• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • Farmers Surrounded Tarsem DC, Who Arrived To Give A Check Of The Grant In The Government School, Remained In The School For Three Hours

किसानों का गुस्सा अब कांग्रेस विधायकों पर भी:सरकारी स्कूल में ग्रांट का चैक देने पहुंचे तरसेम डीसी को किसानों ने घेरा, तीन घंटे तक रहे स्कूल में बंद

अमृतसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल के बाहर प्रदर्शन करते हुए किसान। - Dainik Bhaskar
स्कूल के बाहर प्रदर्शन करते हुए किसान।

अटारी हलके के विधायक तरसेम सिंह डीसी को एक बार फिर किसानों का विरोध सहना पड़ा है। इस बार वह सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल चीता में चैक देने के लिए पहुंचे थे। किसानों को इसकी भनक लग गई और सभी स्कूल के बाहर एकत्रित हो गए। यह दूसरी बार है जब तरसेम डीसी को किसानों ने घेरा है। एक महीने पहले वह गांव वरपाल में एक चुनावी सभा में शामिल होने पहुंचे थे, जहां उन्हें किसानों का विरोध सहना पड़ा था।

तरसेम सिंह डीसी को स्कूल से सुरक्षित निकालते हुए पुलिस।
तरसेम सिंह डीसी को स्कूल से सुरक्षित निकालते हुए पुलिस।

जानकारी के अनुसार विधायक तरसेम डीसी ने सरकारी स्कूल चीते को ग्रांट देने का वायदा किया था। ग्रांट का चैक देने के लिए ही वह दोपहर स्कूल पहुंचे थे। लेकिन किसानों ने विधायक तरसेम डीसी की गाड़ियों का काफिला स्कूल आते हुए देख लिया। जिसके बाद आजाद किसान संघर्ष कमेटी के नेता हरजीत सिंह चीता की अगवाई में एक दल स्कूल पहुंच गया और पूरे स्कूल को घेर लिया। किसानों ने तरसेम डीसी के खिलाफ नारेबाजी भी की। किसानों के गुस्से को देखते हुए उन्होंने अंदर ही रहने का फैंसला किया।

बेटे व पुलिस ने आकर किसानों से की बात

दो घंटे से अधिक समय बीत जाने के बाद तरसेम सिंह डीसी ने अपने बेटे व पुलिस से संपर्क साधा। उनके बेटे दिलशेर सिंह व पुलिस ने किसानों से बातचीत शुरु की। जिसके बाद किसानों ने उन्हें जाने का रास्ता दिया। इस दौरान तरसेम डीसी तकरीबन ढाई घंटे तक अटारी हलके में पड़ते गांव चीता में ही फंसे रहे।

खबरें और भी हैं...