पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

10 साल में पहली बार नहीं चली लू:47 डिग्री तक पहुंचने वाला तापमान इस बार 43 डिग्री पर ही सिमटा, कारण

शाजापुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गर्मी में बंजर दिखाई देने वाली भैरव टेकरी पर छा रही है हरियाली - Dainik Bhaskar
गर्मी में बंजर दिखाई देने वाली भैरव टेकरी पर छा रही है हरियाली
  • रोहिणी नक्षत्र के नौ दिन भी नहीं तपे, आगे : 15-16 को तेज बारिश के आसार, 22 से 25 मई तक क्षेत्र में दस्तक देगा मानसून

पहाड़ियों से घिरे शहर के मौसम में इस साल जबर्दस्त बदलाव देखा गया। बीते 10 सालों में पहली बार लोगों को भीषण गर्मी और लू के थपेड़ों का सामना नहीं करना पड़ा, क्योंकि साल की शुरुआत जनवरी से ही पश्चिमी विक्षोभ के कारण लगातार बारिश होती रही और मौसम में नमी बरकरार रही।

सबसे बड़ा बदलाव यह देखा गया कि गर्मी में रिकाॅर्ड 47 डिग्री तक पहुंचने वाला तापमान इस बार महज 43 डिग्री पर सिमट गया, वह भी केवल तीन से चार दिन। इधर, मौसम विशेषज्ञ के अनुसार तापमान कम होने का बारिश पर कोई असर नहीं होगा, समय पर मानसून आने से अच्छी बारिश होगी। साल की शुरुआत से पश्चिमी विक्षोभ से मौसम में परिवर्तन हो रहे हैं। इसके चलते जनवरी माह से ही बेमौसम बारिश हो रही है। मई-जून में भी पहले पश्चिमी विक्षोभ से और इसके बाद दक्षिण भारत में आए तूफान ताऊ ते और यास के प्रभाव के कारण मानसून पूर्व अच्छी बारिश हाे गई।

इस समय में हुई तेज बारिश के कारण मौसम में नमी और आर्द्रता बढ़ गई। बारिश के कारण लोगों को गर्मी से राहत भी मिली। पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से हुई बारिश के बाद गर्मी ने फिर से प्रभाव दिखाया इसके बाद दक्षिण में ताऊ ते तूफान ने कहर बरपाया, लेकिन शहर को भिगोकर गर्मी से राहत दिलाई।

मौसम प्रेक्षक सत्येंद्र धनोतिया के मुताबिक बंगाल की खाड़ी से चलकर मध्यप्रदेश में 22 से 25 मई तक मानसून के आने की संभावना है, लेकिन इसके पहले 15-16 जून को प्री मानसून से तेज बारिश होने के आसार भी बन रहे हैं।

खबरें और भी हैं...