचने के लिए ग्रामीणों द्वारा अपनी सुरक्षा के इंतजाम करते हुए मोहल्ले स्तर पर लकड़ी से क्षेत्र को सील कर दिया, ताकि गांव में अन्य बाहरी व्यक्ति ना आ पाए।
लगातार मौतें... जांच के बिना सब संदिग्ध
जिला मुख्यालय से 10 किमी दूर ग्राम हिरपुरटेका में संक्रमण सबसे ज्यादा डराने वाला दिखाई दिया। यहां 12 अप्रैल से ग्रामीणों की मौत होना शुरू हुई, पहले तो लोग इसे सामान्य समझ रहे थे। लेकिन एक के बाद एक हर दिन मरने वालों का सिलसिला चलता रहा। गांव के महेश सोलिया ने बताया कि कभी 2 तो किसी दिन 3 की सांसें थम गई।

अब वे हर दिन अपनी डायरी में मरने वालों की जानकारी नोट करने लगे, बीते एक माह में इस गांव में करीब 26 ग्रामीणों की संदिग्ध मौत का आंकड़ा सामने आया है। सोलिया के अनुसार गांव का एक ऐसा भी परिवार सामने आया, जिसके 5 सदस्यों की मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें