• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • Fled From Amritsar, Got A Job Of 10 Thousand In Gurdwara Sahib, Aunt's Son Had Helped, NIA Is Also Involved In The Investigation Of The Matter, May Take Up The Matter Soon

अजनाला में टिफिन बम और ब्लास्ट मामला:NIA ने शुरू की पूछताछ और सबूतों की जांच; पुलिस पहले मान रही थी आम घटना, जो निकली आतंकी वारदात

अमृतसरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमृतसर के अजनाला कस्बे में टिफिन बम मिलने और ब्लास्ट मामले में अब NIA की एंट्री हो गई है। मामले में पकड़े गए चारों आरोपियों रूबल, विक्की भुट्‌टी, मलकीत सिंह और गुरप्रीत सिंह से NIA ने पूछताछ शुरु कर दी है। इस मामले को NIA जल्द अपने हाथों में ले सकती है। गुरुवार की पूरी रात NIA की टीम ज्वॉइंट इंटैरोगेशन सेंटर में रही और पकड़े गए सभी 4 आरोपियों से पूछताछ करती रही। इसके अलावा मामले की जांच संबंधी डॉक्यूमेंट भी देखे। NIA ने पैन ड्राइव, जिसे आतंकी लखबीर सिंह रोडे ने टिफिन बम के साथ भेजा था, का डाटा भी ले लिया है। लेकिन NIA के लिए सबसे बड़ी मुश्किल दो टिफिन बम रिकवर करने की है, जिसे गुरमुख सिंह रोडे डिलीवर कर चुका है।

रूबल की गिरफ्तारी के बार गुरुद्वारा साहिब में पूछताछ करती पुलिस।
रूबल की गिरफ्तारी के बार गुरुद्वारा साहिब में पूछताछ करती पुलिस।

आरोपी रूबल को लेकर चौंकाने वाला खुलासा

आतंकी वारदात को अंजाम देने और तकरीबन 22 दिन के बाद एक युवक का मर्डर करके आरोपी रूबल अम्बाला के शाहबाद स्थित मरदो साहिब में नौकरी पर लग गया था। यह नौकरी दिलाने में रूबल का साथ उसकी बुआ के बेटे ने किया। फिलहाल पुलिस ने बुआ के बेटे से पूछताछ और मरदो साहिब गुरुद्वारा में जांच शुरु कर दी है। वारदात अंजाम देने के बाद रूबल अमृतसर में अपने रिश्तेदारों के साथ संपर्क में था, जिससे पुलिस को उसकी लोकेशन का पता चल गया। अजनाला से पुलिस गई और रूबल को पकड़ने में सफलता हासिल की। रूबल ने पुलिस को जानकारी दी कि अम्बाला में उसकी बुआ का बेटा संदीप रहता है। वह पिछले 7-8 साल से शाहबाद में सरिया बांधने का काम करता है। उसी ने उसे शाहबाद मरदो साहिब गुरुद्वारा में लेबर के काम में लगवा दिया और 10 हजार रुपए प्रति महीना वेतन का भी वायदा किया। वह सुबह गुरुद्वारा मरदो साहिब में काम करता था और इसके बाद बुआ के बेटे के पास ही चला जाता था।

कोर्ट में पेशी के दौरान रूबल।
कोर्ट में पेशी के दौरान रूबल।

पुलिस पहले आम घटना मान रही थी

अजनाला के शर्मा फिलिंग स्टेशन के बाहर खड़े पेट्रोल टैंकर PB 02 CR 5926 में ब्लास्ट 8 अगस्त को हुआ था। लेकिन पुलिस शुरुआत में इसे आम घटना मान रही थी। पुलिस का मानना था कि किसी कारण वश इस टैंकर में आग लग गई है। लेकिन जब पुलिस ने टैंकर के सैंपल जांच के लिए भेजे और पेट्रोल पंप की फुटेज सामने आई तो स्पष्ट हुआ कि यह आतंकी घटना है। पुलिस ने 3 दिन के बाद FIR दर्ज की थी।

क्या था मामला

पाकिस्तान ISI एजेंट कासिम और प्रतिबंधित इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन के प्रमुख लखबीर सिंह रोडे पंजाब के हालातों को खराब करने में जुटे हुए हैं। लखबीर रोडे ने अपने भतीजे गुरमुख रोडे को चार टिफिन बम पंजाब के विभिन्न इलाकों में डिलीवर करने के लिए भेजे। जिनमें से एक बम अजनाला के रूबल, विक्की भुट्‌टी, मलकीत सिंह और गुरप्रीत सिंह को भेजा गया। 8 अगस्त की रात आरोपियों ने इस बम से शर्मा फिलिंग स्टेशन अजनाला के बाहर खड़े टैंकर में ब्लास्ट कर दिया।

पुलिस पहले इसे आम घटना मान रही थी, लेकिन बाद में पुलिस को समझ आया कि यह आतंकी घटना है। रूबल को अम्बाला से गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने तीनों आरोपियों विक्की भुट्‌टी, मलकीत सिंह और गुरप्रीत सिंह को अजनाला से गिरफ्तार कर लिया था। जिसके बाद आरोपियों को कोर्ट में पेश करते हुए पुलिस ने 4 दिन का रिमांड हासिल किया है।

खबरें और भी हैं...