अमृतसर में वैक्सीनेशन को लेकर लापरवाही:15 से 18 आयु वर्ग के किशोर नहीं दिखा रहे रुचि; 2 लाख दूसरी डोज लगवाने नहीं आए

अमृतसर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब के अमृतसर जिले में कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर लोग लापरवाही बरत रहे हैं। कोरोना की तीसरी लहर ने भी अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। मरीजों के आंकड़े बढ़ रहे हैं, लेकिन वैक्सीनेशन की तरफ अभी भी लोगों का रुझान देखने को नहीं मिल रहा है। सेहत विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, 15 से 18 साल के किशोर वैक्सीनेशन में रुचि नहीं ले रहे। 2 लाख के करीब लोग ऐसे हैं, जो दूसरी डोज ही लगवाने नहीं आ रहे। वहीं 3.50 लाख लोग ऐसे हैं, जो अभी तक वैक्सीनेशन सेंटर तक पहुंचे ही नहीं है।

सेहत विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, अमृतसर में 18 व उससे अधिक उम्र के 18 लाख 40 हजार 853 लोग हैं। लेकिन 14,88,373 ने ही अभी तक पहली डोज लगवाई है। 3,52,480 लोगों के कारण अमृतसर 100 प्रतिशत का लक्ष्य प्राप्त करने से तकरीबन 20 प्रतिशत पीछे है। वहीं दूसरी डोज लगवाने वालों का आंकड़ा सिर्फ 8,03,779 है और 2 लाख के करीब लोग ऐसे हैं, जो दूसरी डोज लगवाने ही नहीं पहुंच रहे। 1 जनवरी से 7 जनवरी 2022 तक पूरे जिले में 77,219 लोगों को वैक्सीन लगी है। इनमें पहली डोज लेने वाले सिर्फ 36,849 लोग ही हैं।

1412 किशोरों ने लगवाई वैक्सीन

15 से 18 साल के किशोरों में कोरोना वैक्सीन का क्रेज कुछ अधिक देखने को नहीं मिल रहा है। सेहत विभाग के आंकड़ों के अनुसार, 3 जनवरी से 7 जनवरी तक 5 दिन में मात्र 1412 किशोरों ने ही वैक्सीन लगवाई। जबकि पूरे अमृतसर जिले में 1.50 लाख के करीब 15 से 18 साल के किशोर हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है कि किशोरों के वैक्सीनेशन का टारगेट किस तरह पूरा किया जाए। इसके लिए विभाग, जिला प्रशासन के साथ मिलकर जागरुकता अभियान चलाने की योजना पर विचार कर रहा है।

गर्भवती महिलाओं को भी हिदायत

सेहत विभाग गर्भवती महिलाओं को भी वैक्सीन लगवाने की हिदायत दे रहा है। इतना ही नहीं बच्चों को दूध पिलाने वाली महिलाएं भी वैक्सीन लगवा सकती हैं। सेहत विभाग से मिले आंकड़ों के अनुसार, 4369 गर्भवती या बच्चों को दूध पिलाने वाली माताएं अभी तक वैक्सीन लगवा चुकी हैं। लेकिन अगर सभी गर्भवती और दूध पिलाने वाली माताएं वैक्सीन लगवाती हैं तो यह उनके और उनके बच्चों के लिए एक कवच का काम करेगा। इसलिए प्रशासन ने माताओं से अपील की है कि वे वैक्सीनेशन के लिए आगे आएं।

खबरें और भी हैं...