जत्थे में पाकिस्तान गई सिख महिला ने की दूसरी शादी:सोशल मीडिया पर प्यार होने के बाद पहुंची लाहौर, रहने की अनुमति नहीं मिली तो लौटी

अमृतसर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गुरु नानक देव के प्रकाश पर्व पर पाकिस्तान गए जत्थे में एक महिला ने इस्लाम कबूल करने के बाद लाहौर के युवक के साथ शादी कर ली, लेकिन जब पाकिस्तान सरकार ने महिला को पाकिस्तान में रुकने की अनुमति नहीं दी तो, वह जत्थे के साथ अटारी बॉर्डर के रास्ते कोलकाता रवाना हो गई। खासबात है कि यह महिला अपने पति के साथ ही पाकिस्तान जत्थे में गई थी।

24 नवंबर को लाहौर कोर्ट में की थी शादी

सूत्रों के अनुसार महिला परमजीत कौर (काल्पनिक नाम) 17 नवंबर को पाकिस्तान अपने पति के साथ जत्थे में रवाना हुई थी। जत्थे का मुख्य मकसद पाकिस्तान में बने गुरुद्वारों के दर्शन करना था, लेकिन यह महिला किसी और मकसद के साथ पाकिस्तान पहुंच गई। सूचना है कि 23 नवंबर को जब जत्था लाहौर पहुंचा तो यह महिला वहां के रहने वाले मोहम्मद इमरान के पास पहुंच गई। महिला के पास अपना कोई पाकिस्तानी ID प्रूफ नहीं था तो इमरान के साथ उसी के नाम से डॉक्यूमेंट तैयार करवाए और 24 नवंबर को लाहौर कोर्ट में शादी कर ली। शादी से पहले महिला ने इस्लाम कबूल किया और नाम बदल कर प्रवीण सुलताना रख लिया। दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान परमजीत सिंह सरना ने इसकी पुष्टि की है और ऐसे कदम को भविष्य के लिए खतरा भी बताया है।

कोर्ट ने अपील की खारिज

सूचना है कि शादी के बाद महिला व इमरान ने लाहौर कोर्ट में अपील दायर की। जिसमें महिला को पाकिस्तान में ही रखने की गुजारिश की थी, लेकिन कोर्ट ने अपील को खारिज कर दिया। महिला का कहना है कि वह अभी कोलकाता जा रही है, लेकिन वहां जाकर वह इमरान के नाम से जल्द ही पाकिस्तान के लिए वीजा अप्लाई करेंगी।

सोशल मीडिया पर हुई मुलाकात

जानकारी के अनुसार, महिला की मुलाकात लाहौर में रहने वाले इमरान के साथ सोशल मीडिया पर हुई थी। दोनों में प्यार हो गया और महिला तभी से पाकिस्तान जाने का जरिया ढूंढ रही थी। पहले भी कई मामले सामने आने के बाद भारत सरकार ने अकेली महिलाओं व युवतियों के पाकिस्तान जत्थे में जाने पर रोक लगा दी थी। जिसके चलते महिला जत्थे में जाने के लिए अपने पति को भी साथ लेकर गई थी।

पहले भी हुए किस्से, बंदिशों को तोड़ा, लेकिन देश को झुकाया

यह पहला किस्सा नहीं है। इससे पहले भी कई किस्से सामने आए, जब पाकिस्तान जत्थे में गई महिलाओं ने इस्लाम कबूल करने के बाद शादियां की। इतना ही नहीं, पाकिस्तान से भारत आया एक युवक भी अपनी महिला दोस्त को मिलने के लिए गायब हो गया था।

केस – 1

24 अक्टूबर, 2018- बठिंडा की विवाहिता व दो बच्चों की मां को पाकिस्तान गुजरांवाला के मोहम्मद सुलेमान से ऑनलाइन खेल खेलते हुए प्यार हो गया था। जत्थे के साथ पाकिस्तान गई और वहां शादी कर ली।

केस-2

12 अप्रैल 2019, होशियारपुर की रहने वाली तीन बच्चों की मां बैसाखी पर पाकिस्तान गई थी, लेकिन लाहौर के मोहम्मद आजम से 16 अप्रैल को शादी कर ली।

केस-3

23 नवंबर 2019, करतारपुर कॉरिडोर के जरिए हरियाणा की मनजीत कौर बॉर्डर पार करके पाकिस्तान गई थी। वहां वह अपने फेसबुक पर दोस्त बने अवास मुख्तार से मिली, लेकिन पाक रेंजर्स की नजर उस पर पड़ गई और उसे उसी समय भारत भेज दिया गया।

केस-4

11 दिसंबर 2019 को अमृतसर का जतिंदर सिंह करतारपुर कॉरिडोर से पाकिस्तान में पंजाब यूनिवर्सिटी, लाहौर में पढ़ने वाली दोस्त आशिया रफीक से मिलने गया था। इसे भी पाक रेंजर्स ने एतराज जताकर वापस भेज दिया था।

केस-5

फरवरी 2018 को पाकिस्तान में रहने वाला हिंदू विक्की भोड़ू हिंदू जत्थे के साथ भारत शिवरात्री मनाने आया था, लेकिन वह अपनी फेसबुक दोस्त को मिलने गुजरात पहुंच गया। जिसे बाद में पुलिस ने पकड़ पाकिस्तान भेजा।

खबरें और भी हैं...