पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

विरोध:किसानों ने जालंधर-मक्खू जाने वालों को 40 किलोमीटर अिधक चलवाया, दो घंटे बर्बाद

ब्यास5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ब्यास-हरिके पुलों पर किसानों का धरना रात डेढ़ बजे तक जारी, सैकड़ों लोग हुए परेशान
  • कई लोगों ने पैदल तय कfया रास्ता, कई ट्रक चालक करते रहे धरना खत्म होने का इंतजार

सोमवार दोपहर हरिके पत्तन और ब्यास पुल पर धरना लगाकर बैठे सैकड़ों किसानों के कारण माझा से मालवा और दोआबा इलाकों को जाने वाले लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। ब्यास से जालंधर जा रहे कुछ वाहनों को पुलिस ने वाया बाबा बकाला रोड-श्री हरगोबिंदपुर तो कुछ को वाया गोइंदवाल साहिब-कपूरथला-जालंधर भेजा गया।

श्री हरगोबिंदपुर गए लोगों को छाेटा रोड होने के कारण करीब दो घंटे का अतिरिक्त सफर करना पड़ा, जबकि वाया गोइंदवाल साहिब गए लोगों को पौने दो घंटे अतिरिक्त सफर करना पड़ा। दोनों तरफ से लोगों को 40-40 किलोमीटर का अतिरिक्त चक्कर पड़ा। धरने के कारण हरिके पत्तन में बड़ी संख्या में ट्रक चालक माझा से मालवा इलाके में नहीं जा पाए। ये लोग यहीं पर ट्रक खड़े करके किसानों का धरना खत्म होने का इंतजार करते रहे, मगर यह इंतजार देर रात डेढ़ बजे तक खत्म नहीं हुआ। धरने के कारण दोनों जगह ढाई बजे के करीब वाहनों की लाइनें लग गई, जिन्हें पुलिस ने दूसरे रास्तों पर भेजा। पुलिस सारा दिन मानांवाला में तरनतारन बाईपास जीटी रोड, रईया, खडूर साहिब रोड पर नाके लगाकर ट्रैफिक को डायवर्ट करने में जुटी रही। इस बावजूद कई जगह जाम लगे।

जालंधर का ट्रैफिक रईया से आगे बाबा बकाला-हरगोबिंदपुर के रास्ते
ब्यास और हरिके पत्तन, दोनों जगह किसान 12 बजे ही काफिले के रूप में पहुंचने शुरू हुए। ब्यास में धरना डेढ़ बजे तो हरिके में एक बजे शुरू हुआ। पुलिस ने जालंधर जाने वाले वाहनों को रईया के आगे बाबा बकाला को जाते रास्ते से श्री हरगोबिंदपुर की ओर डायवर्ट किया। इस रास्ते पर भी वाहन रेंग-रेंग कर चले, जिससे समय की बर्बादी हुई।

अमृतसर से जालंधर की दूरी करीब 80 किलोमीटर है, जबकि सोमवार को लोगों को बाबा बकाला-श्री हरगोबिंदपुर या गोइंदवाल साहिब घूमकर जाना पड़ा। इन दोनों रास्तों से जालंधर करीब 120 किलोमीटर पड़ता है। जालंधर निवासी प्रवेश कुमार ने बताया कि वह सोमवार सुबह अमृतसर में अपने भाई के पास आए थे, लेकिन वापस जाते वक्त पुलिस ने उन्हें बाबा बकाला के रास्ते जाने को कहा है।

मक्खू का ट्रैफिक वाया गोइंदवाल साहिब डायवर्ट
हरिके पत्तन पहुंचे वाहनों को भी गोइंदवाल साहिब के रास्ते निकाला गया। यहां कई लोग पैदल ही जाते मिले। राहगीर नवीश और कर्ण निवासी भिखीविंड ने बताया कि वह किसी काम के लिए लुधियाना में गए थे। वापसी पर हरिके में धरना लगा मिला। इसलिए वह बंगाली वाला पुल से लेकर हरिके तक पैदल ही पहुंचे हैं। उन्हें भिखीविंड तक पैदल ही जाना पड़ेगा। यहां रोड के साइड में ट्रक लगाकर बैठे ड्राइवर गुरमिंदर सिंह ने बताया कि उसे मक्खू जाना था, लेकिन वह यहां फंस गए हैं। वहां जिस पार्टी का माल उसे ट्रक में भरना था, उसके बार-बार फोन आ रहे हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें