अमृतसर में स्नैचर फोन छीन हुआ फरार:चेन्नई से अमृतसर घूमने आए दंपत्ति अटारी सीमा पर रिट्रीट सेरेमनी देख लौट रहे थे, पुलिस को दी शिकायत

अमृतसर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जय और निधि, जिनका मोबाइल स्नैच हुआ। - Dainik Bhaskar
जय और निधि, जिनका मोबाइल स्नैच हुआ।

पंजाब के अमृतसर में स्नैचिंग की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। रोजाना एक या दो वारदातें सामने आ रही हैं, जिनमें या तो पर्स झपट लिया जाता है या मोबाइल छीन स्नैचर भाग जाते हैं। ऐसे ही घटना अब चेन्नई के जय किशन मिलानी और निधि मिलानी के साथ हुई। दोनों की शादी पिछले साल ही लॉकडाउन में हुई थी। दोनों ने शादी के बाद गोल्डन टेंपल सहित अन्य जगहों पर घूमने का मन बनाया था। शुक्रवार शाम को जय व निधि अटारी सीमा पर रिट्रीट सेरेमनी देखने के लिए गए थे। सेरेमनी से वापस शाम 6:45 बजे ऑटो में आ रहे थे। अभी इंडिया गेट को क्रॉस किया ही था कि बाइक सवार आया और जय का आईफोन 11 छीन कर फरार हो गया। फोन में जय के जरूरी कॉन्टैक्ट व अमृतसर के पूरे ट्रिप की तस्वीरें भी थी। जिसके बाद जय ने पुलिस में इसकी शिकायत की।

नवंबर महीने में 18 वारदातें स्नैचिंग की रिपोर्ट हुई

पूरे नवंबर महीने में स्नैचिंग की 18 वारदातें शहर में रिपोर्ट हुई हैं। लेकिन यह आंकड़ा इससे कई ज्यादा हैं। अधिकतर पीड़ित पुलिस और कोर्ट के चक्कर लगाने के डर से एफआईआर ही दर्ज नहीं करवाते। वे मात्र डेली डायरी रिपोर्ट (DDR) दर्ज करवा नई सिम निकलवा लेते हैं। अमृतसर गोल्डन टेंपल और अटारी सीमा से आते हुए टूरिस्ट सबसे अधिक स्नैचरों का शिकार होते हैं, लेकिन अधिकतर शिकायत ही दर्ज नहीं करवाते।

इसके मुख्य कारण यह हैं-

  • टूरिस्ट के पास कैश अधिक होता है।
  • टूरिस्ट अगर पुलिस शिकायत करता है तो पहले पुलिस उसे बार-बार शहर में बुलाएगी। फिर केस चलेगा इसी वजह से शिकायत ही नहीं की जाती।
  • टूरिस्ट शहर के हालातों से वाकिफ नहीं होते और स्नैचर आसानी से उन्हें शिकार बना लेते हैं।
  • टूरिस्ट ऑटो, रिक्शा या ई-रिक्शा पर होते हैं। ये वाहन स्नैचर्स की तेज बाइक का पीछा नहीं कर सकते।
  • पुलिस मामले को कर देती है रफा-दफा।

पुलिस भी अपने थानों के रिकॉर्ड को ठीक रखने के लिए स्नैचिंग जैसी वारदातों को रिपोर्ट ही नहीं करती। मोबाइल स्नैचिंग की कोई शिकायत लेकर आता है, तो उसे पहले ही डरा दिया जाता है कि तुम्हें बार-बार चक्कर लगाने होंगे। खुद सलाह भी दे देते हैं कि सिम लॉस्ट की शिकायत दे दो। पुलिस तुरंत सिम लॉस्ट की मात्र डेली डायरी रजिस्टर (डीडीआर) काट कर दे देती है।

खबरें और भी हैं...