राम नाम सत्य है...पोस्ट करने के आधे घंटे बाद मौत:ट्रक से टकराकर 10 फीट दूर गिरे; प्रेस क्लब अध्यक्ष समेत 3 की मौत

विदिशा2 महीने पहले

'व्यक्ति अकेले ही पैदा होता है और अकेले ही मर जाता है। वह अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भुगतता है। वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग में जाता है। जय जय श्री राम, राम नाम सत्य है।'

विदिशा प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेश शर्मा ने सोशल मीडिया पर ये पोस्ट की थी। इसके आधे घंटे बाद एक सड़क हादसे में उनकी और उनके दो पत्रकार साथियों की मौत हो गई। हादसा सोमवार रात भोपाल से विदिशा लौटते समय हुआ, जब उनकी बाइक ट्रक से टकरा गई।

सोमवार रात 10 बजे रायसेन जिले के सलामतपुर थाना क्षेत्र के लामाखेड़ा मोड़ पर पत्रकार की बाइक ट्रक से टकरा गई। बाइक पर तीन लोग सवार थे, तीनों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। पुलिस ने पड़ताल की तो इनकी पहचान विदिशा प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेश शर्मा निवासी खरी फाटक रोड विदिशा, सुनील शर्मा निवासी सिंधी कालोनी और नरेंद्र दीक्षित निवासी आरएमपी नगर फेस 2 के रूप में हुई।

अखबार छपवाने हर सप्ताह भोपाल जाते थे
परिजनों ने बताया कि साप्ताहिक अखबार का प्रकाशन करने वाले सुनील शर्मा, नरेंद्र दीक्षित के साथ राजेश शर्मा सुबह बाइक से भोपाल के लिए निकले थे। अखबार भोपाल में छपता था, इसलिए ये हर हफ्ते जाते थे। सोमवार को भी वे छपाई का ऑर्डर देने के लिए गए थे।

विदिशा प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेश शर्मा ने हादसे से पहले फेसबुक पर यह पोस्ट की थी। इसके तीन घंटे बाद ही रायसेन में उनका एक्सीडेंट हो गया।
विदिशा प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेश शर्मा ने हादसे से पहले फेसबुक पर यह पोस्ट की थी। इसके तीन घंटे बाद ही रायसेन में उनका एक्सीडेंट हो गया।

10 फीट दूर उछलकर गिरी बाइक
विदिशा सनातन हिंदू उत्सव समिति के अध्यक्ष शैलेंद्र राजपूत ने बताया कि वह भी उसी रास्ते से गुजर रहे थे। हादसा इतना भीषण था कि टक्कर के बाद बाइक उछलकर करीब 10 फीट दूर जा गिरी। ट्रक ड्राइवर फरार हो गया। एक शव घटनास्थल से करीब 10 फीट दूर पड़ा था। तीनों शवों को सांची अस्पताल लाया गया। पोस्टमॉर्टम के बाद शवों को विदिशा प्रेस क्लब लाया गया। यहां सभी ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इनमें से राजेश शर्मा का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव में हुआ, जबकि अन्य दोनों मृतकों की अंत्येष्टि विदिशा के मुक्तिधाम में की गई।

राजेश शर्मा, सुनील शर्मा और नरेंद्र दीक्षित एक ही बाइक पर सवार होकर भोपाल से विदिशा लौट रहे थे।
राजेश शर्मा, सुनील शर्मा और नरेंद्र दीक्षित एक ही बाइक पर सवार होकर भोपाल से विदिशा लौट रहे थे।

राजेश शर्मा का डेढ़ साल का बेटा

  • प्रेस क्लब अध्यक्ष राजेश शर्मा विदिशा के अरिहंत विहार में रहते थे। उनके परिवार में पत्नी और चार बच्चे हैं। सबसे छोटा बेटा डेढ़ साल का है। शर्मा दूसरी बार प्रेस क्लब अध्यक्ष बने थे।
  • डंडापुरा निवासी सुनील शर्मा साप्ताहिक अखबार चलाते थे। वह मूलत: वर्धा के रहने वाले थे। परिवार में बेटा-बेटी और पत्नीं हैं। पत्नी टीचर हैं। बेटा इंदौर में रहकर पढ़ाई कर रहा है, जबकि बेटी विदिशा में ही पढ़ रही है।
  • मृतक नरेंद्र दीक्षित भी साप्ताहिक अखबार चलाते थे। वे बाय रामद्वारा में अपने परिवार के साथ रहते थे। उनके दो बच्चे हैं।
सांची अस्पताल में सुबह पीएम के बाद राजेश शर्मा की पार्थिव देह को प्रेस क्लब लाया गया। यहां उनके जानने वालों ने श्रद्धांजलि दी।
सांची अस्पताल में सुबह पीएम के बाद राजेश शर्मा की पार्थिव देह को प्रेस क्लब लाया गया। यहां उनके जानने वालों ने श्रद्धांजलि दी।
प्रेस क्लब में दो मिनट का मौन रखकर तीनों पत्रकारों की आत्मा की शांति के लिए कामना की गई। तीनों का आज अंतिम संस्कार किया गया।
प्रेस क्लब में दो मिनट का मौन रखकर तीनों पत्रकारों की आत्मा की शांति के लिए कामना की गई। तीनों का आज अंतिम संस्कार किया गया।

CM ने 4-4 लाख की आर्थिक मदद की घोषणा की
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हादसे पर शोक व्यक्त जताया। उन्होंने लिखा- 'विदिशा प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेश शर्मा और पत्रकार साथी सुनील शर्मा और नरेंद्र दीक्षित की दुर्घटना में निधन का दुखद समाचार प्राप्त हुआ है। ईश्वर से दिव्यांग आत्माओं को अपने श्री चरणों में स्थान और परिजन को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं।' उन्होंने मृतक के परिवार को 4.4 लाख की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने भी घटना पर शोक जताया।