पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

फास्टैग में गड़बड़ी:एसबीआई के फास्टैग में गड़बड़ी, टोल बैरियर से निकले बिना ही वाहनों के फास्टैग से कट रहे रुपए

शाजापुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • टोलकर्मी से लेकर बैंक अफसर तक कोई जवाब देने को तैयार नहीं, टोल फ्री नंबर पर भी संतोषजनक जवाब नहीं देते

फोरलेन निर्माण के बाद मक्सी-शाजापुर के बीच लगे टोल बैरियर के मामले में फास्टैग की नई परेशानी सामने आई है। एसबीआई के फास्टैग लगे कई वाहन टोल से निकले ही नहीं और उनके खाते से रुपए कट गए। बगैर वाहन निकाले रुपए कटने के मामले में टोलकर्मी से लेकर बैंक अधिकारी तक कोई जवाब देने को ही तैयार नहीं है। टोल टैक्स चुकाने के लिए केंद्र सरकार ने फास्टैग की अनिवार्यता तो कर दी, लेकिन इनमें आ रही तकनीकी गड़बड़ियांको दुरुस्त करने के लिए स्थानीय स्तर पर कोई जिम्मेदार नहीं है। नकद भुगतान करने वाले के लिए सिर्फ एक ही काउंटर चालू रखने व ज्यादा टैक्स चुकाने से परेशान होकर जिले के सैकड़ों लोगों ने अपने वाहनों में फास्टैग लगा लिया। इनमें से एसबीआई के फास्टैग में बड़ी गड़बड़ी सामने आई।

शाजापुर के मनोज दीक्षित ने बताया कि मेरा लोडिंग वाहन एमपी-41 जीएएस-0361 घर के समीप ही खड़ा था। उसी दौरान मुझे मोबाइल पर उक्त वाहन के फास्टैग से 180 रुपए कटने का मैसेज आया। कुछ दिन बाद फिर 190 रुपए कटने का मैसेज आया।

मामले को लेकर जब मैं बैंक पहुंचा तो उन्होंने बताया कि फास्टैग से उनका कोई लेना-देना ही नहीं है। काफी मशक्कत के बाद टोल फ्री नंबर पर संपर्क करने पर उन्होंने स्थानीय एजेंट के नंबर दिए। जब एजेंट से बगैर वाहन निकाले बैलेंस कटने की पूछा तो वे भी जवाब नहीं दे सके। उन्होंने कहा ये बैंक व टोल कंपनी की गड़बड़ी है। मैंने भी इसको लेकर कई बार शिकायत की है।

फास्टैग ही बदलना पड़ा
शहर के रमेश चौहान के भी बगैर गाड़ी निकाले एसबीआई के फास्टैग से 220 रुपए रुपए कट गए। उन्हें भी टोल कर्मी से लेकर बैंक व टोल फ्री नंबरों पर कहीं भी संतोषजनक जवाब नहीं मिला। ऐसे ही शहर के जहूर भाई के एसबीआई फास्टैग से वाहन के बगैर टोल क्रास किए तीन बार बैलेंस कट गया। परेशान होकर उन्होंने एसबीआई का फास्टैग ही बंद कर दिया।

फास्टैग की तकनीकी समस्याओं का निपटारा बैंक स्तर से ही संभव

मेरा काम सिर्फ फास्टैग कार्ड बेचना है। तकनीकी समस्याओं का निपटारा बैंक व टोल कंपनी ही कर सकती है। टोल बैरियर से वाहन निकाले बगैर फास्टैग से रुपए कटने संबंधी कुछ शिकायतें मेरे पास भी आई हैं। स्थानीय लोगोंमस्या को देखते हुए मैंने फास्टैग संबंधी वाट्सएप ग्रुप पर भी मैसेज भेजकर सुधार कराने के लिए अवगत करा दिया। इसके बाद भी यदि समस्या हल नहीं होती है तो लोगांे को ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराने की समझाइश दी है।
- जैनेंद्र नागर, एजेंट फास्टैग कार्ड, एसबीआई

फास्टैग का काम निजी स्तर पर हो रहा, पर मॉनिटरिंग होना चाहिए
फास्टैग का काम प्राइवेट स्तर से हो रहा है। इसको लेकर स्थानीय बैंक स्तर से फिलहाल कुछ भी नहीं किया जा रहा है। ऊपरी स्तर से ही इसकी अलग से व्यवस्था होगी। एसबीआई के नाम से यदि फास्टैग कार्ड लगाया जा रहा है तो वाकई इसमें आने वाली समस्याओं का निराकरण करने व मॉनिटरिंग के लिए भी बैंक को अलग से सिस्टम तैयार करना चाहिए। फास्टैग संबंधी जानकारी लेकर स्थिति स्पष्ट करेंगे।
- हरीश विजयवर्गीय, चीफ मैनेजर, एसबीआई मुख्य शाखा, शाजापुर

बैंक के नाम से फास्टैग, पर अफसरों का रोल ही नहीं
वैसे तो फास्टैग एसबीआई के नाम से लगाए जा रहे हैं। बैंक पर भरोसा करते हुए लोग इसका फास्टैग वाहन पर लगवाने लगे हैं। इसका काम भी निजी स्तर पर आउटसोर्स के माध्यम से रहा है। ऐसे में स्थानीय बैंक अधिकारियों का फास्टैग से कोई लेना देना ही नहीं है। ऐसे में पीड़ित वाहन चालकों को वे ऑनलाइन शिकायत का रास्ता बता देते हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें