रजिस्ट्री दफ्तरों में भीड़:रजिस्ट्री अप्वाइंटमेंट कम करने के डीसी के आदेश 20 दिन बाद भी लागू नहीं

अमृतसर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • टोकन सिस्टम फिर से लागू कर रोका जा सकता है काेरोना संक्रमण

तहसील कॉम्प्लेक्स स्थित रजिस्ट्री दफ्तरों में कोरोना हिदायतों की अनदेखी हो रही है। यहां जुट रही भीड़ के बीच न तो सोशल डिस्टेंस है और बहुत कम लोग मास्क लगाएं हैं। 4 साल पहले टोकन सिस्टम की व्यवस्था बनाई गई थी जो अब खत्म हो चुकी है। यदि यह व्यवस्था बहाल कराई जाए तो सोशल डिस्टेंस नियम का पालन होने के साथ ही कोरोना केसों में भी कमी आएगी। बता दें कि डिजिटल एलईडी स्क्रीन तहसील-1 और तहसील-2 में

लगाई गई थी। रजिस्ट्री कराने वाली पार्टियों को अप्वाइंटमेंट के लिए जो टोकन नंबर मिलता था, वह स्क्रीन पर आता था और उसी हिसाब से रजिस्ट्रियां कराने जाते थे। हैरानी की बात तो यह है कि डीसी गुरप्रीत सिंह खैहरा ने बढ़ती भीड़ को देख रजिस्ट्री अप्वाइंटमेंट कम कराने के निर्देश जारी किए थे। लेकिन 20 दिन बीतने के बाद भी जिम्मेदार अधिकारी आदेश को लागू नहीं करा सकें हैं।

दूसरी ओर कोरोना केसों की संख्या बढ़ने के कारण मुश्किलें भी बढ़ती जा रही है। बता दें कि सामान्य व तत्काल के अप्वाइंटमेंट सहित दोनों ही तहसीलों में 244 अप्वाइंटमेंट स्लॉट हैं। जिनमें सामान्य अप्वाइंटमेंट के लिए 500 रुपए खर्च करके दोनों ही तहसीलों में 224 व तत्काल के लिए 20 स्लॉट निर्धारित हैं। करीब 200 से 220 स्लॉट डेली फुल हो जाते हैं। जमीन/जायजादों की रजिस्ट्रियां कराने के लिए पार्टियों के अलावा 2 गवाहों की जरूरत होती है। यानि कि रजिस्ट्री दफ्तरों में रोज करीब 500 लोग एकजुट हो रहे। बता दें कि डॉक्टरों की केंद्रीय टीम जांच के लिए पहुंची है और यह माना कि लोगों की अनेदखी से ही कोरोना केस बढ़ रहे हैं। वहीं हिदायतों का पालन कराने में अफसर भी गंभीर नहीं दिख रहे।

खबरें और भी हैं...