• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • Kartarpur Gurdwara Darbar Sahib Corridor Opened Update; Punjab CM Charanjit Singh Channi And Minister Visit Kartarpur Sahib Tomorrow

खुल गया करतारपुर कॉरिडोर:दर्शन करने पहुंची भारतीय संगत का पाकिस्तान में स्वागत, प्रसाद में मिले खजूर और मीठे चावल

अमृतसर7 महीने पहले

भारत-पाकिस्तान के बीच करतारपुर कॉरिडोर 611 दिनों के बाद बुधवार को फिर खुल गया। पहले दिन कॉरिडोर से होकर जा रहे भारतीय श्रद्धालुओं का पाकिस्तानी अधिकारियों और पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने स्वागत किया। उन्होंने पहुंचे श्रद्धालुओं को दोबारा कॉरिडोर खुलने पर बधाई दी और फूल बरसाकर अभिनंदन किया। साथ ही फूलों के हार पहनाकर स्वागत किया। वहीं गुरुद्वारा साहिब में संगत को प्रसाद में खजूर और मीठे चावल दिए जा रहे हैं।

गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन कर लौटे श्रद्धालुओं जसपाल सिंह, प्रभजोत सिंह और प्रभजोत बिंद्रा ने बताया कि वहां इंतजाम बहुत अच्छे रहे। वह पांच मिनट में ही पाकिस्तान बॉर्डर से निकल गए। उन्हें रिसीव करने खुद पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चेयरमैन पहुंचे।

करतारपुर साहिब की यात्रा पर जाने के लिए भारतीय श्रद्धालु सबसे पहले निजी वाहन या फिर राज्य परिवहन के माध्यम से डेरा बाबा नानक पहुंच रहे हैं। इसके बाद ही कॉरिडोर के जरिए करतारपुर साहिब तक जा रहे हैं। यहां श्रद्धालु इमीग्रेशन संबंधी आवश्यक वैरिफिकेशन से गुजर कर जीरो लाइन पर एंट्री पॉइंट्स को पैदल क्रॉस कर रहे हैं। पाकिस्तान में पहुंचने पर उन्हें उस पार गुरुद्वारा साहिब तक जाने के लिए विशेष वाहनों की व्यवस्था है।

श्रद्धालुओं का स्वागत करते पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सदस्य।
श्रद्धालुओं का स्वागत करते पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सदस्य।

RT-PCR रिपोर्ट न होने पर रोके गए श्रद्धालु

कॉरिडोर पर बुधवार को पहुंचे कुछ लोगों को RT-PCR टेस्ट की रिपोर्ट न होने के कारण रोक दिया गया। दिल्ली से करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शन के लिए अनुमति लेकर पहुंचे हरपाल सिंह और रविंद्रजीत सिंह ने बताया कि वह कुल 5 लोग थे, इनमें से 3 दर्शन करने चले गए हैं। उन्हें तकनीकी दिक्कत होने से रिपोर्ट न मिलने के कारण वापस भेज दिया गया। रविंद्रजीत ने बताया कि उन्होंने टेस्ट करवाया था, लेकिन रिपोर्ट किसी तकनीकी खराबी के कारण अभी नहीं आई है। यदि अभी रिपोर्ट आ गई तो दोपहर बाद दर्शन करने जाएंगे। नहीं तो गुरुवार को जाकर गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन करेंगे।

कॉरिडोर लांघ पहुंचे श्रद्धालुओं का स्वागत करते पाकिस्तान के अधिकारी।
कॉरिडोर लांघ पहुंचे श्रद्धालुओं का स्वागत करते पाकिस्तान के अधिकारी।

बुधवार को जाने वाले श्रद्धालुओं में कुछ ने गुरदासपुर जिला प्रशासन के माध्यम से आवेदन किया था। वहीं कुछ लोग दिल्ली से अनुमति लेकर डेरा बाबा नानक पहुंचे। कुल 49 लोगों को दर्शन करने के लिए कॉरिडोर से गुजरकर जाने की अनुमति है। इनमें गुरु नानक देव की 17वीं पीढ़ी के बाबा सुखदीप सिंह बेदी भी शामिल हैं।

