पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • 7 Out Of 10 Congress MLAs From Amritsar Attended Sidhu's Thanks, Soni Still With CM Captain; Harpratap And Bhalaipur Away

‘घर’ में प्रदेश प्रधान का पहला मैच:सिद्धू के शुक्राने में अमृतसर के 10 कांग्रेसी विधायकों में से 7 ने लगाई हाजिरी, सोनी अब भी सीएम कैप्टन संग; हरप्रताप और भलईपुर दूर

अमृतसर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ठंड पै गई... - Dainik Bhaskar
ठंड पै गई...
  • हाजिर जवाबी के लिए मशहूर सिद्धू ने अमृतसर में 2 साल बाद दिया सार्वजनिक बयान, कहा-जो मिला उससे संतुष्ट हूं, पंजाब के कल्याण में मेरा कल्याण’

पंजाब प्रदेश कांग्रेस के नवनियुक्त प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू ने बुधवार को ब्रेकफास्ट के बहाने अपने निवास पर राजनीति की बिसात बिछाई। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ चल रहे मतभेद के बीच सिद्धू ने घर पर 51 विधायकों को बुलाकर अपनी ताकत दिखाई। मगर मुख्यमंत्री के करीबी कैबिनेट मंत्री ओपी सोनी अभी भी सिद्धू से दूरी बनाए हैं।

सिद्धू के घर में चार कैबिनेट मंत्रियों सहित 51 विधायक बुधवार को मौजूद रहे थे। वहीं सोनी के अलावा हलका अजनाला के विधायक हरप्रताप अजनाला, खडूर साहिब से विधायक रमनजीत सिंह सिक्की, बाबा बकाला से विधायक संतोख सिंह भलाईपुर इस प्रोग्राम में नहीं आए। अमृतसर के 10 कांग्रेसी विधायकों में से सिद्धू की कोठी पर 7 विधायक पहुंचे, जबकि ओपी सोनी, हरप्रताप अजनाला और भलईपुर नहीं आए।

हाजिर जवाबी के लिए मशहूर सिद्धू ने दो साल बाद अमृतसर में बुधवार को सार्वजनिक तौर पर नपे-तुले शब्दों में बयान दिया। दरबार साहिब और जलियांवाला बाग के शहीदों को नमन करने के बाद दुर्ग्याणा तीर्थ में मीडिया ने रू-ब-रू होने के बाद भी वह चुप्पी साधे रहे। दुर्ग्याणा में माथा टेकने के दौरान जब उन्हें मंदिर कमेटी सम्मानित कर रही थी तब भी उनसे पूछे सवालों के जवाब विधायक डॉ. राज कुमार दे रहे थे। लेकिन आखिर में उठकर जाते-जाते सिद्धू ने सिर्फ इतना कहा- ‘जो मिला उससे संतुष्ट हूं, पंजाब के कल्याण में ही उनका कल्याण है।’

2019 में मंत्री पद छिनने के बाद से अमृतसर में नहीं दिया बयान
सिद्धू जून 2019 में लोकल बाॅडीज मंत्रालय छिनने के बाद 21 जुलाई 2019 को चंडीगढ़ से सरकारी रिहायश खाली करके होली सिटी स्थित अपने घर में पहुंचे थे। तब से अब तक शहर में रहते हुए सिद्धू ने चुप्पी साधे रखी थी। हालांकि पटियाला से ट्वीट करके वह अपनी ही सरकार को सवालों के कठघरे में खड़ा करते रहे हैं। लेकिन अमृतसर में ठीक दो साल बाद उन्होंने अपनी चुप्पी तोड़ी है।
सिद्धू ने मार्च 2020 में ‘जीत्तेगा पंजाब’ नाम से यू-ट्यूब चैनल शुरू किया था। इसमे‌ं कैबिनेट से इस्तीफा देने के करीब 9 महीने बाद पहला वीडियो पोस्ट करते हुए अलग राह पर चलने के संकेत दिए थे। सिद्धू में इस तब्दीली को लेकर कई तरह के कयास लगाए जाते रहे हैं। कुछ का मानना है कि सिद्धू इस वक्त पंजाब ही नहीं दिल्ली की भी लीडरशिप को जुबानी कम शक्ति प्रदर्शन के रूप में अपनी जमीनी हकीकत बताना चाह रहे हैं।

