'गोल्ड' के गोलमाल का मामला:SBI में गोल्ड लोन घोटाले में वैल्यूअर लापता, बैंक सोने को बता रही नकली, ग्राहक कह रहे असली

शाजापुर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शाजापुर में भारतीय स्टेट बैंक की तीनों शाखाओं में गोल्ड लोन के नाम पर हुए घोटाले में अभी तक वैल्यूअर का पता नहीं चला है। वहीं, बैंक सोने को नकली बता रही है और ग्राहक कह रहे हैं असली सोना रखा। असली एवं नकली के चक्कर में इतने बड़े घोटाले को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। नकली सोना रखकर बैंक से गोल्ड लोन लेने के मामले में बैंक प्रबंधन, ग्राहक एवं वैल्यूअर तीनों की भूमिका सामने आ रही है, इसलिए अब एक दूसरे पर आरोप- प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है।

बैंक वैल्यूअर की मिलीभगत से हुआ पूरा खेल
बैंकों में असली के नाम पर नकली सोना गिरवी रखकर गोल्ड लोन लेने के मामले में बैंक वैल्यूअर मुकेश सोनी की भूमिका पूरी तरह से संदिग्ध मानी जा रही है। मामला सामने आने के बाद से बैंक वैल्यूअर शाखा प्रबंधकों का मोबाइल नहीं उठा रहा है और वह अभी तक गायब है। तीनों बैंकों में एक ही वैल्यूअर से सोने का मूल्यांकन करवाया गया और वैल्यूअर ने नकली सोने को असली बताकर बैंकों से गोल्ड लोन दिलवा दिया है। घोटाला सामने आने के बाद से वैल्यूअर गायब है।

पांच लाख से अधिक गोल्ड लोन पर दो वैल्यूअर
बैंकों में गोल्ड लोन का नियम है यदि कोई ग्राहक पांच लाख रुपए से ज्यादा का गोल्ड लोन ले रहा है तो सोने का सत्यापन दो वैल्यूअर से करवाना होता है, लेकिन तीनों बैंकों ने इस मामले में बड़ी चूक की और एक वैल्यूअर से ही सत्यापन कर गोल्ड लोन दे दिया।

वैल्यूअर, ग्राहक और बैंक स्टाफ की मिलीभगत से हुआ खेल
इस पूरे मामले में बैंक वैल्यूअर मुकेश सोनी, ग्राहक और बैंक स्टाफ द्वारा मिलकर नकली सोने को असली बनाकर बैंक से ऋण लिया गया और अब जब पूरे मामले का खुलासा हुआ तो गोल्ड लोन लेने वाले ग्राहक बैंक पहुंच रहे हैं और अपना असली सोना मांग रहे हैं। ग्राहकों द्वारा बैंक में गोल्ड लोन की रकम जमा करने के बाद जब उन्हें बैंक सोना लौटा रही है तो वो उसे नकली बता रहे हैं और बैंक पर ही सवाल उठा रहे हैं। बैंक प्रबंधन ग्राहक को कह रहे हैं उन्होंने नकली सोना गिरवी रखा।

ग्राहक मांग रहे असली सोना
मामला सामने आने के बाद गोल्ड लोन लेने वाले ग्राहक बैंक में पहुंच रहे हैं और असली सोना मांग रहे हैं। ग्राहक विजय राठौर ने बताया मेरा 266 ग्राम सोना बैंक में रखा हुआ था, जिसकी ब्याज सहित रकम 7 लाख 40 हजार रुपए जमा कर चुका हूं लेकिन तीन दिन हो गए मुझे मेरा सोना नहीं दिया जा रहा। बैंक मुझे जो सोना लौटा रही है, वह नकली है। वहीं, बैंक कह रही है जो सोना गिरवी रखा है, वही लौटा रहे हैं।

जांच के बाद होगी कार्यवाही
एसबीआई शाजापुर के मुख्य शाखा प्रबंधक हरीश विजयवर्गीय ने बताया कि पूरे मामले में ग्राहक, वैल्यूअर और बैंक से जुड़े लोग शामिल हैं। जांच की जा रही है, उसके बाद कार्यवाही होगी।