आज अमृतसर में बाजार-दुकानें सब बंद:ऑपरेशन ब्लू स्टार की 38वीं बरसी पर शहर खाली, पुलिस ने भी सुरक्षा बढ़ाई

अमृतसर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अमृतसर में तैनात पुलिस बल। - Dainik Bhaskar
अमृतसर में तैनात पुलिस बल।

ब्लू स्टार ऑपरेशन की 38वीं बरसी पर दल खालसा व सिख संगठनों की तरफ से अमृतसर बंद की घोषणा की गई थी, जिसके चलते सोमवार सुबह से ही शहर और बाजार बंद रहे। दल खालसा की तरफ से शांतिमय मार्च निकाला गया, लेकिन इसी दौरान पूरे शहर में पुलिस भी सतर्क रही। दरबार साहिब को जाने वाले हर रास्ते पर नाकाबंदी की गई और किसी भी वाहन को गोल्डन टेंपल की तरफ जाने की मनाही थी।

सोमवार सुबह से ही गोल्डन टेंपल में जहां हजारों की संख्या में सिख संगठनों के समर्थक व श्रद्धालु गोल्डन टेंपल में इकट्‌ठे थे, वहीं गोल्डन टेंपल के बाहर पूरे शहर में शांति देखने को मिली। दुकानदारों व मार्केट यूनियनों ने खुद ही बंद का समर्थन कर दिया। बाजार बंद रहे। सरकारी संस्थान खुले, लेकिन वहां भी पब्लिक डीलिंग बहुत कम देखने को मिली। शहर में मेडिकल स्टोर व अस्पताल ही खुले दिखे। दोपहर के समय कुछ सिख संगठनों के समर्थक अमृतसर की सड़कों पर घूमते दिख, लेकिन पुलिस ने उन्हें जाने के लिए कह दिया।

अमृतसर में लगाए गए नाके।
अमृतसर में लगाए गए नाके।

7000 पुलिस फोर्स सड़कों पर

शहर में अमन शांति बनाए रखने के लिए पुलिस की तरफ से पुख्ता इंतजाम किए गए थे। अमृतसर कमिश्नरेट के 4000 पुलिस कर्मियों के अलावा 3000 अतिरिक्त अर्ध-सैनिक बल व दूसरे शहरों से पहुंची पुलिस को शहर में पोस्ट किया गया था। शहर में घूम रहे सिख संगठनों के समर्थकों की वीडियो रिकॉर्डिंग भी की गई।

चप्पे-चप्पे पर नाके

पुलिस ने शहर में चप्पे-चप्पे पर नाके लगा दिए। आधी रात से ही गोल्डन टेंपल की तरफ जाने वाले वाहनों को रोक दिया गया। लोगों को पैदल गोल्डन टेंपल जाने के लिए कहा गया। यह इसलिए भी था कि अधिक संख्या में लोग गोल्डन टेंपल में न पहुंच सकें।

मॉल्स व मल्टीप्लेक्स भी बंद

अमृतसर के मॉल्स और मल्टीप्लिक्स भी सोमवार को बंद रखे गए। सुबह से शाम 5 बजे तक यहां न तो कोई फिल्म शो चला और न ही मॉल्स के अंदर दुकानें खोली गईं। अधिकतर लोग अपने घरों में ही कैद रहे।