• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • District Head Advocate Gandhi Of Jalandhar BJP Legal Cell Arrested In Fraud Case, Cheated 28.44 Lakh Rupees From Mother Along With Relatives To Save Accused Rapist

जालंधर में BJP लीगल सेल का जिला प्रधान गिरफ्तार:दुष्कर्म के आरोपी को बचाने के लिए उसकी मां से ठगे 28.44 लाख रुपए, एडवोकेट गांधी समेत 4 पर केस, बार काउंसिल ने बताया गलत

अमृतसर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर भाजपा लीगल सैल के प्रधान एडवोकेट लखन गांधी को सोमवार कोर्ट में पेश करके एक दिन का रिमांड लिया गया। - Dainik Bhaskar
जालंधर भाजपा लीगल सैल के प्रधान एडवोकेट लखन गांधी को सोमवार कोर्ट में पेश करके एक दिन का रिमांड लिया गया।

अमृतसर में दुष्कर्म के आरोपी को बचाने के नाम पर ठगी करने के आरोप में पुलिस ने जालंधर भाजपा लीगल सेल के जिला प्रधान एडवोकेट लखन गांधी को गिरफ्तार कर सोमवार कोर्ट में पेश किया गया। पुलिस ने इस दौरा एडवोकेट गांधी का एक दिन का रिमांड हासिल किया है। वहीं दूसरी तरफ जालंधर से कुछ वकील भी अमृतसर कोर्ट में पहुंचे और कोर्ट में पहुंच उन्होंने जज के समक्ष एडवोकेट गांधी के बेकसूर होने की बात रखी। वहीं दूसरी तरफ गिरफ्तारी के बाद अब बार काउंसिल ऑफ पंजाब एंड हरियाणा एडवोकेट गांधी के समर्थन में आ गई है।

एडवोकेट गांधी।
एडवोकेट गांधी।

एसएचओ थाना बी डिवीजन स्वर्णजीत सिंह ने जानकारी दी कि दुष्कर्म के आरोपी के 2 रिश्तेदारों मंजू, नितिन और सुल्तानविंड रोड पर रहने वाले अमनदीप सिंह को भी नामजद किया गया, जोकि अभी फरार हैं। चारों आरोपियों ने मिलकर दुष्कर्म के आरोपी की मां से 28.44 लाख रुपए ठग लिए थे। महिला चरणजीत कौर ने पुलिस को जानकारी दी कि उसका बेटा मार्च 2020 को दुष्कर्म के मामले में पकड़ा गया था। जिसके बाद उसके ही रिश्तेदार मां-बेटे जालंधर के रहने वाले मंजू खेड़ा और नितिन खेड़ा ने जालंधर के ही पड़ोसी वकील के साथ मिलकर उसके साथ ठगी की है। महिला ने बताया कि आरोपियों ने तत्कालीन SHO बी-डिवीजन के नाम पर 6 लाख, हाईकोर्ट के वकील के नाम 6 लाख रुपए ठगे थे। इतना ही नहीं जमानत के लिए 8.50 लाख रुपए लिए और उसकी भी जाली एफडीआर बना कर कोर्ट में भेज दी। इसके अलावा विरोधी पक्ष के वकील और महिला मंडल की एक प्रधान के नाम पर भी पैसे लिए गए। जब महिला को अपने साथ हुई ठगी की भनक लगी तो उसने इंक्वायरी की मांग की। जिसके बाद इस धोखाधड़ी का खुलासा हुआ।

13 मई को इंक्वायरी कर मांग की
शिकायतकर्ता चरणजीत कौर ने 13 मई 2021 को आरोपियों के खिलाफ शिकायत दी थी। जिसमें उसने बताया था कि उसके बेटे लवप्रीत सिंह के खिलाफ दुष्कर्म के आरोप में दर्ज एफआईआर रफा-दफा करवाने, जमानत दिलवाने के नाम पर उससे 28,44,500 रुपए की धोखाधड़ी की गई है। पुलिस ने इंक्वायरी शुरु की और तकरीबन 2 महीनों के बाद चार आरोपियों एडवोकेट गांधी, मंजू, नितिन और सुल्तानविंड रोड़ पर रहने वाले अमनदीप सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया।

आरोपी मां-बेटे ने मिलाया वकील गांधी से
आरोपी मां-बेटे ने चरणजीत कौर को पड़ोसी वकील लखन गांधी से मिलवाया था। शिकायतकर्ता के मुताबिक 7 मार्च को आरोपी नीतिन खेड़ा ने लवप्रीत के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने से रुकवाने के लिए जालंधर स्थित बैंक के खाते में 1.47 लाख डालने के लिए कहा। पुलिस ने उसके बेटे को गिरफ्तार कर लिया तो उसने आरोपी बहन और भांजे के साथ बात की, जिसके बाद आरोपियों ने 1.50 लाख रुपए की मांग की। उसने 12 मार्च को खाते में 2 लाख जमा करवा दिए। इसके बाद 21 मार्च और 19 अगस्त 2020 को उसने फिर आरोपी मंजु खेड़ा के खाते में 6,02,900 रुपए और नीतिन के एकाउंट में 6 अप्रैल 2020 से 4 सितंबर 2020 तक 8,06,000 रुपए जमा करवाए।

बार काउंसिल का आरोप- गिरफ्तारी इल्लीगल

इस गिरफ्तारी को गलत करार देते हुए द बार काउंसिल ऑफ पंजाब एंड हरियाणा ने डीजीपी पंजाब को शिकायत भेजते हुए पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। काउंसिल के चेयरमैन मिंदरजीत यादव ने शिकायत में लिखा है कि यह शिकायत ही गलत है और जानबूझ कर एडवोकेट गांधी को फंसाया गया है। इतना ही नहीं एडवोकेट गांधी के परिवार के साथ भी बुरा व्यवहार किया गया है। काउंसिल ने इस दौरान पुलिस अधिकारियों के खिलाफ ही एक्शन की मांग कर दी है।

खबरें और भी हैं...