बंद पड़े रेलवे स्टेशन परिसर में लगे कैमरे:चोरी और असामाजिक गतिविधियों का पुलिस को नहीं मिलता सबूत, दो दिन पहले ही हुई थी चोरी

गंजबासौदा8 दिन पहले

गंजबासौदा रेलवे स्टेशन परिसर में सुरक्षा की दृष्टि से कुछ महीने पहले ही सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे। लेकिन जिस दिन से ये कैमरे लगे हैं, उससे आज तक चालू नहीं हो पाए। कैमरे चालू नहीं होने से पुलिस को स्टेशन परिसर और आस पास होने वाली असामजिक गतिविधियों पर नजर रखने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दो दिन पहले झेलम एक्सप्रेस ट्रेन में चढ़ते समय मुंह पर काला कपड़ा बांधकर आई एक युवती महिला यात्री के गले से मंगलसूत्र और हाथ से पर्स छीनकर भाग गई थी। स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरे बंद होने से पुलिस को युवती का कोई सुराग नहीं मिला।

बता दें कि रेलवे विभाग ने गंजबासौदा स्टेशन के मुसाफिर खाने, टिकट घर के सामने प्लेटफार्म 1, 2 और तीन पर अनेकों जगहों पर करीब तीन महीने पहले सीसीटीवी कैमरे लगवाए है। इन कैमरों का कंट्रोल रूम आरपीएफ चौकी में बनाया गया है। जिससे की आरपीएफ पुलिस को स्टेशन परिसर और उसके बाहर होने वाली घटनाओं पर नजर रखने में आसानी हो। लेकिन अब तक सभी कैमरे चालू नहीं हो पाए हैं। कैमरे चालू नहीं होने से इन कैमरों का लाभ न तो पुलिस को मिल रहा है और न ही स्टेशन पर आने वाले यात्रियों को मिल रहा। जानकारी के अनुसार कैमरे लगाते समय जो केबिल लाइन लगाई गई थी उसमें कुछ परेशानी आ गई है, इस वजह से ये सभी कैमरे बंद है।

डीआरएम के दौरे के समय हुए थे चालू

कुछ महीने पहले रेलवे के डीआरएम का दौरा गंजबासौदा स्टेशन पर हुआ था। उस समय स्टेशन पर लगे सभी कैमरों को चालू कर दिया गया लेकिन डीआरएम के दौरे के बाद से यह कैमरे बंद पड़े हैं। रेलवे स्टेशन से रोजाना हजारों लोग भोपाल और बीना तक अपडाउन करते हैं, ऐसे में यात्रियों की सुरक्षा को लेकर बड़ा सवाल हो रहा है।

इनका कहना है

इस संबंध में स्टेशन मास्टर एस के पाल ने बताया कि रेलवे परिसर में अभी कैमरे लगाने का काम पूरा नहीं हुआ है, इस कारण कैमरे चालू नहीं हुए हैं।

खबरें और भी हैं...