पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छत्तीसगढ़ सरकार ने बुधवार को सम्मानित किया:सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन पर हुए नक्सलियों हमले में घायल होने के बावजूद तरनतारन के बलराज सिंह ने दिखाई बहादुरी, पूरा गांव बोला- हमें उसपर मान

अमृतसर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बीते शनिवार छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों के हमले में तरनतारन के गांव कलेर का रहने वाला सीआरपीएफ का जवान बलराज सिंह भी पेट में गोली लगने से घायल हुआ था। इसके बावजूद उसने उस समय अपनी परवाह किए बिना गोली लगने के कारण लहूलुहान पड़े सीनियर एसआई की मदद में कोई कसर नहीं छोड़ी। उस वक्त मेडिकल टीमें बाकी जवानों को फर्स्ट एड देने में लगी थी और एसआई तड़प रहे थे।

बलराज ने हिम्मत दिखाते हुए अपनी पगड़ी को उतारकर एसआई के जख्मों पर बांधा, जिसके बाद उनका खून बहना बंद हुआ। देरी होने पर उनकी जान भी जा सकती थी। बलराज को उसकी बहादुरी के लिए सीआरपीएफ के आला अफसरों और छत्तीसगढ़ सरकार ने बुधवार को सम्मानित किया।

इधर, बलराज के गांव में भी उसकी बहादुरी के चर्चे हैं। उसे मिल रहे सम्मान को लेकर उसका परिवार खुश है। अब परिवार को उसकी जल्द गांव वापसी की उम्मीद है। वहीं उसके दाेस्तों का कहना है कि उन्हें बलराज पर मान है। उसने पंजाबी होने का असली फर्ज निभाया है।

ट्रेनिंग की बदौलत एक युवक 5 साल पहले आर्मी में भर्ती हुआ, बलराज जनवरी में छुट्‌टियां खत्म कर लौटा ड्यूटी पर

बलराज जब भी छुट्‌टी पर आता है तो हर बार गांव के युवाओं को फौज में भर्ती की ट्रेनिंग देता है। उसके दोस्त जुगराज सिंह (25), गुरप्रताप सिंह (26), और धर्मवीर सिंह (25) ने बताया कि बलराज उन्हें शारीरिक से लेकर इंटरव्यू तक की ट्रेनिंग देता है। इसी ट्रेनिंग की बदौलत गांव का ही गुरबीर सिंह पांच साल पहले आर्मी में भर्ती हुआ था।

गुरप्रताप ने बताया कि वह और उसके बाकी के दाेस्त 12वीं पास हैं। उनके परिवारों की आर्थिक हालत भी ठीक नहीं। बलराज इसलिए उन पर ज्यादा तवज्जो देता है। वह सिर्फ ट्रेनिंग देने तक ही सीमित नहीं, बल्कि जहां कहीं भी भर्ती हो, उसकी सूचना भी उन्हें देता रहता है। धर्मवीर ने बताया कि पिछले साल दिसंबर में बलराज एक महीने की छुट्‌टी पर आया था। उस दौरान भी वह भर्ती होने की ट्रेनिंग देकर गया था।

3 बहनों का छोटा भाई, 2014 में भर्ती हुआ, 2 साल पहले हुई शादी

बलराज सिंह वर्ष 2014 में इंजीनियरिंग का डिप्लोमा हासिल किया था। इसी साल 11 अक्टूबर को वह सीआरपीएफ में भर्ती हुआ। भर्ती के बाद ही उसने ग्रेजुएशन की है। बलराज सिंह के परिवार में उसकी मां हरजीत कौर और पिता जसवंत सिंह की 3 बड़ी बहने नवदीप कौर, बलप्रीत कौर और राजबीर कौर हैं। 2 साल पहले उसकी शादी यादविंदर कौर से हुई थी। उसके पिता जसवंत सिंह 6 वर्ष दुबई में नौकरी करके कुछ महीने पहले ही घर लौटे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें