पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

यह हैं समाज के दुश्मन:बस संचालकों का मकसद सिर्फ यात्रियों को बैठाने का, ड्राइवर और कंडक्टर भी नहीं लगा रहे मास्क

शाजापुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोविड-19 के नियमों का पालन किए बिना ही बेखौफ दौड़ रहीं बसें
  • परिवहन विभाग ने बस स्टैंड पर सिर्फ एक दिन कार्रवाई की, जब हकीकत दिखाई तो बोले- आज से फिर शुरू होगी कार्रवाई

शहर के बस स्टैंड से यात्रियों को बैठाकर इंदौर, उज्जैन सहित अन्य शहरों की यात्रा करने वाली बसें इन दिनों कोरोना बम की तरह सड़कों पर बेखौफ सरपट दौड़ रही हैं। इन बसों में यात्रियों द्वारा कोविड-19 के नियमों का पालन किया जा रहा है। बस संचालकों का तो एक ही मकसद दिखाई दिया कि कैसे भी हो बस को पूरी ठसाठस भर दी जाए। चाहे यात्रियों की जान पर ही क्यों न बन जाए। संक्रमण के वाहन के रूप में चल रही, इन बसों को लेकर जब परिवहन विभाग के अफसरों से सवाल किए तो पहले तो कार्रवाई का दम भरते दिखाई दिए लेकिन जब हकीकत से रूबरू कराया तो बोले- आज से ही नियमों का पालन नहीं करने वाली बस संचालकों पर कार्रवाई करेंगे।

बस स्टैंड से नगरवासी और बाहरी यात्रियों को अपने गंतव्य तक पहुंचाने के लिए यात्री बसें बेखौफ बिना कोविड-19 गाइड लाइन नियम का पालन किए दौड़ रही है। मंगलवार को बस स्टैंड जाने वाली बसों में आधे से ज्यादा यात्रियों ने मास्क पहनना उचित नहीं समझा क्योंकि बस के ड्राइवर और कंडक्टर भी मास्क नहीं लगा रहे तो वह उनका पालन क्यों करें। गिनती की 10 बसों को छोड़ दें तो बाकी सभी बसों में सैनिटाइजर की उपलब्धता नहीं थी और न ही मास्क लगाने की कोई निर्देश थे। संक्रमण फैलाने के लिए इन बसों में यात्रा करना ही काफी है क्योंकि तेज गर्मी में भी बसें खचाखच होती हैं, जो सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाती है।

रोज 90 बसों के 180 से ज्यादा फेरे लग रहे
संक्रमण फैलने के मुख्य कारणों में शामिल हो रही बस संचालकों की लापरवाही का असर हर दिन यात्रा करने वाले करीब 15 हजार यात्रियों पर पड़ रहा है क्योंकि शहर से इंदौर उज्जैन, आगर, सारंगपुर, शुजालपुर, देवास, सोनकच्छ, आष्टा और भोपाल के लिए हर दिन 80-90 बसें संचालित हो रही हैं। इनके दो फेरे लगते हैं। बस एसोसिएशन के सुमित नागर ने बताया बसों में बैठाने की क्षमता करीब 50 यात्रियों की होती है। इस मान से शहर से चलने वाली बसों में ही करीब 10 हजार से ज्यादा यात्री सफर करते हैं। इसके अलावा दूसरे शहरों से आने वाली बसों में भी करीब 5-7 हजार यात्री आना-जाना कर रहे हैं। ऐसे में इन बसों में नियमों का पालन नहीं होना संक्रमण को कितनी तेजी से फैलाएगा, इसका अंदाजा अफसरों को भी होगा। इसके बाद भी इसे नजर अंदाज किया जा रहा है।

सतर्कता इसलिए जरूरी...क्योंकि फिर 27 पॉजिटिव मरीज मिले
मंगलवार को प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार 92 सैंपल में से 27 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। जिले की स्थिति के अनुसार जिले में अब तक कुल 2353 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से 1941 मरीज ठीक हो गए हैं। वर्तमान में जिले में 373 मरीज पॉजिटिव हैं, जिनका उपचार चल रहा है। पॉजिटिव मरीजों में से 338 जिले में तथा 35 मरीज जिले से बाहर उपचार ले रहे हैं। जिले में अब तक कुल 26 मरीजों की मृत्यु हुई है। जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक 72125 सैंपल लिए गए हैं, जिनमें से 69154 परिणाम प्राप्त हुए हैं।

बाहर से आने वाली बसों में ज्यादा दिक्कत
शुरुआत में तो कुछ एक यात्री मास्क लगाते हुए दिखाई देते हैं, परंतु जो बस से बाहर से बस स्टैंड पर रुकती है उसकी हालत बेहद बुरी है क्योंकि वहां तो एक भी यात्री मास्क लगाता हुआ नहीं दिखता, जबकि यह बसें ज्यादातर उज्जैन और इंदौर से आ रही हैं, यहां पर अभी भी संक्रमण को लेकर हालत हमारे शहर से ज्यादा बिगड़े हुए हैं और रविवार का लॉकडाउन भी लगाया जा रहा है।
आरटीओ बोले- मैं खुद औचक निरीक्षण करूंगा
^प्रतिदिन मैं जहां भी शहर में होता हूं, वहां पर बस का निरीक्षण करता हूं। अगर कोविड-19 गाइड लाइन का संचालक पालन नहीं कर रहे तो मैं खुद औचक निरीक्षण करके कार्रवाई करूंगा।
-एपी श्रीवास्तव, जिला आरटीओ शाजापुर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने के लिए प्रयासरत रहेंगे। घर में किसी नवीन वस्तु की खरीदारी भी संभव है। किसी संबंधी की परेशानी में उसकी सहायता करना आपको खुशी प्रदान करेगा। नेगेटिव- नक...

    और पढ़ें