नई गाइडलाइंस:विदेश से आने वालों का होगा कोरोना टेस्ट, 7 दिन होम क्वारंटाइन भी जरूरी

अमृतसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर एयरपाेर्ट अथॉरिटी की नई गाइडलाइंस

अफ्रीका में काेराेना के नए स्ट्रेन ओमिक्राॅन के खतरे काे भांपते हुए एयरपाेर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए गाइडलाइन जारी की है। नई गाइडलाइंस के मुताबिक कोरोना रिपोर्ट आने के बाद ही यात्रियों को अमृतसर एयरपोर्ट से बाहर निकलने दिया जाएगा। वहीं 7 दिन के लिए अनिवार्य रूप से होम क्वारंटाइन किया जाएगा। फ्लाइट से आने वाले सभी पैसेंजर्स का कोरोना टेस्ट हाेगा। इसके लिए राेम, बर्मिघंम और लंदन से आने वाले यात्रियाें काे 6 घंटे तक एयरपोर्ट पर ही रुकना पड़ेगा।

एयरपाेर्ट अधिकारियाें ने जिला प्रशासन से तालमेल बैठाकर पैसेंजर का कोरोना टेस्ट करने की व्यवस्था कर दी है। पैसेंजर का रैपिड टेस्ट करने की अनुमति दी है। तीनों देशाें से आने वाले यात्रियाें के टेस्ट की रिपाेर्ट आने में लगभग 5 घंटे का समय लगेगा। तब तक उन्हें एयरपाेर्ट से बाहर नहीं निकलने दिया जाएगा। एयरपाेर्ट डायरेक्टर का कहना है कि बचाव के लिए जारी सभी नियमाें का पालन किया जाएगा। एयरपाेर्ट एरिया काे दिन में दाे बार सैनेटाइज किया जा रहा है। पैसेंजर काे कोरोना टेस्ट के कम पैसे देने पड़ें इसके लिए भी कोशिश की जा रही है। टेस्ट करने की जिम्मेदारी प्राइवेट लैब्स काे सौंपी जा रही है। अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट से रोजाना 250 यात्री आते हैं, ऐसे में स्वास्थ्य विभाग काे व्यवस्था करने में समय लग जाएगा। इसलिए प्राइवेट लैब काे अप्वाइंट किया जा रहा है।

5 माह बाद डीसी ने माल मंडी इलाके को मिनी कंटेनमेंट जोन बनाया, सोमवार को एक ही परिवार के 4 लो मिले थे संक्रमित

5 महीने बाद डिप्टी कमिश्नर गुरप्रीत सिंह खैहरा ने 150 आबादी वाले पंचपीर माल मंडी इलाके को मिनी कंटेनमेंट जोन बनाया है। इलाके में में 29 नवंबर को एक ही परिवार के 4 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले थे। इलाके की निगरानी बनाए रखने के लिए एसडीएम-1 अमृतसर टी.बेनिथ को इंचार्ज बनाया है। डीसी ने मंडी अफसर को निर्देश दिया कि फल-सब्जियां की सेवाएं बाधित नहीं होनी चाहिए। फूड एवं सिविल सप्लाई विभाग खाद्य आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित कराएंगे। एसडीएम राजेश शर्मा ने सिविल सर्जन व निगम के अफसरों के साथ बैठक कर कोरोना सैंपलिंग और वैक्सीनेशन बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। मॉल मंडी में कोविड पॉजिटिव केस आने के बाद वार्डों में पार्षदों के संपर्क के रहें और मदद लें।

नवंबर में कोरोना से मौत नहीं; सबसे कम 52 संक्रमित भी इसी महीने, आखिरी दिन 1 नया केस

नवंबर के आखिरी दिन मंगलवार को कोरोना का एक नया केस मिला। इस दौरान 4 ठीक हुए हैं। अब एक्टिव केस 6 हैं। काेरोना काल में नवंबर ऐसा महीना है, जिसमें कोरोना से किसी की जान नहीं गई। राहत की बात ये है कि इस दौरान सबसे कम 52 संक्रमित मिले और 69 ठीक हुए। अक्टूबर में 64 संक्रमित मिले थे और 50 ठीक हुए थे, लेकिन 6 मौतें हुईं थीं। सितंबर 82 संक्रमित मिले थे और 86 ठीक हुए थे, और 3 की जान गई थी।

2,59,499 वैक्सीनेशन के साथ सेकंड नंबर पर नवंबर

कोरोना वैक्सीनेशन में 2,59,499 डोज के साथ नवंबर दूसरे पायदान पर आ गया है। इससे पहले सितंबर में सबसे ज्यादा 5,04,569 डोज वैक्सीन लगी थी। नवंबर में वैक्सीनेशन की शुरुआत सुस्त थी, क्योंेकि आशा वर्कर, एएनएम की हड़ताल और त्योहारों की छुट्टियां थीं, लेकिन 15 तारीख के बाद तेजी आई, जिसकी बदाैलत वैक्सीनेशन में दूसरा स्थान पाया। जिले में नवंबर के आखिरी दिन मंगलवार को 13,385 टीके लगे। इसमें सिंगल डोज 5,845 तथा डबल डोज 7,540 रही। सिंगल में कोविशील्ड 5,306 और कोवैक्सीन 539, जबकि डबल डोज में कोविशील्ड 7,003 और कोवैक्सीन 537 थी।

जिले में 18+ की 90 फीसदी आबादी को सिंगल डाेज लगी, 39% फुल वैक्सीनेट

इसी साल 16 जनवरी से शुरू हुए कोरोना वैक्सीनेशन में जिले में 18+ की आबादी को कुल 19,69,029 टीके लग चुके हैं। इसमें से सिंगल डोज के 13,69,077 और डबल डोज के 5,99,952 टीके शामिल हैं। यानी कि अब तक सिंगल डोज का लाभ 90 फीसदी लोगों ने ले लिया है, जबकि 39 फीसदी को वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके हैं। वैक्सीनेशन के अधीन आने वाली जिले की कुल 15,20,000 आबादी के हिसाब से अभी 10 फीसदी को सिंगल डोज लगनी बाकी है वहीं 61 फीसदी आबादी ऐसी है जिसे दूसरी डोज लगनी है।

खबरें और भी हैं...