उम्मीद की टीका:जुलाई में सबसे अधिक 1,81,214 वैक्सीनेशन; सिर्फ 8 दिनों में 1,23,850 ने लिया लाभ, शुक्रवार को 13,984 को लगा टीका

अमृतसर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रणजीत एवेन्यू के सेटेलाइट अस्पताल में उमड़ी भीड़। - Dainik Bhaskar
रणजीत एवेन्यू के सेटेलाइट अस्पताल में उमड़ी भीड़।
  • 3, 7 और 12 जुलाई को सर्वािधक क्रमश: 43891, 16118 और 12870 टीके लगे
  • रणजीत एवेन्यू कम्युनिटी हाल में भीड़ को रोकने के लिए पुलिस ने जड़ा ताला

जुलाई भले ही वैक्सीन रुक-रुक कर मिल रही हो, लेकिन बीते महीनों की तुलना में जुलाई में वैक्सीनेशन ने रफ्तार पकड़ी है। इस महीने के 30 दिनों में अब तक 1,81214 लोगों को टीका लगाया जा चुका है, जो जून के मुकाबले 20,607 डोज अधिक है। जून में कुल 1,60,607 लोगों को टीका लगा था। बीते महीनों में सबसे अधिक जून में वैक्सीनेशन हुई थी। जुलाई महीने के आठ दिन ऐसे रहे हैं जिनमेंं 1,23,850 डोज टीके लगे।

सहायक सिविल सर्जन डॉ. अमरजीत सिंह ने बताया कि 3 जुलाई को 43,891 डोज तो, 7 को 16,118 डोज, 12 को 12,870 डोज, 16 को 9,982 डोज, 21 को 11,254 डोज, 22 को 7,851 डोज, 24 को 7,900 डोज तथा 30 जुलाई को 13,984 डोज लगी। सिविल सर्जन डॉ. चरणजीत सिंह का कहना है कि लोगों में वैक्सीन के प्रति अब रुझान बढ़ गया है। उनका कहना है कि अगर 3 लाख डोज भी मिले तो एक दिन में खप सकती है।

वैक्सीन सेंटरों पर बुलानी पड़ी पुलिस
शुक्रवार के वैक्सीनेशन के दौरान जिले के कई सेंटरों पर भीड़ सेहत मुलाजिमों के लिए परेशानी का कारण बनी रही। कई सेंटर ऐसे भी रहे जहां पर दो घंटे में वैक्सीन खत्म हो गई। सिविल अस्पताल की भी ऐसी ही स्थिति रही। इसके विपरीत रणजीत एवेन्यू कम्युनिटी हाल तथा सेटेलाइट अस्पताल में टीका लगवान को लोगों का हुजूम उमड़ा। कम्युनिटी हाल में तो पुलिस ने ताला लगाकर भीड़ रोकी। जिसके कारण टीका लगवा चुके लोगों को भी काफी समय तक भीतर ही रहना पड़ा। गेट पर घंटों तक लोग इंतजार करते रहे, लेकिन वैक्सीन खत्म हो गई।

12228 कोविशील्ड और 1756 कोवैक्सीन लगी
शुक्रवार को 13,984 टीके लगेञ जिसमें 7458 डोज पहली और इसमें 6,380 कोविशील्ड तथा 1,078 कोवैक्सीन थी। दूसरी डोज 6,526 लगी। जिसमें 5,848 कोविशील्ड तथा 678 डोज कोवैक्सीन थी।

जिले में अब एक्टिव केस 36, अस्पतालों में सिर्फ 9 मरीज बचे, लगातार पांचवें दिन कोई मौत नहीं
शुक्रवार को कोरोना के 5 नए मरीज रिपोर्ट हुए और इतने ही मरीज ठीक भी हो गए। राहत की बात ये रही की लगातार 5वें दिन महामारी से किसी मरीज की जान नहीं गई। फिलहाल जिले में कुल एक्टिव केस 36 रह गए हैं। जिसमें से सिर्फ 9 अस्पतालों में हैं।
22 होम आइसोलेशन और 5 शिफ्टिंग में
सेहत विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक जिले में अब कुल एक्टिव केस 36 रह गए हैं। इनमें से 22 होम आइसोलेशन में हैं और 5 शिफ्टिंग में, बाकी के 9 अस्पतालों में हैं। अस्पतालों वाले इन मरीजों में 5 माइल्ड, 1 अॉक्सीजन सपोर्ट पर, 2 आईसीयू में और 1 वेंटिलेटर पर है। इसी तरह से गुरु नानक देव अस्पताल की बात करें तो यहां पर 6 मरीज दाखिल हैं। इनमें से 4 माइळ्ड, 2 आईसीयू में हैं।

खबरें और भी हैं...