करतारपुर गुरुद्वारे के बारे में जानें सब कुछ:अंग्रेज वकील की गलती से यह पाकिस्तान के हिस्से में चला गया, लोग यहां मवेशी बांधने लगे थे

गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लगी होने की शर्त रखी गई है। इसके अलावा लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का भी सख्ती से पालन करना होगा। आम श्रद्धालुओं को करतारपुर कॉरीडोर से दर्शन के लिए 8 से 10 दिन तक इंतजार करना होगा।

सरल बनाई जाए कॉरिडोर से जाने की प्रक्रिया

पंजाब के CM सीएम चरणजीत सिंह चन्नी अपनी कैबिनेट के साथ गुरुवार को करतारपुर साहिब के दर्शन करने जाएंगे। वहीं बुधवार को दर्शन करने गए बाबा सुखदीप सिंह बेदी ने कॉरिडोर खोलने के लिए केंद्र सरकार का आभार जताया। उन्होंने साथ ही गृह मंत्रालय से अपील की कि कॉरिडोर से जाने की प्रक्रिया को थोड़ा सरल बनाया जाए। क्योंकि जिन लोगों के पास पासपोर्ट नहीं है वह लोग इस यात्रा के माध्यम से दर्शन करने नहीं जा सकते। इस दौरान गए लोगों ने बताया कि उन्होंने गुरदासपुर जिला प्रशासन के माध्यम से मंगलवार को दर्शन करने के लिए आवेदन किया था। बुधवार सुबह ही उनके मैसेज मिला की वह दर्शन करने के लिए जा सकते हैं।

16 मार्च 2020 को रजिस्ट्रेशन बंद हुआ
16 मार्च 2020 से करतारपुर साहिब कॉरिडोर के लिए रजिस्‍ट्रेशन बंद कर दिया गया था। अब पूरे 1 साल 8 महीनों के बाद भारत के गृह मंत्रालय ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर को खोलने की अनुमति दी है। चूंकि गुरुपर्व आने वाला है, इसलिए भारत सरकार के इस फैसले से सिख संगत में खुशी की लहर है।

करतारपुर कॉरिडोर से कैसे जाएगा पहला जत्था?:गृहमंत्री के ऐलान के बाद भी नहीं शुरू हुआ ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

साढ़े चार किमी लंबा करतारपुर कॉरिडोर
करतापुर कॉरिडोर करीब साढ़े चार किलोमीटर लंबा है। इस कॉरिडोर के बनने से भारत में डेरा बाबा नानक और पाकिस्‍तान में मौजूद गुरुद्वारा दरबार साहिब सीधे जुड़ गए हैं। 9 नवंबर 2019 को इस कॉरिडोर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया था। खास बात ये है कि यहां से पाकिस्‍तान जाने के लिए वीजा की जरूरत नहीं पड़ती है।

कोविड नियमों का पालन जरूरी होगा
उन लोगों को ही पाकिस्‍तान में जाने की अनुमति मिलेगी, जिन्हें वैक्‍सीन की दोनों डोज लग चुकी है। श्रद्धालुओं को अपने साथ RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट भी ले जानी होगी, जो 72 घंटे से ज्‍यादा पुरानी न हो। दरअसल, इन दोनों चीजों के लिए पाकिस्‍तान ने भारत से अनुरोध किया था। इसके बाद भारत की ओर से करतारपुर कॉरिडोर को खोलने पर सहमति जताई गई।

पाकिस्‍तान में भी होगी एंटीजन जांच
एक बार जब श्रद्धालु पाकिस्‍तान की सीमा में दाखिल होंगे तो उनका रैपिड एंटीजन टेस्‍ट (Rapid Antigen Test ) भी वहां होगा। इसके अलावा कोई दूसरा टेस्‍ट पाकिस्‍तान में नहीं होगा। जो भी यात्री करतार साहिब जाएंगे, उन्हें उसी दिन शाम को वापस लौटना होगा।

खबरें और भी हैं...