पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऑनलाइन क्लास:बीज से लेकर उन्नत कृषि उपकरणों के बारे में किसानों को बताई तकनीक

शाजापुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • किसानाें की आमदनी दाेगुना करने के लिए वैज्ञानिकों ने लगाई ऑनलाइन क्लास

2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए कृषि विज्ञान केंद्र में कृषि आदान विक्रेताओं के लिए संचालित एक वर्षीय देशी डिप्लोमा की 40वीं अंतिम बेच का समापन किया गया। कर्फ्यू के कारण क्लास का ऑनलाइन आयोजन हुआ और समापन कार्यक्रम भी ऑनलाइन किया गया।

कोर्स के प्रभारी एस.एस. धाकड़ ने बताया कृषि विज्ञान केंद्र, आत्मा परियोजना किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग शाजापुर द्वारा कृषि आदान विक्रेताओं के लिए एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स की 40वीं थ्योरी ऑनलाइन क्लास का आयोजन किया गया।

इसके मुख्य अतिथि डॉ. एस.एन. उपाध्याय, डॉ. डी.एच. रानाडे कृषि संकाय राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय ग्वालियर थे। अध्यक्षता केंद्र प्रमुख एवं प्रधान वैज्ञानिक डॉ. जी.आर. अंबावतिया ने की। अायाेजन राष्ट्रीय कृषि प्रसार संस्थान हैदराबाद एंव सिएट और भोपाल के वित्तीय सहयोग से हुअा।

कम लागत में जैविक खेती और औषधि फसलों करने की सलाह दी
कार्यक्रम में केेंद्र प्रमुख डाॅ. अंबावतिया ने कहा कि किसानाें की आमदनी 2022 तक दाेगुना करने के लिए जिले के सभी कृषि आदान विक्रेताओं का प्रशिक्षित होना जरूरी है। इससे खेती की लागत कम हो सके। साथ ही उन्होंने जैविक खेती एवं औषधि फसलों की उन्नत तकनीक अपनाने की सलाह दी।

कोर्स के प्रभारी डाॅ. धाकड़ ने इस डिप्लोमा कोर्स के उद्देश्य एवं महत्व पर प्रकाश डाला एवं साथ ही भूमि जुताई, बुवाई एवं जल संरक्षण में प्रयोग किए जाने वाले उन्नत कृषि यंत्र की जानकारी दी। ऑनलाइन प्रशिक्षण में डॉ. एस.एन. उपाध्याय संचालक विस्तार सेवाएं व डॉ. डी.एच. रानाडे अधिष्ठाता कृषि संकाय ने भी समझाइश दी।

खबरें और भी हैं...