मैडम सिद्धू की चुप्पी पर सवाल
हमेशा हाजिर जवाब देने वाली डाॅ. नवजोत कौर सिद्धू भी अमृतसर में दिखाई नहीं दीं। सिद्धू के प्रधान बनने के बाद मैडम सिद्धू की चुप्पी पर राजनीतिक गलियारों में कई तरह की चर्चाएं चल रहीं हैं।

इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन दिनेश बस्सी भी रहे नदारद
सिद्धू संग खटास भरे रिश्तों के बीच इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन दिनेश बस्सी भी बुधवार को सिद्धू से मिलने नहीं आए।​​​​​​​

कैप्टन के पक्ष में सोनिया गांधी को चिट्‌ठी लिखने वाले विधायकों में से 5 सिद्धू से मिले
सोनिया गांधी काे कैप्टन के पक्ष में चिट्‌ठी लिखने वाले 5 विधायक हरमिंदर सिंह गिल, गुरप्रीत सिंह जीपी, जोगिंदर पाल, जगदेव सिहं कमलू और पिरमल सिंह खालसा सिद्धू से मिले। ​​​​​​​
बुलारिया के साथ सिद्धू निवास पर पहुंचे मेयर रिंटू
​​​​​​​
शहर के अंदर कैप्टन अमरिंदर सिंह के हक में ‘पंजाब का एक ही कैप्टन’ के बोर्ड लगवाने वाले मेयर कर्मजीत सिंह रिंटू बुधवार को विधानसभा हलका साउथ के विधायक इंदरबीर सिंह बुलारिया के साथ सिद्धू निवास पर सुबह ही पहुंच गए थे। सारा दिन वह सिद्धू और दूसरे कांग्रेसी नेताओं के साथ रहे। हालांकि उनके समर्थकों की ओर से कचहरी के पास लगवाए गए ‘पंजाब का दा इक ही कैप्टन’ वाले होर्डिंग अभी भी लगे हुए हैं।

कचहरी पुल के पास आज भी ‘सरकारिया-कैप्टन’ साथ-साथ
भले ही मंत्री सरकारिया इन दिनों कैप्टन से अलग हैं, मगर कचहरी पुल के पास बरसों से कैप्टन के साथ लगा उनका होर्डिंग्स आज भी वहीं है।

सुबह साढ़े 8 बजे ही सिद्धू की काेठी में जुटने लगे थे मंत्री-विधायक

  • सुबह 8.30 बजे से ही मंत्री और विधायक नवजोत सिंह सिद्धू के निवास पर पहुंचना शुरू हो गए।
  • 11.15 बजे ब्रेकफास्ट और राजनीतिक चर्चा के बाद सिद्धू ​​​​​​​ निवास के बाहर दो वीडियो कोच बसें पहुंच गईं।
  • 12.25 बजे बसों से विधायक और पार्टी पदाधिकारी गोल्डन टैंपल के लिए रवाना हुए।
  • 1.8 बजे सिद्धू ​​​​​​​ विधायकों व पार्टी पदाधिकारियों संग गोल्डन टेंपल पहुंचे और माथा टेकने के बाद 2.41 बजे जलियांवाला बाग शहीदों को नमन करने पहुंचे।
  • 3.10 बजे सिद्धू टीम के साथ दुर्ग्याणा मंदिर पहुंचे और 25 मिनट के बाद सभी रामतीर्थ की ओर रवाना हुए।
  • 4.5 बजे शाम को सिद्धू का काफिला रामतीर्थ मंदिर पहुंचा और माथा टेकने के बाद शाम 5 बजे सभी अपने गंतव्य की ओर रवाना हो गए।

