पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • Government Guidelines Not Approved By SGPC, Anchor Will Also Be Run In Darbar Sahib, Prasad Will Also Distribute, Mask Not Necessary

आज खुलेंगे धार्मिक स्थल:एसजीपीसी को मंजूर नहीं सरकार की गाइडलाइंस, दरबार साहिब में लंगर भी चलेगा, प्रसाद भी बांटेंगे, मास्क जरूरी नहीं

अमृतसरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • टोकन सिस्टम से ही प्रवेश होगा प्रसाद पर रोक, मास्क भी जरूरी
  • लंगर व प्रसाद गुरुद्वारा साहिब की मर्यादा का अभिन्न अंग : लौंगोवाल

कोरोना काल में केंद्र सरकार व सूबा सरकार की तरफ से 8 जून से धर्म स्थलों के लिए जारी एडवाइजरी के कई पहलुओं को लेकर शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सहमत नहीं है। एडवाइजरी में धर्म स्थलों के भीतर सोशल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजेशन के साथ लंगर, कड़ाह-प्रसाद वितरण पर रोक, श्रद्धालुओं के लिए टोकन सिस्टम से प्रवेश और दर्शन के दौरान मास्क को लाजिमी करार दिया गया है।

लेकिन एसजीपीसी ने सोशल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजेशन के अलावा एडवाइजरी के दूसरे पॉइंट  पर एतराज जताया है। कमेटी के प्रधान भाई गोबिंद सिंह लौंगोवाल का कहना है कि लंगर व कड़ाह-प्रसाद गुरुद्वारा साहिब की मर्यादा का अभिन्न अंग है। इनको रोकने का आदेश जारी करना जायज नहीं है।

गुरुघरों से तो कोरोना में भी जरूरतमंदों के लिए लंगर सेवा की जाती रही है। सरकार व सेहत विभाग के निर्देशों के मुताबिक ही ये सेवा जारी रही है, लेकिन अब सरकार इन पर रोक लगाने की बात कर रही है। दरबार साहिब के अतिरिक्त मैनेजर भाई राजिंदर सिंह रूबी ने कहा गुरु घर में मास्क जरूरी नहीं है। संगत के लिए सेनेटाइजेशन, थर्मल स्क्रीनिंग की पूरी व्यवस्था की गई है।

गाइडलाइन फाॅलो करना धार्मिक स्थलों की प्रबंधक कमेटियां की ही जिम्मेदारी 

डीसीपी लॉ एंड आर्डर जगमोहन सिंह का कहना है कि जिन लोगों ने धार्मिक स्थल पर जाना है, उन्हें गाइलाइंस फालो करना होगा । इसके अलावा सरकार की तरफ से जो हिदायतें आई हैं, उनका पालन करना लोगों का भी फर्ज बनता है। धार्मिक स्थलों की देख-रेख करने वाली कमेटियों की भी जिम्मेदारी बनती है कि वह का पालन करें। एक पूर्व प्रशासनिक अफसर ने कहा कि धार्मिक स्थल के परिसर में नियमों का पालन कराना संस्था की जिम्मेदारी है।

खबरें और भी हैं...