धार्मिक यात्रा:एक जुलाई को भगवान जगन्नाथ की तीन अलग अलग यात्राएं निकलेंगी, गड्ढे अब तक नहीं भरे

गंजबासौदा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण के बाद पहली बार धार्मिक यात्रा को हर्षोल्लास के तहत मनाने की कवायद शुरू हो गई है। इसी के तहत आषाढ़ की दूज पर एक जुलाई को आयोजित होने वाली भगवान जगन्नाथ रथ यात्राओं की नगर में तैयारियां प्रारंभ हो गई हैं। जिन रथों में भगवान जगदीश को विराजमान कर भ्रमण पर निकाला जाएगा। उनकी मरम्मत सफाई पुताई का कार्य शुरू हो गया है।

नगर में तीन रथ यात्राएं अलग अलग मार्ग और स्थानों से निकाली जाएंगी। रथ यात्रा के लिए बेतवा नौलखी मंदिर, सागर चौक स्थित भावसार समाज मंदिर और पंचमुखी हनुमान मंदिर पर रथों की सफाई पुताई के साथ उनको सजाने का काम चल रहा है। नौलखी मंदिर से रथ यात्रा ट्रैक्टर ट्राली में रखे सिंहासन पर आती है जबकि बेदनखेड़ी भावसार समाज चतोर मंदिर से लकड़ी के रथ पर निकाली जाती है। इस बार नया रथ बनाया है।

तीसरी यात्रा पंचमुखी हनुमान मंदिर से पांच साल पहले शुरू की गई है। वह ट्रैक्टर ट्राली को सजाकर निकाली जाती है। पक्की सड़क को मंजूरी हालांकि इस साल नाैलखी मंदिर सड़क मरम्मत कार्य को मंजूरी मिल चुकी है लेकिन आचार संहिता के चलते सड़क निर्माण के टेंडर जारी नहीं हुए। इसी मार्ग से नौलखी मंदिर से भगवान जगदीश का रथ नगर में प्रवेश करता है। मार्ग पर उभरे गड्ढों को ठीक करने का कार्य नपा ने अब तक शुरू नहीं किया जबकि आयोजन के तीन दिन बचे हैं।

सबसे पुरानी यात्रा भावसार समाज की
नगर में सबसे पुरानी जगदीश रथ यात्रा भावसार समाज द्वारा 150 साल पहले बेदनखेड़ी वार्ड क्रमांक 23 स्टेट चतोर मंदिर से प्रारंभ की गई थी। 1960 रथ यात्रा को स्टेशन क्षेत्र तक बढ़ाने से इनकार करने के बाद ब्रह्मलीन संत जगन्नाथ दास महाराज ने नाैलखी मंदिर से नवीन जगदीश रथ यात्रा का शुभारंभ किया था लेकिन बरेठ रोड बस्ती को रथ यात्रा मार्ग से जोड़ने के लिए दस साल पहले पंचमुखी हनुमान मंदिर से तीसरी नवीन यात्रा प्रारंभ की गई। इस प्रकार नगर में तीन अलग-अलग जगदीश रथ यात्राओं का शुभारंभ हुआ।

प्रसादी वितरण के लिए 12 से अधिक पंडाल लगेंगे
रथ यात्रा के दिन लोगों को प्रसाद वितरण के लिए करीब 12 स्थानों पर पंडाल लगाने की तैयारी है। इन पंडालों से यात्रा देखने आए लोगों को प्रसाद वितरित किया जाएगा। नगर में लगने वाले स्टालों से श्रद्धालुओं का प्रसाद में ही पेट भर जाता है। यह पंडाल नगर के विभिन्न धार्मिक और सामाजिक संगठनों द्वारा लगाए जाते हैं। एसडीएम रोशन राय ने बताया कि जगदीश रथ यात्रा की व्यवस्था के लिए सभी प्रबंध किए जा रहे हैं। इससे यह धार्मिक आयोजन शांति पूर्वक आयोजित हो।

ग्राम रक्षा समिति और कोटवाराें काे भी सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा मिलेगा
भीड़ और बारिश की संभावना को देखते हुए सुरक्षा के लिए ग्राम नगर रक्षा समिति सदस्यों के साथ कोटवारों को भी सुरक्षा व्यवस्था में लगाया जाएगा। साथ ही सुरक्षा बल के जवान भी लगाए जाएंगे। रथ यात्रा के दिन करीब 25 हजार से ज्यादा श्रद्धालु बाहर से आते हैं। भीड़ का फायदा अपराधी तत्व उठाने के प्रयास में रहते हैं।

मुख्य नगर पालिका अधिकारी निशान सिंह ठाकुर ने बताया कि नगर पालिका मुख्य मार्गों पर पेयजल के लिए टैंकर खड़े करेगी। इसके लिए वर्तमान में उपलब्ध टैंकरों का उपयोग किया जाएगा। रथ यात्राओं के आगे पीछे भी पेयजल व्यवस्था रहे इसका प्रयास किया जा रहा है।

यह होंगे रथ यात्राओं के मार्ग
नगर में तीन रथ यात्राओं के अलग अलग मार्ग निश्चित किए गए हैं। नौलखी मंदिर से आने वाली रथ यात्रा गांधी चौक, सदर बाजार से चल कर स्टेशन मार्ग, मील रोड होकर आएगी जबकि बेदनखेड़ी से सिरोंज तिराहा, सावरकर चौक, जय स्तंभ चौक से बरेठ होकर वापस जाएगी। इसी प्रकार पंचमुखी हनुमान मंदिर से आने वाली यात्रा बरेठ और त्योंदा रोड से होती हुई वापस बरेठ रोड मंदिरों पर पहुंचेगी।

खबरें और भी हैं...