अवैध खनन के खिलाफ AAP की कार्रवाई:मंत्री बैंस का 306 FIR करने का दावा, विपक्षियों ने लगाया माइनिंग जारी रहने का आरोप

अमृतसर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद पंजाब में अवैध खनन को लेकर अब तक 306 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। खनन मंत्री हरजोत सिंह बैंस ने यह दावा किया। साथ ही उन्होंने कहा कि अवैध खनन करने वालों के खिलाफ सरकार कोई नरमी नहीं बरत रही है, लेकिन विपक्षियों ने प्रदेश में अवैध खनन जारी रहने का आरोप लगाया है।

पंजाब के खनन मंत्री हरजोत सिंह बैंस ने बताया कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व में 19 मार्च को आम आदमी पार्टी की सरकार बनी थी। उनके पद संभालने से लेकर 7 अगस्त तक अवैध खनन करने वालों के खिलाफ सख्त रूख अपनाया गया और पूरे पंजाब में 306 मामले दर्ज किए गए।

गैर-कानूनी खनन को लेकर पंजाब सरकार अपने इरादे पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि खनन करने वाले को बख्शा नहीं जाएगा, चाहे वह आप पार्टी का कोई नेता या वर्कर ही क्यों न हो, लेकिन विपक्षी नेताओं का कहना है कि अवैध खनन अभी भी जारी है और भगवंत मान सरकार उस पर चुप्पी साधे हुए है।

विपक्षियों ने पूछा AAP सरकार चुप क्यों

कांग्रेसी विधायक परगट सिंह ने आरोप लगाया है कि पंजाब में खनन पर 30 सितंबर तक पूर्ण पाबंदी लगी हुई है। इसके बावजूद खनन मंत्री के ही क्षेत्र आनंदपुर साहिब में अवैध खनन दिनदहाड़े जारी है। करोड़ों के अवैध खनन पर खनन मंत्री और मुख्यमंत्री भगवंत मान दोनों चुप हैं। कट्टर ईमानदार सरकार की यह चुप्पी सवाल खड़े कर रही है। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस नेताओं का आरोप है कि अगर राज्य में वैध खनन अधिक हुआ है तो रेत के दाम अभी भी महंगे क्यों हैं।

मान सरकार का दावा- अधिकारियों पर भी हुई कार्रवाई

मंत्री हरजोत बैंस ने अपने ट्विटर पर जानकारी सांझा करते हुए बताया कि पंजाब में सरकार बनने के बाद कुल 306 मामले दर्ज किए गए, जिनमें सबसे अधिक होशियारपुर में दर्ज हुए, जिनकी संख्या 52 थी। फाजिल्का में 34, रोपड़ में 30, अमृतसर व जालंधर में 23, लुधियाना में 28 और SBS नगर में 17 मामले दर्ज हैं। माइनिंग विभाग के भी कुछ भ्रष्ट अफसर इस गैर कानूनी काम को रोकने के लिए ईमानदारी से अपनी ड्यूटी नहीं निभा रहे थे, जिन पर भी कार्रवाई की गई थी।

ठेकेदारों पर भी कार्रवाई

मंत्री बैंस ने स्पष्ट किया कि आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद वैध खनन में वृद्धि हुई है। बीते समय से यह गिनती 2.50 गुणा अधिक है। कुछ ठेकेदारों, जिनकी मिली भगत सामने आई थी, उन पर भी कार्रवाई की गई है। उनकी सिक्योरिटी को पंजाब सरकार ने जब्त कर लिया है।

खबरें और भी हैं...