पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • Captain Jasmeet Chauhan, Who Was A Sharp Shooter For 6 Years In The Army, Now Became Mrs. India By Beating 100 Women From Across The Country In The Beauty Contest

सिटी प्राइड लेडी:सेना में 6 साल शॉर्प शूटर रहीं कैप्टन जसमीत चौहान, अब देशभर की 100 महिलाओं को ब्यूटी कांटेस्ट में पछाड़कर बनी मिसेज इंडिया

अमृतसर13 दिन पहलेलेखक: शिवराज द्रुपद
  • कॉपी लिंक
सेना में डेढ़ किलो के जूते पहने रहती थीं कैप्टन चौहान, अब 6 इंच ऊंची हील पहनकर रैंप पर कैटवॉक भी किया - Dainik Bhaskar
सेना में डेढ़ किलो के जूते पहने रहती थीं कैप्टन चौहान, अब 6 इंच ऊंची हील पहनकर रैंप पर कैटवॉक भी किया

कल्पना कीजिए आर्मी में डेढ़-डेढ़ किलो के जूते पहनकर रफ-टफ रहने वाली जो लेडी दुश्मन को मिटाने का माद्दा रखती हो, वह किसी ब्यूटी कांटेस्ट में रैंप पर 6 इंच ऊंची हील पहनकर कैटवॉक करे तो किन हालातों से गुजरना होगा। ऐसा कर दिखाया है कैप्टन जसमीत चौहान ने, जो वर्तमान में नेशनल क्राइम इन्वेस्टीगेशन ब्यूरो एनजीओ की पंजाब स्टेट एडिशनल डायरेक्टर हैं। जसमीत चौहान ने। हाल ही में वह गुड़गांव (गुरुग्राम) में मिसेज इंडिया-2021 सेंट्रल गोल्ड चुनी गई हैं। अमृतसर में पिता लखबीर सिंह और मां हरप्रीत कौर के 2 बच्चों बेटे नवदीप सिंह से बड़ी जसमीत की शिक्षा खालसा कॉलेज में हुई थी।

2005 में कमीशन लेकर भारतीय सेना ज्वाइन की

बचपन से ही अलग करने की चाहत के कारण जसमीत चौहान स्कूली समय में एनसीसी कैडेट रहीं और पर देशभक्ति की भावना से प्रेरित हुईं। एजुकेशन कंप्लीट करने के बाद 2005 में कमीशन लेकर भारतीय सेना में बतौर लेफ्टिनेंट कर्नल (इलेक्ट्रिकल मकैनिकल इंजीनियरिंग कॉर्प) में सिलेक्ट हुईं। सेना में 6 साल सेवाएं दीं। वह भारतीय सेना की पहली महिला शाॅर्प शूटर रहीं। वहां पर भी वह मिलनसार स्वभाव के चलते जिम्मेदारी से अलग हटकर भी काम करती रहीं।

आईआईएम और फिर कार्पोरेट... 2011 में आर्मी छोड़ने के बाद कैप्टन जसमीत ने आईआईएम इंदौर ज्वाइन किया। इसके अगले साल एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में राजस्थान की हेड रहीं और कंपनी को बुलंदी पर ले जाने का श्रेय उनको मिला।

साल 2014 में आर्मी वाइव्स वेलफेयर एसोसिएशन से जुड़ीं... इसके जरिए जवानों के परिवारों की हर संभव मदद करती रहीं। फिलहाल अब नेशनल क्राइम इन्वेस्टीगेशन ब्यूरो (एनसीआईबी) की पंजाब स्टेट डायरेक्टर हैं। यहां भी वह विभिन्न तरह के अपराधों यहां तक की टेरिज्म पर काम करती हैं।

ताकि हरेक लड़की बने बेमिसाल...कैप्टन जसमीत आर्थिक रूप से कमजोर युवाओं खास करके लड़कियों को मोटिवेट करती हैं, ताकि वह हरेक फील्ड में कामयाब व्यक्तित्व बन सकें। इसके लिए वह अॉफ लाइन और आनलाइन-ऑफलाइन फ्री काउंसलिंग, कोचिंग दे रही हैं।

उम्मीद से ज्यादा कर्म पर भरोसा करना चाहिए... 18 साल शहर से बाहर रहीं राॅयल इन्फील्ड राइडर कैप्टन जसमीत कहती हैं कि नारी को ईश्वर ने सर्वगुण संपन्न बनाया है। उसे भगवान ने ह्यूमन क्रिएशन की शक्ति दी है, जो किसी के पास नहीं। उन्होंने कहा कि उम्मीद से ज्यादा कर्म पर भरोसा करना चाहिए।

सफलता के लिए अनुशािसत होना जरूरी
एनसीसी, सेना, एनसीआईबी के डिस्प्लिंड और टफ माहौल में रहते हुए ब्यूटी कॉन्टेस्ट में हिस्सा लेकर सफल कैप्टन जसमीत चौहान की दृढ़ इच्छा शक्ति को साबित करता है। गुरु ग्राम में ब्यूटी कॉन्टेस्ट 2021 में उन्होंने 100 महिलाओं को पछाड़कर ताज अपने नाम किया। कंटेस्ट 35-50 साल की उम्र वाली महिलाओं पर आधारित था। जसमीत ने कहा कि दुनिया में कुछ भी नामुमकिन नहीं। सफलता के लिए आपका अनुशासित होना बेहद जरूरी है।

खबरें और भी हैं...