खिलचियां मर्डर केस में रंजिश का एंगल:ट्रैवल एजेंट था मरने वाला अर्शदीप, कई बार लग चुके धोखाधड़ी के आरोप, दो बार किडनैप भी किया गया

अमृतसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक अर्शदीप सिंह। फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
मृतक अर्शदीप सिंह। फाइल फोटो

अमृतसर-जालंधर जीटी रोड स्थित खिलचियां अड्डे पर बाइक सवार 2 लुटेरों के एक युवक को गोली मारने और गाड़ी छीनकर ले जाने की घटना में नया मोड़ आ गया है। पुलिस ने लूट की वारदात के अलावा अन्य एंगल पर भी जांच शुरू कर दी है। रविवार को शव का पोस्टमॉर्टम करवा परिवार को सौंप दिया गया। पुलिस ने मृतक का मोबाइल फोन कब्जे में ले लिया और उसके दोस्तों से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस को मृतक अर्शदीप सिंह (25) निवासी गांव अल्लोवाल के दोस्त अमृतपाल सिंह ने बताया कि अर्शदीप को उसने कार (पीबी 46 एई 4445) में बुलाया। जब अर्शदीप कार लेकर पहुंचा तो जर्मनजीत सिंह निवासी अल्लोवाल भी साथ था। रात पौने 8 बजे वे तीनों रत्नगढ़ चौक पर जूस पी रहे थे। उसी समय 2 बाइक सवार उनकी कार के पास आए और गन प्वाइंट पर कार छीनने का प्रयास किया। अर्शदीप लुटेरों को लपकने लगा तो एक ने गोली चला दी, जो अर्शदीप के कंधे पर लगी। उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई। पुलिस पहले इस घटना को लूट समझ रही थी लेकिन जब जांच शुरू हुई तो सारा मामला ही बदल गया।

ट्रैवल एजेंट था मृतक
पुलिस जांच में सामने आया कि मरने वाला ट्रैवल एजेंट था। कई बार उस पर फ्रॉड के आरोप लगे। 2 बार तो कुछ युवक उसे उठा कर मालवा की तरफ भी ले गए जिसे बाद में परिवार वालों ने छुड़वाया। पुलिस अब इसे लूट के साथ-साथ रंजिशन की गई हत्या का मामला समझ रही है।

दोस्त नहीं दे रहे पूरी जानकारी
पुलिस ने मृतक के साथियों अमृतपाल सिंह व जर्मनजीत सिंह से पूछताछ की लेकिन उनकी बातें स्पष्ट नहीं है। फिलहाल पुलिस ने मृतक का मोबाइल फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है जिसमें से सुराग मिल सकते हैं। पुलिस का कहना है कि जल्द इस मामले का सुलझा लिया जाएगा।

सीसीटीवी खंगाले जा रहे : एसएचओ
खिलचियां थाने के एसएचओ सुखदेव सिंह ने जानकारी दी कि पुलिस अभी मामले की जांच कर रही है। मृतक का मोबाइल फोन फारेंसिक जांच के लिए भेजा गया है। वहीं सीसीटीवी फुटेज खंगाली जा रही हैं। जल्द ही सुराग मिलेगा और पुलिस आरोपियों को पकड़ने में सफल होगी।

खबरें और भी हैं...