पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

214 टू-व्हीलर 67 दिनों में चोरी:119 लोगों ने पार्किंग के रुपये 2480 बचाने के चक्कर में 42 लाख के टू-व्हीलर गंवाए,अगस्त में जुलाई से 46% ज्यादा वाहन चोरी

अमृतसर19 दिन पहलेलेखक: हरजिंदर सिंह
  • कॉपी लिंक
रणजीत एवेन्यू डी-ब्लॉक से बाइक चुराता शख्स सीसीटीवी में कैद। - Dainik Bhaskar
रणजीत एवेन्यू डी-ब्लॉक से बाइक चुराता शख्स सीसीटीवी में कैद।

जिले में महामारी की रफ्तार कम हो रही है, लेकिन वाहन चोरी का ग्राफ कोरोना से भी तेज गति से बढ़ रहा है। जुलाई में 82 दोपहिया वाहन चोरी हुए वहीं अगस्त में 46% बढ़कर यह आंकड़ा 119 पर पहुंच गया। दोनों महीनों में 201 दाेपहिया वाहन चोरी हो चुके हैं। इनमें 82 वाहन घराें से बाहर से और 119 स्कूटी-बाइक पार्किंगाें के बाहर से ही चोरी हुए।

पार्किंग के बाहर से गायब टूव्हीलकरों में सबसे ज्यादा गुरुद्वारा शहीदां साहिब के बाहर से 65 यानि 54.62% उसके बाद दरबार साहिब के इर्दगिर्द से 34 यानि 28.57% और रणजीत एवेन्यू की पार्किंग से 20 यानि 16.81% वाहन चाेरी हाे चुके हैं, जिनकी औसतन कीमत 41 लाख 65 हजार रुपए बनती है।उधर जुलाई-अगस्त में ही पुलिस ने 44 चोरी के वाहन बरामद किए हैं और 61 वाहन चोरों को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि पार्किंग के चंद रुपए बचाने और वाहन में व्हील लॉक नहीं लगाने की आदत के कारण ज्यादातर वाहन चोरी होते हैं। लोग 20 रुपए की पािर्कंग बचाने के चक्कर में 60-70 हजार रुपए का नुकसान करा लेते हैं।

बिना व्हील लॉक की स्कूटी और बाइकों को बनाते हैं निशाना
पुलिस के अनुसार चोर धार्मिक स्थल, गार्डन और पॉश एरिया की मार्केट्स में खड़े हीरो-होंडा के दोपहिया वाहनों को निशाना बनाते हैं। यहां खड़ीं ऐसी गाड़ियों को चुनते हैं जिनमें व्हील लॉक नहीं होता। कई दिन तक रेकी के बाद मौका पाते ही बाइक-स्कूटी लेकर चोर रफूचक्कर हो जाते हैं।

हैरत... बाइक चाेरी की गवाही देने काेर्ट गए शख्स की बाइक फिर चाेरी

जीटी राेड स्थित रणजीत पुरा इलाके के रहने वाले राजिंदर सिंह ने बताया कि उसकी बाइक एक साल पहले घर के बाहर से चाेरी हाे गई थी। पुलिस ने चाैथे दिन चाेर काबू कर बाइक बरामद की। बाइोक का कब्जा लेने के लिए कोर्ट से सुपुर्दगी हासिल की। बाइक ताे मिल गई, लेकिन बाइक चाेरी के मामले में कोर्ट से गवाही के समन जारी हुए। दाे-तीन बार गवाही देने गया, लेकिन गवाही पूरी नहीं हुई। 2 सप्ताह पहले गवाही देने कोर्ट पहुंचा और बाहर बाइक लगा दी। लौटकर आया तो बाइक दाेबारा चाेरी गई जिसकी चाेरी की गवाही देने अदालत गया था। एक बाइक के चाेरी हाेने की 2 बार एफआईआर दर्ज करवानी पडी।

बाइक में एक एंटी थेफ्ट अलार्म स्थापित करें...बाइक से छेड़छाड़ होते ही पता चलेगा।
डिस्क ब्रेक लॉक स्थापित करें...कांटा लॉक की तरह ही डिस्क ब्रेक लॉक को जोड़ा जाता है। यह लॉक बाइक को हिलने स

खबरें और भी हैं...