स्वर्ण मंदिर में बेअदबी की जांच करेगी SIT:दो दिन में सौंपेगी रिपोर्ट; 9 घंटे दरबार साहिब में रहा आरोपी, तीन से चार बार मूवमेंट हुई डिटेक्ट

अमृतसर5 महीने पहले

पंजाब सरकार ने अमृतसर बेअदबी मामले में स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) का गठन किया है। SIT दो दिन में पंजाब सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। DCP (लॉ एंड ऑर्डर) विशेष जांच दल की नेतृत्व करेंगे।

बेअदबी की घटना को अंजाम देने वाला युवक सुबह ही स्वर्ण मंदिर में पहुंच गया था। CCTV खंगाल रही टीम के अनुसार, मृतक युवक 11.40 बजे वह स्वर्ण मंदिर में दाखिल हुआ। इसके बाद वह लंगर हाल में गया, वहां लंगर खाने के बाद वह परिक्रमा में घूमा।

श्रीसाहिब उठाने के बाद सेवादारों के सामने खड़ा बेअदबी का आरोपी।
श्रीसाहिब उठाने के बाद सेवादारों के सामने खड़ा बेअदबी का आरोपी।

कुछ समय के लिए वह श्री अकाल तख्त साहिब के पिछली तरफ बैठ आराम किया। वह लंगर हाल में दूसरी बार चाय पीता हुआ भी नजर आया। अधिकारियों का कहना है कि गुरुघर में भी मृतक की मूवमेंट तीन से चार बार डिटेक्ट हुई है। वह अंदर जाकर माथा टेक फिर बाहर आ जाता था।

इससे पहले पंजाब के डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा ने बताया कि अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में बेअदबी करने वाला युवक करीब 9 घंटे तक दरबार साहिब में ही रहा। युवक ने सुबह 11.40 पर गोल्डन टेंपल में प्रवेश किया था। अभी तक आरोपी युवक की पहचान नहीं हुई। उसके पास मोबाइल और कोई पहचान पत्र नहीं मिला है। पुलिस उसके बारे में पूरी जानकारी जुटा रही है। अमृतसर के पुलिस कमिश्नर ने बताया कि अभी यह भी कन्फर्म नहीं है कि आरोपी यूपी का है, या कहीं और का, पर वो नॉन पंजाबी है। उस पर धारा 307 के तहत केस दर्ज किया गया है।

रंधावा ने कहा कि आने वाले दो दिनों में मारे गए युवक की पहचान का पता लगा लिया जाएगा। दरबार साहिब के सीसीटीवी कैमरे देखे जा रहे हैं। एक टीम को बाजारों में लगे CCTV कैमरों को देखने के लिए लगा दिया गया है। ताकि आरोपी की मूवमेंट का पता चल सके। अगर वह ट्रेन से भी अमृतसर आया है तो भी उसकी पूरी जानकारी हासिल कर ली जाएगी। लेकिन इसमें दो दिन का समय उन्हें चाहिए।

रंधावा ने बताया कि उन्होंने पुलिस अफसरों से मीटिंग की है। पहले आनंदपुर साहिब में बेअदबी हुई। फिर दरबार साहिब के सरोवर में गुटका साहिब फेंका गया। इसी दौरान ड्रोन भी पकड़ा गया। यह सब सीक्वेंस सोचनीय है। उन्होंने बताया कि शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) को इंटेलिजेंस विंग बनाने को कहा है। रंधावा ने SGPC और सत्कार कमेटी से अपील की है कि जो श्रद्धालु अंदर पड़े रहते हैं, उनसे जरूर पूछा जाए कि वह यहां क्या कर रहे हैं।

बेअदबी की घटना के बाद गोल्डन टेंपल की परिक्रमा में पड़ा शव।
बेअदबी की घटना के बाद गोल्डन टेंपल की परिक्रमा में पड़ा शव।

