पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • 2685 Students Gave Paper; Hundreds Of Parents Spoiled The System Bypassing The Corona Instructions Around The Centers

नीट 2020:2685 स्टूडेंट्स ने दिया पेपर; सैकड़ों पेरेंट्स ने सेंटरों के आसपास कोरोना हिदायतों को दरकिनार कर बिगाड़ी व्यवस्था

अमृतसर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सोशल डिस्टेंंसिंग की उड़ी धज्जियां% बार-बार अनाउंसमेंट पर भी नहीं हटे , पुलिस की सख्ती के बावजूद कुछेक ही वापस गए, सेंटरों के पास दिनभर लगा रहा ट्रैफिक जाम
  • स्टूडेंट्स बोले- फिजिक्स पार्ट सॉल्व करने में लग गया सवा घंटा, दो बार थर्मल स्क्रीनिंग के बाद एंट्री, पीपीई किट पहनी टीमों ने की फुलबॉडी जांच

कोरोना काल में बेहद विवादों में फंसा रहा नेशनल एलिजिबिलिटी एंड एंट्रेस टेस्ट 2020 (नीट) रविवार को शहर के 6 सेंटरों में हुआ। इसमें कुल आवेदन करने वाले 3091 छात्र-छात्राओं में से 2685 ने भाग लिया। 3 घंटे के पेपर के बाद सेंटरों से बाहर आए स्टूडेंट्स ने बताया कि फिजिक्स का पार्ट खासा कठिन था। उसे सुलझाने में ही करीब सवा घंटा निकल गया।

हालांकि केमिस्ट्री और बायोलॉजी के पार्ट आसान थे। टेस्ट के दौरान सेंटरों में कड़े प्रबंधों और कोरोना का खास ख्याल रखा गया, मगर बच्चों की एलिजिबिलिटी के टेस्ट में सेंटरों के बाहर अभिभावक कोरोना को लेकर नासमझी दिखाते रहे। सेंटरों के आसपास भीड़ की शकल में खड़े पेरेंट्स बार-बार कहने के बावजूद नहीं हटे। सभी टेस्ट के बाद बच्चों संग ही लौटे। एग्जाम में एंट्री के दौरान गर्ल्स को बाल बांधने की हिदायत दी गई, वहीं कई बच्चे ऐसे भी रहे, जिन्हें नंगे पांव सेंटर के अंदर जाकर पेपर देना पड़ा। क्याेंकि ये बूट पहनकर पहुंचे थे।

सुबह 10 बजे से डेढ़ बजे तक आमद, शाम साढ़े 5 बजे तक भीड़

2 बजे से शुरू हुए पेपर के लिए 11 बजे से एंट्री शुरू होनी थी, लेकिन छात्र अभिभावकों के साथ सुबह 10 बजे ही आने शुरू हो गए थे। सेंटर्स के बाहर सड़कों तक सोशल डिस्टेंस के लिए सर्किल बनाए गए थे। बार-बार अनाउंसमेंट की जा रही थी कि अभिभावक बच्चों को छोड़कर चले जाएं, लेकिन फिर भी पेरेंट्स सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाते हुए वहीं जमे रहे। पुलिस की सख्ती के बाद भी कई अभिभावक यहीं पर खड़े रहे।

एनसीईआरटी की बुक्स पढ़ने वालों को मिला फायदा

नीट-2020 के 3 घंटे के एग्जाम में छात्र 1.20 मिनट तक फिजिक्स में ही उलझे रहे जबकि केमिस्ट्री और बायोलॉजी आसान थी। कुल मिलाकर पेपर ज्यादा टफ नहीं था इसीलिए छात्रों के चेहरे खिले हुए थे। ज्यादातर पेपर एनसीईआरटी की किताबों में से ही था इसीलिए जिन्होंने एनसीआरटी की बुक्स को स्टडी किया था उन्हें फायदा मिलेगा। पेपर से पहले सेंटर में स्टूडेंट्स का तापमान चेक किया गया। धूप और सफर के कारण कई छात्र-छात्राओं का तापमान सामान्य से अधिक रहा, जो कि रेस्ट करवाने के बाद सामान्य हो गया।

लड़कियों को जूड़ा करने के बाद प्रवेश

कोरोना हिदायतों के आधार पर सेंटर के बाहर ही छात्र-छात्राओं को नए ग्लव्ज और मास्क देकर उन्हें पहनाया गया। सभी को हाथ सेनेटाइज करने के बाद सेंटर में एंट्री दी गई, जहां तापमान चेक करके, एडमिट कार्ड देखने के बाद उन्हें अंदर लाया गया। जिन छात्राओं के बाल खुले थे या पोनीटेल बंधी थी, उन्हें बाल बांधकर जूड़ा बनाने के लिए कहा गया। इसलिए ज्यादा छात्राओं ने सेंटर के बाहर ही जूड़े कर लिए। छात्राें की फुल चेंकिंग के लिए पहुंचे स्टाफ ने पीपीई किट्स पहन रखी थी।

बंद जूते-चप्पल भी उतरवाए, कई ने नंगे पैर दिया एग्जाम
एग्जाम की गाइडलाइंस के अनुसार बंद बूट पहनने की मनाही थी, लेकिन कई छात्र फिर भी शूज पहनकर पहुंचे। इस कारण चेकिंग के दौरान उन्हें शूज उतारने पड़े और एग्जाम हाल के बाहर ही रखने पड़े। छात्र अनुपम ने बताया कि उन्होंने नंगे पैर ही एग्जाम दिया और फिर एग्जाम खत्म होने के बाद बाहर आकर जूते पहने।

कुछ छात्र रंगदार बोतलें लेकर पहुंचे : परीक्षा में सिर्फ ट्रांसपेरेंट वॉटर बोतलें लाने की इजाजत थी, लेकिन फिर भी कई छात्र ऐसे थे, जो कि रंगदार बोतलें लेकर पहुंचे। इन्हें चेकिंग स्टाफ ने बाहर ही रखवा दिया। कुछ बच्चे स्टेशनरी भी साथ लाए थे, जो उन्हें पेरेंट्स को देनी पड़ी। सेंटरों के अंदर स्टाफ ने फेस शील्ड पहन रखी थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें