• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Shajapur
  • Some Umbrella Came Out With A Cloth Tied On The Mouth, Yet All Efforts Failed To Escape The Heat In The City Burning Like A Furnace.

गर्मी के तेवर:कोई छाता तो कोई मुंह पर कपड़ा बांध निकला, फिर भी भट्टी की तरह दहकते शहर में गर्मी से बचने के सारे जतन फेल

शाजापुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पैदल चलने वालों के कंठ ही सूख गए - Dainik Bhaskar
पैदल चलने वालों के कंठ ही सूख गए

जंगल विहीन शाजापुर में जिले में बीते 30 सालों में गर्मी का तापमान बढ़ता ही जा रहा है। इस बार भी भयंकर गर्मी के सामने शहर और ग्रामीण क्षेत्र के लोग पूरी तरह पस्त हो गए। पिछले दिनों नरम पड़े गर्मी के तेवर एक बार फिर कड़क हो गए।

बुधवार को अधिकतम तापमान 43.4 डिग्री तक चढ़ गया। इसके चलते दिन में शहर की सड़कों पर निकले लोगों द्वारा गर्मी से बचने के लिए जितने भी जतन किए वह सभी फेल हो गए। मौसम विशेषज्ञ सत्येंद्र धनोतिया के अनुसार आगामी दिन और अधिक गर्म होंगे। ऐसे में हवा की रफ्तार बढ़ी तो लू भी सताएगी।

मौसम विशेषज्ञ धनोतिया के अनुसार मौसम बुधवार का अधिकतम तापमान 43.4 तो न्यूनतम तापमान 25.0 डिग्री दर्ज किया। यानी एक ही दिन में अधिकतम तापमान में 1.4 डिग्री गर्मी तेज हो गई। दोपहर 12 से 3 बजे तक तो हालात यह थे कि कूलर, पंखों के सामने खड़े होने पर भी पसीना टपकना बंद नहीं हुआ।

ऐसे में लोगों ने अपने जरूरी काम निपटाने के लिए घर से बाहर निकलने के पहले किसी ने कपड़ा बांधा तो कोई छतरी लेकर निकला। पर यह सब कोई काम नहीं आया। गर्मी का सबसे ज्यादा असर तो बच्चों पर दिखाई दिया। कुछ बाइक सवार दंपती अपने बच्चों को पूरी तरह ढंककर ले जाते दिखाई दिए तो पैदल चलने वालों के कंठ ही सूख गए।

खबरें और भी हैं...