पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सेवा:दुर्ग्याणा कमेटी रोज 200 कोरोना मरीजों के लिए जीएनडीएच भेज रही लंगर

अमृतसर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्ग्याणा मंदिर के लंगर हाॅल में कोरोना मरीजों के लिए खाना पैक करते सेवादार।
  • तीन महीने से दो वक्त का हेल्दी खाना और नाश्ता पैक करके अपनी गाड़ी से अस्पताल पहुंचा रही कमेटी

कोरोना संक्रमण के दौरान कर्फ्यू और फिर लॉकडाउन में जरूरतमंदों को रसद और लंगर पहुंचाने का सिलसिला थम चुका है, लेकिन दुर्ग्याणा तीर्थ कमेटी आज भी इसे जारी रखे हुए है। खास बात तो यह है कि कमेटी गुरु नानक देव अस्पताल में रोजाना 200 कोरोना पॉजीटिव मरीजों के लिए तीन टाइम का लंगर (पैक्ड खाना) तीन महीनों से सप्लाई कर रही है। लंगर डॉक्टरों के सुझाव के मुताबिक हाइजीनिक तरीके से तैयार होता है। मंदिर प्रबंधन का कहना है कि प्रशासन जब तक चाहेगा लंगर भेजा जाता रहेगा।

मार्च में 6000 पैकेट रोजाना लोगों में बांटे

मंदिर कमेटी के प्रधान एडवोकेट रमेश शर्मा और महासचिव अरुण खन्ना ने बताया कि कोरोना काल के शुरुआत से ही कमेटी रोजाना शहर के विभिन्न इलाकों में 6,000 पैकेट तैयार खाना भेजती रही है। इसके साथ ही मास्क और 1,000 लीटर सेनेटाइजर भी लोगों तक पहुंचाया गया। उक्त लोगों का कहना है कि कमेटी की यह कोशिश रही है कि नगर में कोई भूखा न रहे और एहतियात की जरूरी वस्तुएं भी लोगों तक पहुंचती रहें।

डॉक्टरों की सलाह पर बनता है खाना

कमेटी के महासचिव अरुण खन्ना ने बताया कि अस्पताल प्रबंधन की अपील पर कमेटी ने अस्पताल में दाखिल पॉजीटिव मरीजों के लिए 17 जून से पैक्ड लंगर सप्लाई करना शुरू किया था। इसके तहत सुबह का का नाश्ता, दोपहर और रात का खाना भेजा जाता है। नाश्ते में दलिया और चाय दी जाती है। दोपहर और शाम के खाने में दो सब्जी, दाल, चपाती ओर चावल शामिल होता है। उनका कहना है कि सारा का सारा सामान डॉक्टरों की सलाह और सुझाव पर पौष्टिकता के मद्देनजर तैयार होता है। तैयार करने के लिए 11 सेवादार हैं और तैयारी ले लेकर पैकिंग तक साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखा जाता है। इसके बाद कमेटी की गाड़ी से अस्पताल भिजवाया जाता है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें