पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जान जोखिम में:गर्मी के अलावा ठंड और बारिश में लोग जान जोखिम में डाल करते हैं जुगाड़ की नाव से ही आना-जाना

तरानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नदी पर पुलिया न होने से टापू बने हैं सुमराखेड़ा के समीप ग्राम पंचायत नानूखेड़ा व खांडाखेड़ी

तहसील क्षेत्र के दो गांव जो चारों तरफ से टीलर नदी से घिरे होने से टापू बने हुए हैं। नदी पार करने के लिए कोई पुलिया नहीं होने से लोग जुगाड़ करके आना-जाना कर रहे हैं। जुगाड़ की नाव से आना जाना बारिश के मौसम में तो जोखिम भरा है और लोगों की मुसीबत बढ़ जाती है। आजादी के करीब सात दशक बाद भी किसी भी जनप्रतिनिधि ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।

हम बात कर रहे हैं सुमराखेड़ा के पास ग्राम पंचायत नानूखेड़ा व खांडाखेड़ी की। गांव की 5000 से ज्यादा आबादी वाले गांव के लोग जनप्रतिनिधियों, अफसरों की अनदेखी के कारण एक तरह से काला पानी की सजा भुगत रहे हैं। नदी पार करने के लिए ड्रमों से बनाई जुगाड़ से ही यहां के लोग को नदी पार कर रहे हैं। सिर्फ गर्मी के दिन में जब नदी सूख जाती है, तब ग्रामीण आसानी से यहां गुजरते हैं।

नदी में पानी नहीं होने पर पहुंची थी सुविधाएं- दोनों गांव में टीलर नदी में पानी नहीं होने पर 20 साल पहले विद्युत सप्लाई की सुविधा पहुंची थी। ग्रामवासियों ने बताया जब गांव में विद्युत पोल लगे थे। उस समय नदी में पानी नहीं होने पर वाहनों से पोलों को गांव तक पहुंचाया था।

ग्रामीणों की व्यथा उनकी जुबानी

नानूखेड़ा के 50 वर्षीय बनेसिंह गुर्जर बताते हैं कि नदी पर पुल नहीं होने से किसी के गंभीर बीमार होने या गर्भवती महिलाओं को अस्पताल ले जाने में काफी तकलीफ होती है। कोई भी जनप्रतिनिधि इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है।

खांडाखेड़ी के हरिशंकर देवड़ा (55) बताते हैं कि पुलिया नहीं होने के कारण चारों तरफ से नदी से गिरे हुए हैं। हमारे गांव से अन्य स्थान आने-जाने के लिए दो रास्ते हैं। सुमराखेड़ा या फिर महाराणा प्रताप चौराहा पिपलिया। दोनों जगह पहुंचने के लिए हमें नदी पार करना पड़ती है। पुल नहीं होने के कारण जुगाड़ की नाव से आना-जाना पड़ रहा है। इसमें हमेशा खतरा बना रहता है।

एक बार में चार व्यक्ति ही कर पाते हैं नदी पार

जुगाड़ की नाव से एक बार में 4 ही व्यक्ति नदी पार कर पाते हैं। अगर इस नाव पर ज्यादा व्यक्ति बैठ जाए तो वह पलट सकती है। किसी व्यक्ति को दो पहिया वाहन गांव की ओर लाना ले जाना है तो वाहन के साथ दो ही नदी पार कर पाते हैं।

बच्चे डाल रहे जान जोखिम में

इन दिनों गांव के बच्चे पढ़ाई के लिए ग्राम सुमराखेड़ा या उज्जैन आना-जाना करते हैं। बच्चे प्रतिदिन जान जोखिम में डालकर नदी पार कर रहे हैं और स्कूल, कॉलेज तक पहुंचते हैं। बारिश में जब नदी उफान पर रहती है, तो विद्यार्थी को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस वजह से कई विद्यार्थी स्कूल या कॉलेज नहीं जा पाते हैं।

उपचुनाव के बाद बनवाऊंगा

मामला मेरे संज्ञान में है। अभी उपचुनाव हो जाए, उसके बाद मेरा खांडाखेड़ी एवं नानूखेड़ा के ग्रामीणों से वादा है कि मैं उपचुनाव के बाद पुलिया बनवाऊंगा।

-अनिल फिरोजिया, सांसद

डीपीआर बनाने का कहा था

दोनों जगह का प्रस्ताव बनाया है और डीपीआर के लिए बोला था। मेरा प्रयास जल्द से जल्द पुल बने और दोनों गांव टापू मुक्त हो, ऐसा मेरा प्रयास रहेगा।

-महेश परमार, विधायक

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें