पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वैक्सीनेशन की कछुआ चाल:6 माह में 10.5 प्रतिशत ने ही लगवाई वैक्सीन, 21 से मेगा वैक्सीनेशन में 32 केंद्रों पर टीकाकरण

शाजापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ग्रामीण क्षेत्र में पहुंचे कलेक्टर ने महिलाओं से चर्चा कर वैक्सीनेशन की जानकारी दी। - Dainik Bhaskar
ग्रामीण क्षेत्र में पहुंचे कलेक्टर ने महिलाओं से चर्चा कर वैक्सीनेशन की जानकारी दी।
  • जिले की 15 लाख से ज्यादा आबादी फिर भी डेढ़ लाख ने ही दिखाई जागरूकता

कोरोना संक्रमण को मात देने के लिए 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन की चाल कछुए जैसी चल रही है। साल 2011 की जनगणना की जिले में कुल आबादी 15 लाख 12 हजार 681 में से महज एक लाख 60 हजार लोग ही डोज लग पाए हैं। इसमें 18+ के 10.43 प्रतिशत को 45 वर्ष से ऊपर के 15.46 प्रतिशत लोगों ही वैक्सीनेशन केंद्र तक पहुंचे, जिन्होंने वैक्सीन लगवाई।

अब मेगा वैक्सीनेशन की तैयारियों में जुटा प्रशासन आबादी के बड़े वर्ग को वैक्सीनेशन का दावा कर रहा हैै। इसके लिए जिले में 32 केंद्रों के साथ बुजुर्गों और दिव्यांगों के लिए दो अलग मोबाइल टीके वाहन भी चलाएगा। वैक्सीनेशन को लेकर फ्रंटलाइन और हेल्थ वर्कर जैसी जागरूकता आम लोगों में नहीं दिखाई दे रही है।

इन दोनों श्रेणियों में वैक्सीनेशन का प्रतिशत 80 से 90 के बीच रहा। जबकि फ्रंट लाइन और हेल्थ वर्कर के वैक्सीनेशन के बाद 60 साल के आयु वर्ग के लोगों को 1 मार्च तो 45 वर्ष के लोगों को 1 अप्रैल और 18+ को मई से टीकाकरण शुरू किया था। इस पूरी अवधि में 1 लाख 11 हजार 715 लोगों को पहला डोज तो 48 हजार 285 दूसरे डोज लगा।

वैक्सीनेशन को लेकर सबसे ज्यादा भ्रांतियां ग्रामीण क्षेत्रों से सामने आ रही है। इसके चलते अब कलेक्टर दिनेश जैन भी गांवों के भ्रमण पर निकल पड़े हैं। गत दिनों खरेली गांव के लोग उन्हीं की समझाइश के बाद टीकाकरण के लिए राजी हुए।
ये दो बड़े कारण : पोर्टल पर स्लाॅट बुक नहीं होने के साथ वैक्सीन की कमी
वैक्सीनेशन की इसी धीमी चाल के पीछे दो बड़े कारण सामने आए। पहला रजिस्ट्रेशन कराने के दौरान पोर्टल पर स्लाॅट बुक नहीं हो रहे तो जिनका रजिस्ट्रेशन हो गया, उन्हें टीकाकरण का दिन पता नहीं चलता। वहीं दूसरी ओर एक बड़ी परेशानी वैक्सीन के स्टाक को लेकर भी सामने आई। बीते सप्ताह में ही तीन दिनों तक वैक्सीन नहीं मिलने के कारण टीकाकरण बंद रहा।
अब वैक्सीनेशन के लिए मेगा प्लान
कलेक्टर दिनेश जैन के अनुसार वैक्सीनेशन को लेकर लगातार जागरूकता बढ़ाई जा रही है। इसे लेकर 21 जून से जिले के 32 केंद्रों पर वैक्सीनेशन किया जाएगा। साथ ही दो मोबाइल वैन भी रहेगी, जिसमें एक डाॅक्टर व स्टाफ तैनात किया जाएगा। जो वृद्ध और दिव्यांग जो केंद्रों पर नहीं पहुंच पा रहे हैं, उन्हें टीका लगाएगी। 21 जून को एक ही दिन में 9 हजार तो अगले दो तीन दिनों में 6-6 हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा है।
विभागीय अनुमति और योजनाओं का लाभ लेने के लिए प्रमाण पत्र जरूरी
जिला प्रशासन ने नए प्लान के तहत अब विभागीय अनुमति व योजनाओं का लाभ लेने के लिए वैक्सीनेशन के प्रमाण पत्र को जरूरी करने की योजना बनाई जा रही है। कलेक्टर जैन ने बताया कि लोगों को अपनी खुद की सुरक्षा के लिए वैक्सीनेशन कराना चाहिए, पर ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों में जागरूकता कम दिखाई दे रही है।

खबरें और भी हैं...