पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना फर्जी रिपोर्ट मामला:तुली लैब और ईएमसी अस्पताल के संचालकों की बेल पर 7 को सुनवाई

अमृतसर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिक्रम मजीठिया, अकाली नेता
  • कोर्ट में विजिलेंस पेश नहीं कर पाई रिकॉर्ड, आरोपी 10 दिन बाद भी फरार
  • हाईकोर्ट ने पंजाब सरकार को तुली लैब संचालकों की याचिका पर 15 तक पक्ष रखने को कहा

कोरोना की जाली रिपोर्ट और फर्जी इलाज कर लोगों से लाखों वसूलने के मामले में विजिलेंस ब्यूरो द्वारा केस दर्ज करने के बाद  फरार चल रहे तुली लैब के संचालकों और ईएमसी अस्पताल के डॉक्टरों की जमानत याचिका पर सुनवाई अब 7 जुलाई को होगी। शुक्रवार को विजिलेंस ब्यूरो के अधिकारी इस मामले में एडिशनल सेशन जज सर्बजीत सिंह धालीवाल के सामने मामले से जुड़ा रिकॉर्ड पेश नहीं कर पाए।

शुक्रवार को जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान ईएमसी अस्पताल के मालिक पवन अरोड़ा और इसी अस्पताल के डॉक्टर पंकज के वकील कोर्ट में पेश हुए, लेकिन डीएसपी हरप्रीत सिंह के पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में होने के चलते विजिलेंस ब्यूरो मामले से जुड़ा रिकाॅर्ड पेश नहीं कर पाया। उधर, तुली लैब के संचालकों ने लैब की मशीन सील करने संबंधी विजिलेंस की कार्रवाई को गलत ठहराते हाईकोर्ट में याचिका लगाई है। शुक्रवार को हाईकोर्ट ने इस पर 15 जुलाई को सरकार से पक्ष रखने को कहा है।

20 को विजिलेंस ने की थी कार्रवाई

अमृतसर के वरिंदर, राजकुमार और अशोक ने तुली लैब और ईएमसी अस्पताल पर कोरोना की जाली रिपोर्ट और फर्जी इलाज कर लाखों वसूलने का आरोप लगाते विजिलेंस में शिकायत दी थी। इसके बाद विजिलेंस ने 20 जून को तुली लैब व अस्पताल में रेड कर रिकाॅर्ड जब्त व टेस्ट करने वाली मशीन सील कर दी थी। विजिलेंस ने तुली लैब के डॉ. रोबिन तुली, डॉ. रिदुम, डॉ. महिंदर व संजय पिपलानी व ईएमसी के मालिक पवन अरोड़ा,  डॉ. पंकज के खिलाफ हत्या प्रयास व फ्रॉड का केस केस दर्ज किया था। सभी आरोपी तभी से फरार चल रहे हैं।

एसएसपी बोले-आरोपियों को जल्द ही पकड़ा जाएगा 

10 दिन बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी न होने पर विजिलेंस ब्यूरो के बॉर्डर रेंज के एसएसपी परमपाल सिंह ने कहा- टीमें रेड कर रही हैं। आरोपी फरार हैं। उनकी लोकेशन ट्रेस करने के साथ सभी को अरेस्ट कर लिया जाएगा।

पॉजिटिव बता आरोपी ऐंठते थे मरीजों से पैसे

विजिलेंस ने दावा किया था कि तुली लैब व ईएमसी संचालक मरीजों से ठगी का नेक्सस चला रहे थे। लैब पॉजिटिव होने की जाली रिपोर्ट देती और उन्हें ईएमसी भेज देती। इस दौरान लोगों से इलाज के नाम पर मोटी रकम वसूली जाती थी।

आरोपियों की सरकार से सेटिंग, इसलिए बच रहे : मजीठिया

कोरोना की झूठी रिपोर्ट देने वालों को इसलिए नहीं पकड़ा जा रहा क्योंकि उनकी कांग्रेस के कुछ नेताओं से सेटिंग हो चुकी है। सीएम के एक नजदीकी नेता ने लैब काे टेस्ट की अनुमति दिलाई थी। इस बात की जांच हाेनी चाहिए कि लैब को टेस्ट की मंजूरी  दिलाने में किस-किस  ने भूमिका निभाई। -बिक्रम मजीठिया, अकाली नेता

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप धैर्य व विवेक का उपयोग करके किसी भी समस्या को सुलझाने में सक्षम रहेंगे। आर्थिक पक्ष पहले से अधिक सुदृढ़ स्थिति में रहेगा। परिवार के लोगों की छोटी-मोटी जरूरतों का ध्यान रखना आपको खुशी प्र...

और पढ़ें