• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • After The Resignation From The Post Of PPCC Head, Discussions Started Again For The Chairs Distributed In The Reshuffle Of Political Posts In The Past.

क्या फिर बदलेंगे कुर्सियों पर बैठने वाले?:PPCC प्रधान पद से नवजोत सिद्धू के इस्तीफे के बाद फेरबदल की चर्चा, क्या होगा अमृतसर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन का

अमृतसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जब सीएम चन्नी ने सिद्धू के हाथ से दो बार लैटर छीना, पढ़ा और फिर दमनदीप सिंह के नाम पर मोहर लगाई थी। - Dainik Bhaskar
जब सीएम चन्नी ने सिद्धू के हाथ से दो बार लैटर छीना, पढ़ा और फिर दमनदीप सिंह के नाम पर मोहर लगाई थी।

नवजोत सिंह सिद्धू ने मंगलवार को पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान पद से इस्तीफा देकर पंजाब में राजनीतिक भूचाल ला दिया है। केंद्र भी पंजाब में चल रही खींचतान से अपना पल्ला छुड़ा रही है और आपसी कलह को खुद खत्म करने की नसीहत दे रही है। इस बीच मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के पद ग्रहण के बाद राजनीतिक पदों पर किए गए फेरबदल पर चर्चाओं का दौर फिर शुरू हो गया है।

नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे के बाद यह भी स्पष्ट हो गया कि मुख्यमंत्री चन्नी के साथ भी उनके मतभेद शुरू हो चुके हैं। सीएम चन्नी ने सिद्धू के लिए कोई बयान तो नहीं दिया, लेकिन एक बैठक बुलाते हुए पिछले 7 दिनों में किए गए कामों को गिना दिया। लेकिन इन 7 दिनों में अमृतसर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट अमृतसर और बटाला के चेयरमैन पदों पर किए गए बदलाव फिर चर्चा में हैं।

गौरतलब है कि अमृतसर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन पद में बदलाव नवजोत सिंह सिद्धू के कहने पर हुआ। दमनदीप सिंह को जब नियुक्ति पत्र थमाया गया था, तब भी मुख्यमंत्री चन्नी के हावभाव से स्पष्ट हो गया था कि इस बदलाव के बारे में उन्हें कुछ अधिक जानकारी नहीं है। तीन बार उन्होंने नियुक्ति पत्र पढ़ा और उसके बाद दमनदीप सिंह का नाम घोषित किया।

इसके कुछ समय बाद ही बटाला के इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के बदलने की भी खबर आ गई और वहां कस्तूरी लाल सेठ काे चेयरमैन नियुक्त कर दिया गया। कहा जाता है कि कस्तूरी लाल सेठ मंत्री तृप्त रजिंदर बाजवा के करीबी हैं।

क्या होगा अमृतसर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के पद का

इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन पद का भार नवजोत सिंह सिद्धू के कंधों पर ही टिका है। अगर नवजोत सिंह सिद्धू नहीं मानते और कांग्रेस हाईकमान के फैसलों के खिलाफ जाते हैं तो इन पदों पर भी फेरबदल आवश्यक होगा। जिस तरह सिद्धू समर्थक अपने-अपने पदों से इस्तीफे दे रहे हैं, वहीं दमनदीप सिंह भी सिद्धू के खास है और हमेशा उनका हमसाया बनकर ही चलते हैं। सिद्धू की नाराजगी के बाद वह इस पद को खुद भी छोड़ सकते हैं।

खबरें और भी हैं...