सिद्धू के बुलावे पर अमृतसर पहुंचे विधायक-मंत्री
खन्ना : गुरकीरत सिंह कोटली
खेमकरण : सुखपाल सिंह भुल्लर
अटारी : तरसेम सिंह डीसी
मोगा धर्मकोट : सुखजीत सिंह काका
जंडियाला गुरु : सुखजिंदर सिंह डैनी
डेरा बाबा नानक : सुखजिंदर सिंह
फिरोजपुर : परमिंदर सिंह पिंकी
गुरदासपुर : बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा
फाजिल्का : दविंदर सिंह घुबाया
लुधियाना सेंट्रल : सुरिंदर कुमार डावर
नवाशहर : अंगद सैनी
मोगा: हरजोत कमल
भोआ : जोगिंदर पाल
घनौर : मदन लाल जलालपुर
अमृतसर साउथ : इंदरबीर सिंह बुलारिया
भदौर : पिरमल सिंह धौला
मलोट : अजायब संह
जालंधर कैट : परगट सिंह
अमरगढ़ : सुरजीत सिंह धीमान।
अमृतसर नॉर्थ : सुनील दत्ती
जालंधर नॉर्थ : बावा हैनरी
फतेहगढ़ चूड़ियां : तृप्त राजिंदा सिंह
गिद्दबाहा : अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग
फरीदकोट : कुशलदीप सिंह किकि
जीरा : कुलबीर सिंह जीरा
चमकौर साहिब : चरनजीत सिंह चन्नी
अमृतसर वेस्ट : राज कुमार वेरका
राजासांसी : सुखबिंदर सिंह सुख
तरनतारन : धर्मवीर अग्निहोत्री
फतेहगढ़ साहिब : कुलजीत सिंह नागरा
पट्‌टी : एमएलए हरमिंदर सिंह गिल
बस्सी पठाना : गुरप्रीत सिंह जीपी
उड़मड़ : संगत सिंह गिलजिया
पठानकोट : अमित
करतारपुर : चौधरी सुरिंदर सिंह
मुकेरियां : रजनीश कुमार बब्बी की मौत हो चुकी (पत्नी विधायक इंदु बाला है, पत्नी ही आई थी।)
दसूहा : अरुण डोगरा
बलाचौर : दर्शन लाल
समराला : अमरीक सिंह ढिल्लों
पायल : लखवीर सिंह
बागा पुराना : दर्शन बराड़ा
फिरोजपुर रूरल : सत्कार कौर
बल्लुआना : नत्थू राम
समाना : राजिंदर सिंह
सुथाना : निर्मल सिंह
गिल : कुलदीप सिंह वैद
अबोहर : रविंदर सिंह आवला
मानसा : नाजर सिंह
मौड़ : जगदेव सिंह कमलू (आप से कांग्रेस में आए)
भदौड़ : पिरमल सिंह (आप से कांग्रेस में आए)

इन विधायकों ने सिद्धू से बनाई दूरी
खडूर साहिब : रमनजीत सिंह सिक्की
श्रीहरगोबिंदपुर : बलविंदर सिंह लाडी
कादियां : फतेह बाजवा
लुधियाना वेस्ट : भारत भूषण आशु
बाबा बकाला : संतोख सिंह भलाईपुर
भुलत्थ : सुखपाल सिंह खैहरा
पटियाला रूरल : ब्रह्ममोहिंदरा
अमृतसर सेंट्रल: ओपी सोनी
संगरूर : विजय इंद सिंगला
कपूरथला : राणा गुरजीत सिंह सोढी
जालंधर : सुशील कुमार रिंकू
एसएएस नगर : बलबीर सिंह सिद्धू
नाभा : साधू सिंह धर्ममोत
बठिंडा अर्बन : मनप्रीत सिंह बादल
दीनानगर अरुणा चौधरी
सुल्तानपुर लोधी : नवतेज सिंह चीमा
शाहकोट : हरदेव सिंह लाडी
शाम चौरासी : पवन कुमार अदिया
होशियारपुर : शाम सुंदर अरोड़ा
अमलोह : रणदीप सिंह
लुधियाना ईस्ट : संजीव तलवाड़
लुधियाना नॉर्थ : राकेश पांडे
गुरु हर सहाय : गुरमीत सिंह सोढी
रामपुरा फूल : गुरप्रीत सिंह कांगड़
मलेरकोटला : रजिया सुल्ताना
धुरी : दलवीर सिंह गोल्डी
राजपुरा : हरदियाल सिंह कंबोज
चब्बेवाल : राजकुमार
फगवाड़ा : कुलदीप सिंह धालीवाल
जालंधर सेंटर : राजिंदर बेरी

खबरें और भी हैं...