बेअदबी करने वाले युवक पर लगाई धारा 307

शनिवार को स्वर्ण मंदिर में बेअदबी की घटना के बाद थाना E-डिवीजन पुलिस ने सेवादार साधा सिंह के बयान पर मारे गए युवक के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने मारे गए युवक के खिलाफ धारा 307 (हत्या के प्रयास) और 295 A के तहत मामला दर्ज किया है। साधा सिंह ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि शाम 5.45 बजे जब रहरास का पाठ चल रहा था तो पीला पटका पहने युवक पीतल का जंगला पार कर श्री गुरु ग्रंथ साहिब के करीब पहुंच गया।

युवक ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब के समक्ष रखी श्रीसाहिब (कृपाण) को मार देने की नीयत से उठाया और उसका पैर श्री गुरु ग्रंथ साहिब पर रखे रुमाले पर भी लगे थे। सुप्रीम कोर्ट की रूलिंग में श्री गुरु ग्रंथ साहिब को जीवित गुरु का दर्जा प्राप्त है, इस कारण पुलिस ने कार्रवाई करते हुए मारे गए युवक के खिलाफ धारा 307 के तहत मामला दर्ज किया है।

जब युवक ने जंगला लांघा तो रहरास का पाठ चल रहा था।
जब युवक ने जंगला लांघा तो रहरास का पाठ चल रहा था।

पुलिस कमिश्नर बोले- आज ही पोस्टमार्टम करवाने का प्रयास

उधर, स्वर्ण मंदिर में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी का प्रयास करने वाले युवक के शव का पोस्टमार्टम नहीं हुआ है। फिलहाल उसका शव सिविल अस्पताल के शवगृह में पहचान के लिए रखा गया है। अमृतसर के पुलिस कमिश्नर डॉ. सुखचैन सिंह गिल ने कहा है कि हमारी कोशिश है कि युवक का आज ही पोस्टमार्टम हो जाए। उसकी शिनाख्त के लिए फोटो सभी राज्यों की पुलिस को भेज दी गई है। यह कन्फर्म नहीं है कि आरोपी उत्तर प्रदेश का है, लेकिन नॉन पंजाबी है।

थाना ई-डिवीजन की एसएचओ सतिंदर कौर ने बताया कि शव को सिविल अस्पताल में रखा गया है। युवक की अभी तक पहचान नहीं हो पाई है। नियमों के अनुसार 72 घंटे तक शव को पहचान के लिए रखा जाना जरूरी है। पहचान नहीं हुई तो शव का पोस्टमार्टम होगा और संस्कार किया जाएगा। अगर पहचान हो जाती है और पारिवारिक सदस्यों के सामने आते ही पोस्टमार्टम कर दिया जाएगा।

घटना के बाद शव का चेहरा पूरी तरह से खराब हो चुका है।
घटना के बाद शव का चेहरा पूरी तरह से खराब हो चुका है।

देर रात एसजीपीसी कार्यालय के बाहर से उठे सिख संगठन
घटना के बाद शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी (एसजीपीसी) कार्यालय के बाहर सिख संगठन इकट्ठे हो गए थे, जिन्होंने शव को उनके हवाले करने या शव को उनके सामने रखने की जिद्द की। सिख संगठनों का कहना था कि युवक अभी जिंदा है और पुलिस उसे बचाने की कोशिश कर रही है। लेकिन अंत में पुलिस के आश्वासन और सिख संगठनों के अधिकारियों के शव को सिविल अस्पताल में पहुंच जाने की पुष्टि के बाद धरने को देर रात उठा दिया गया।

बेअदबी की घटना के विरोध में धरने पर बैठे सिख संगठनों के सदस्य।
बेअदबी की घटना के विरोध में धरने पर बैठे सिख संगठनों के सदस्य।

थाना ई-डिवीजन में दो एफआईआर

इस घटना के बाद पुलिस ने रविवार सुबह केस दर्ज कर लिया। पहले रात में ही दो एफआईआर थाना ई-डिवीजन में दर्ज कर चुकी थी। एक शिकायत बेअदबी के किए गए प्रयास के खिलाफ है। वहीं दूसरी शिकायत मारे गए युवक को लेकर दर्ज की गई है। यह मामले फिलहाल अज्ञात पर ही दर्ज हैं। पुलिस अधिकारियों से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने अभी कुछ भी कहने से मना किया है। उनका कहना है कि छानबीन चल रही है, जल्द सूचित किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...