• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • Drone Was Seen In Khalda Five Days Ago, The Consignment Was Likely To Be Supplied From It, The Accused Had To Take The Consignment To Moga And Press It At An Unknown Place, Got Remand For Two Days

2 दिन के रिमांड पर तरनतारन में पकड़े KTF आतंकी:पाकिस्तान से ड्रोन के जरिए गिराए गए हथियार, आरोपियों ने मोगा में अज्ञात जगह पर दबाने थे; बड़ा सवाल- बॉर्डर से कौन उठाकर ले गया?

अमृतसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तीनों आरोपियों को कोर्ट में पेश करते हुए पुलिस। - Dainik Bhaskar
तीनों आरोपियों को कोर्ट में पेश करते हुए पुलिस।

पाकिस्तान की तरफ से भेजी गई टिफिन बम, हैंड ग्रेनेड और पिस्टल की खेप के साथ तरनतारन पुलिस ने गुरुवार को खालिस्तानी टाइगर फोर्स (KTF) के 3 आतंकियों को पकड़ने में सफलता हासिल की। शुक्रवार को तीनों आरोपियों मोगा निवासी कंवरपाल सिंह, कुलविंदर सिंह और कमलप्रीत सिंह को कोर्ट में पेश किया। पुलिस ने सभी का 2 दिन का रिमांड हासिल किया है। हथियारों की खेप बॉर्डर से कौन उठा कर लाया और आरोपियों को यह खेप कहां पहुंचानी थी, इसकी जानकारी पुलिस निकलवाने में जुटी हुई है। फिलहाल देश की विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों ने भी आरोपियों से पूछताछ शुरू कर दी है।

पुलिस की तरफ से पकड़ा गया टिफिन बम
पुलिस की तरफ से पकड़ा गया टिफिन बम

5 दिन पहले खालड़ा सेक्टर में घुसा था ड्रोन
जानकारी के अनुसार 5 दिन पहले खालड़ा सेक्टर में BSF ने ड्रोन को पाकिस्तान से भारतीय सीमा में दाखिल होते हुए देखा था। BSF ने फायरिंग करते हुए ड्रोन को भगा दिया था। लेकिन संभावित है कि KTF के पकड़े गए यह तीनों आतंकियों से जब्त खेप इसी ड्रोन के जरिए भारत में दाखिल हुई थी। पुलिस की शुरुआती जांच में स्पष्ट हुआ है कि यह तीनों आरोपी ही कैरियर के रूप में काम कर रहे थे। तीनों ने इस खेप को तरनतारन से उठाया था और उसे मोगा के समीप किसी जगह पर जाकर छिपाना था। लेकिन यह खेप बार्डर से कौन उठा कर लाया और आगे किसे हैंडओवर करनी थी, इसकी कोई जानकारी आरोपियों ने अभी तक पुलिस को नहीं दी है।

पुलिस की तरफ से रिकवर हैंड ग्रेनेड।
पुलिस की तरफ से रिकवर हैंड ग्रेनेड।

कनाडा में बैठे अर्शदीप डल्ला देता था निर्देश
शुरुआती जांच में सामने आया है कि मॉड्यूल का सदस्य कनाडा के अर्शदीप डल्ला है। उसने ही आरोपियों को तरनतारन में दबाई गई खेप लाने के लिए भेजा था। आरोपियों ने इस खेप को मोगा लेकर जाना था। जहां आर्शदीप का निर्देश उन्हें मिलना था कि इस खेप का क्या करना है। पुलिस के अनुसार आरोपियों ने अर्शदीप के इशारे पर इस खेप को किसी अज्ञात जगह पर दबाना था, जिसे बाद में किसी स्लीपर सेल ने रिकवर कर बड़ी घटना को अंजाम देना था।

पंजाब पुलिस के लिए सबसे बड़ा सवाल खेप को बार्डर से रिकवर करने वाले को लेकर है। पुलिस की शुरुआती जांच में यह स्पष्ट हुआ है कि तीनों आरोपी ही कैरियर थे। लेकिन ड्रोन के जरिए खेप फेंके जाने के बाद इसे बार्डर से कौन उठा कर लाया, इसके बारे में पुलिस कोई भी जानकारी हासिल नहीं कर पाई है।

क्या है मामला
पंजाब में तरनतारन के भिखीविंड में हथियारों की खेप लेने पहुंचे 3 आतंकियों को पुलिस के गिरफ्तार किया है। तीनों आरोपी कनाडा में बैठे आतंकी अर्शदीप डल्ला के कहने पर यहां डिलीवरी लेने पहुंचे थे। आरोपियों की पहचान मोगा निवासी कंवरपाल सिंह, कुलविंदर सिंह और कमलप्रीत सिंह के रूप में हुई है। कंवरपाल 2 हफ्ते पहले कनाडा से लौटा था। पुलिस ने उनके पास से टिफिन बम, 2 हथगोले (86P) और तीन 9 एमएम पिस्तौल बरामद की है।

खबरें और भी हैं...