भागने वाले यात्रियों के खिलाफ केस की तैयारी:मरीजों ने होम आइसोलेशन की मांग उठाई, लेकिन प्रशासन ने किया मना; आज भी पहुंची 2 फ्लाइट

अमृतसर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्री गुरु रामदास जी इंटरनेशनल एयरपोर्ट अमृतसर में लैंड हुई रोम की कोरोना फ्लाइट से उतरे 12 मरीजों के साथ जिला प्रशासन ने पुलिस के माध्यम से संपर्क साध लिया है। सभी के शाम तक अस्पताल में आकर दाखिल हो जाने का अनुमान है। वहीं प्रशासन ने स्पष्ट कर दिया है कि सभी के खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा।

गौरतलब है कि गुरुवार को रोम से अमृतसर में लैंड हुई फ्लाइट में 125 कोरोना पॉजिटिव मरीज थे। जिनमें से 112 को तो उनके सम्बन्धित जिलों में भेज दिया गया है। अमृतसर के 13 मरीज थे। लेकिन सूची में एक बच्चे का नाम दो बार दर्ज हो जाने की बात साफ होने के बाद अब मरीजों की गिनती 12 हैं।

इसके बाद स्पष्ट हुआ कि 8 मरीजों ने एयरपोर्ट अथॉरिटी और सेहत विभाग को चकमा दिया और एयरपोर्ट से ही फरार हो गए। जबकि 4 मरीजों को गुरु नानक देव अस्पताल लाया गया। इन मरीजों ने भी सेहत विभाग को चकमा दिया और अस्पताल से फरार हो गए। इसके बाद डीसी गुरप्रीत सिंह खैहरा ने उन्हें आज सुबह तक का समय अस्पताल में वापस लौटने तक का दिया था। लेकिन अभी तक कोई भी मरीज GNDH में रिपोर्ट नहीं हुआ।

होम आइसोलेशन की मांग कर रहे थे मरीज

एडीसी रूही दुग ने बताया कि सभी परिवारों के साथ संपर्क कर लिया गया था। सभी होम आइसोलेशन की मांग कर रहे थे। लेकिन उन्हें स्पष्ट कर दिया गया कि मरीजों को गुरु नानक देव अस्पताल में ही आना होगा। जिसके बाद परिवार शाम तक अस्पताल पहुंचने के लिए तैयार हो गए हैं। लेकिन एडीसी दुग ने स्पष्ट कर दिया है कि प्रशासन की तरफ से सभी मरीजों के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज किया जाएगा।

रोम से पहुंची दो फ्लाइट्स

कोरोना को लेकर सेहत विभाग अब सतर्क हो गया है। आज भी दो फ्लाइट्स अमृतसर एयरपोर्ट पर लैंड हो चुकी हैं। जिसके बाद सभी पैसेंजर्स के फिलहाल एयरपोर्ट पर सैंपल ले लिए गए हैं। फिलहाल उनकी रिपोर्ट का इंतजार है और सभी पैसेंजर्स को एयरपोर्ट पर ही रोक कर रखा गया है।

एयरपोर्ट अथॉरिटी की बैठक

अमृतसर एयरपोर्ट पर हुए कोरोना ब्लास्ट के बाद एयरपोर्ट अथॉरिटी भी सतर्क हो गई है। सूचना है कि अमृतसर में हुई घटना के बाद नैशनल लेवल की बैठक को बुलाया गया था, जिसमें सभी सीनियर अधिकारियों ने प्वाइंट्स नोट कर लिए हैं। आज इस बैठक में नोट किए गए प्वाइंट्स पर निर्णय लिया जा सकता है। वहीं एक अधिकारी ने बताया कि इस बैठक के आधार पर भारत हवाई मार्ग के माध्यम से अन्य देशों से संपर्क तोड़ सकता है।

खबरें और भी हैं...