बरगाड़ी कांड: जत्थेदार मंड ने कैप्टन को दोबारा किया तलब:सरबत खालसा के बुलावे पर सोमवार को अकाल तख्त पर नहीं पहुंचे अमरिंदर सिंह, सिंह साहिबनों ने अब 4 अक्टूबर को हाजिर होने को कहा

अमृतसर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दरबार साहिब पहुंचे सरबत खालसा की ओर से श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ध्यान सिंह मंड व अन्य। - Dainik Bhaskar
दरबार साहिब पहुंचे सरबत खालसा की ओर से श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ध्यान सिंह मंड व अन्य।

सरबत खालसा की ओर से अकाल तख्त के जत्थेदार ध्यान सिंह मंड ने पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को बरगाड़ी कांड में स्पष्टीकरण देने के लिए सोमवार को अकाल तख्त पर तलब किया था। जत्थेदार मंड और अन्य 5 सिंह साहिबान सोमवार सुबह से अकाल तख्त पर कैप्टन का इंतजार करते रहे, लेकिन वह नहीं पहुंचे। इस पर मंड ने कैप्टन को 4 अक्टूबर के दिन दोबारा हाजिर होने के लिए कहा है।

जत्थेदार ध्यान सिंह मंड ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को संगत को न्याय नहीं देने पर अपना स्पष्टीकरण देने के लिए अकाल तख्त पर तलब किया गया था। जत्थेदार मंड ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार के मंत्रियों और विधायकों के पत्र में उठाए मुद्दों और बड़गाड़ी कांड के दोषियों को अभी तक सजा न दिए जाने को लेकर संगत के समक्ष अपना स्पष्टीकरण देना है। समय निर्धारित होने के बाद भी कैप्टन अमरिंदर सिंह अकाल तख्त नहीं पहुंचे। इसके बाद फैसला लिया गया कि अब कैप्टन को 4 अक्टूबर को दरबार साहिब पहुंचकर अपना स्पष्टीकरण देना होगा।

क्या है मामला
गौरतलब है कि साल 2015 में बरगाडी बेअदबी कांड जांचों में उलझ कर रह गया। इसमें कई बार जांच की गईं। इतने साल बीतने के बाद भी सरकार पावन स्वरूपों की बेअदबी करने वालों की पहचान ही नहीं कर सकी। हालांकि पंजाब पुलिस की एसआईटी ने डेरा सच्चा सौदा सिरसा के 6 समर्थकों को आरोपी बनाया है। लेकिन सरबत खालसा के जत्थेदार ध्यान सिंह मंड का कहना है कि अभी तक इस मामले में सरकार संगतों को न्याय नहीं दे पाई।

खबरें और भी हैं...