अन्नदाता ही भाग्य विधाता / मेहनत की कमाई किसानों की जेब में, इनसे ही बाजार को आस 11 दिन में 12 करोड़ के ट्रैक्टर बिके, इलेक्ट्रॉनिक बाजार में भी बूम

Hard-earned money in the pockets of farmers, the market sold 12 crore tractors in these 11 days, boom in electronic market also
X
Hard-earned money in the pockets of farmers, the market sold 12 crore tractors in these 11 days, boom in electronic market also

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 05:00 AM IST

शाजापुर. लॉकडाउन के कारण दो माह तक पूरी तरह बंद रहने वाली दुकानें खुलते ही इस बार किसानों की मेहनत ने चारों तरफ से निराश मार्केट में नई जान डालने का कमाल कर दिया। मेहनत कर अनाज के भंडार भरते ही 400 करोड़ रुपए उनके खाते में आए और किसानों ने चिंता में पड़े व्यापारियों को चेहरे पर फिर से मुस्कान ला दी। खासकर ऑटो मोबाइल, इलेक्ट्रानिक व सराफा बाजार में पिछले साल से भी बेहतर कारोबार शुरू हो गया। 
ज्ञात रहे 25 मार्च को लॉकडाउन लागू होते ही पूरा मार्केट बंद हो गया। लगातार दो माह तक लॉक रहने के बाद 20 मई से व्यापारियों ने दुकानें खोली। हालांकि कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच कारोबार को लेकर व्यापारियों में निराशा देखने को मिली, लेकिन जिले के किसानों ने सुनसान मार्केट में जान डालते हुए कारोबार को भी तेजी से आगे बढ़ा दिया। स्थिति यह रही कि पिछले साल पूरी मई माह में जितना कारोबार हुआ था, उतना कारोबार 20 मई से 31 मई कुल 11 दिन में ही हो गया। यानी लोगों ने कोरोना के खतरे से डरने के बजाए उससे बचते हुए कारोबार को फिर तेजी से आगे बढ़ा दिया। 
अन्नदाताओं का इसलिए सबसे अहम रोल : शाजापुर जिले के किसानों ने इस साल जी तोड़ मेहनत करते हुए जिलेभर के गोदामों को गेहूं से भर दिया। इतना अनाज पैदा किया कि गोदाम में भी जगह कम पड़ गई। 55 हजार से ज्यादा किसानों ने सिर्फ सरकार को ही 1300 करोड़ रुपए के गेहूं बेच दिए। इनमें से 450 करोड़ रुपए सरकार ने किसानों के खाते में ही डाल दिए। इधर, खुली मंडी में भी अनाज का कारोबार शुरू हो गया और किसानों को मिले अनाज के पैसे सीधे मार्केट में आना शुरू हो गए। 
दिखने लगी रौनक...दो माह छोड़ दें तो पिछले साल से बेहतर कारोबार शुरू, 8 बाइक शोरूम पर हर दिन 4 लाख से ज्यादा का कारोबार

सबसे ज्यादा ट्रैक्टर कारोबार : 11 दिन में 12 करोड़ के ट्रैक्टर बिके
20 कई के बाद मार्केट खुलते से ही किसान शोरूम पर पहुंचे और उपज के पैसे मिलते ही नया ट्रैक्टर खरीद लिया। स्थिति यह रही कि सिर्फ महिंद्रा ट्रैक्टर के शाजापुर, आगर और राजगढ़ जिले के शोरूम से हर दिन 15-17 ट्रैक्टर बिके। महिंद्रा ट्रैक्टर डीलर अनूप राठी ने बताया कि लॉकडाउन के बाद 31 मई तक तीनों जिले में मिलाकर 175 ट्रैक्टरों की बिक्री हुई। इसके अलावा अन्य शोरूम से मिलाकर 25 ट्रैक्टर को जोड़ें तो अब तक 200 ट्रैक्टर की बिक्री हो गई। एक ट्रैक्टर की कीमत औसतन 6 लाख है। ऐसे में 11 दिन में 12 करोड़ के ट्रैक्टर बिके हैं, जो पिछले साल की तुलना लगभग डेढ़ गुना है। 

सराफा : स्टॉक में रखे माल से ही कारोबार, भाव में तेजी से ग्राहकी सामान्य
शहर के सराफा बाजार में भी पहले की तरह ही ग्राहकी शुरू हो चुकी है। किसानों के पास पैसे आते ही यहां के व्यापारियों की उधारी भी वापस आने लगी है। इधर, बाहर से माल नहीं आ पाने के कारण व्यापारियों ने अब नया माल उधारी में देना बंद कर दिया। ऐसे में अब कारोबार पूरी तरह से नकदी में चल रहा है। सराफा एसोसिएशन अध्यक्ष राजेश सर्राफ ने बताया कि वैसे तो मार्केट सामान्य है। हालांकि संक्रमण के खतरे के बीच इतना कारोबार होना भी काफी अच्छे संकेत है। सर्राफ ने बताया कि इंदौर व अन्य मार्केट बंद होने से अभी स्टॉक में रखे सामान से ही कारोबार हो रहा है। 

दोपहिया : शहर में हर दिन 25 से 30 लाख रुपए का कारोबार
शहर में बाइक के 8 शोरूम हैं। इन दिनों इन शोरूम पर ग्राहकों की भीड़ बढ़ने लगी है। प्रति शोरूम औसतन 7-10 बाइकों की बिक्री होने लगी है। औसतन हर शोरूम से 4 लाख रुपए का कारोबार होने से हर दिन जिले में 25 से 30 लाख रुपए का कारोबार शुरू हो गया। हालांकि ये पिछले साल जैसा ही है। हीरो बाइक के डीलर क्षितिज भट्ट बॉबी ने बताया कि शाजापुर शोरूम से हर दिन 6-7 बाइकें बिकने लगी है। वैसे ये कारोबार पिछले साल की तरह ही है। ग्राहकी देख आगे भी अच्छे कारोबार ही उम्मीद है। यदि लॉकडाउन के दो माह को छोड़ दें तो कारोबार ठीक है। 

इलेक्ट्रानिक : एयर कंडीशनर से लेकर कूलर और फ्रिज की मांग बढ़ी 
लॉकडाउन खुलते ही पहले दिन से ही इलेक्ट्रॉनिक आइटम की दुकानों पर अच्छा कारोबार शुरू हो गया। हर दिन 1.50 से 2 लाख रुपए के सामान की खरीदी होना शुरू हो गई। सिर्फ मई के 11 दिन में ही 15 से 20 लाख का कारोबार एक-एक व्यापारी ने कर लिया। व्यापारी हेमंत सिंदल ने बताया कि गर्मी में कूलर, फ्रिज के साथ इस साल एसी की अच्छी डिमांड रही। पहले दिन से लेकर अब तक हर दिन अच्छी ग्राहकी चल रही है। पिछले साल से तुलना में भी इस साल बेहतर कारोबार शुरू हुआ है। हालांकि लॉकडाउन के दो माह का नुकसान रहेगा।


आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना