सुखबीर बोले, पंजाब में बिजली संकट के लिए कांग्रेस जिम्मेदार:कहा- सत्ता में आते ही सरकारी नौकरियों में लड़कियों के लिए 50% पद रिजर्व करेंगे; महिलाओं को लगाएंगे 2000 रुपए पेंशन

अमृतसर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुद्वारा बोहड़ी साहिब में संगत को संबोधित करते सुखबीर सिंह बादल। - Dainik Bhaskar
गुरुद्वारा बोहड़ी साहिब में संगत को संबोधित करते सुखबीर सिंह बादल।

शिरोमणि अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर बादल ने पंजाब के मौजूदा बिजली संकट के लिए प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया। सुखबीर ने आरोप लगाया कि कांग्रेस सीएम और मंत्रियों ने कभी विभाग की तरफ ध्यान नहीं दिया। कभी जानने का प्रयास नहीं किया कि पंजाब में हर साल कितनी खपत बढ़ रही है। सिद्धू लगातार झूठ बोल रहे हैं कि सिर्फ प्राइवेट उत्पादकों के चलते यह संकट पैदा हुआ। सुखबीर ने कहा कि अगर कांग्रेस के मंत्रियों ने बिजली विभाग पर ध्यान दिया होता तो यह संकट खड़ा ही नहीं होता।

इस मौके पर सुखबीर ने अकाली दल की सरकार बनने पर हर वर्ग को हर महीने 400 यूनिट और 2 महीनों के बिल में 800 यूनिट फ्री बिजली देने का वादा किया। उन्होंने युवाओं से कहा कि सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों का भविष्य उज्जवल किया जाएगा। उन्होंने सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए कॉलेजों और यूनिवर्सिटी में 25% सीटें रिजर्व रखने की बात कही। सरकारी नौकरियों में 50% पद लड़कियों के लिए रिजर्व रखने और महिलाओं को 2 हजार रुपए प्रति महीना पेंशन लगवाने का वादा भी किया।

बिजली संकट पर अपने विचार देते हुए सुखबीर सिंह बादल।
बिजली संकट पर अपने विचार देते हुए सुखबीर सिंह बादल।

सुखबीर बादल ने कहा कि कांग्रेस सरकार दिल्ली के चक्कर लगाने में व्यस्त है जबकि यह समय पंजाब में रहकर काम करने का है। सीएम चन्नी को दिल्ली के चक्कर काटने की जगह पंजाब में रहकर काम करने पर जोर देना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया है कि मंत्री व मुख्यमंत्री ने कभी बिजली विभाग की मीटिंग नहीं ली और न ही हालात को जानने का प्रयास किया। नवजोत सिद्धू भी झूठ बोलते हैं कि यह संकट प्राइवेट प्रोडक्शन हाउसेस के कारण पैदा हुआ है। अगर ऐसा है तो सरकारी थर्मल प्लांट क्यों बंद हैं? दरअसल इस समय पंजाब में मिस मैनेजमेंट है। जनता को आने वाले समय में 7-7 घंटे के बिजली कट के लिए तैयार रहना होगा।

धार्मिक वोट पर ध्यान रहा सुखबीर बादल का
पंजाब के शहरी इलाकों में अपनी पकड़ मजबूत करने में जुटे अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल 4 दिन बाद फिर रविवार को अमृतसर पहुंच थे। अपने इस दौरे में वह रामतीर्थ भी गए, छेहरटा साहिब गुरुद्वारा में भी नतमस्तक हुए और छेहरटा स्थित जामा मस्जिद में भी पहुंचे।

जामा मस्जिद के बाहर सुखबीर बादल।
जामा मस्जिद के बाहर सुखबीर बादल।

अमृतसर पर लगाए 2500 करोड़ रुपए
सुखबीर ने अपने भाषण में अमृतसर के वोटरों का ध्यान अकाली सरकार के समय किए गए कार्यों पर डाला। सुखबीर ने बताया कि उन्होंने अमृतसर की तरक्की के लिए 2500 करोड़ रुपए खर्च किए। वह जब भी दरबार साहिब आते तो उन्हें कुछ कमी खलती थी। जिसे दूर करने के लिए हेरिटेज स्ट्रीट बना दी गई। शहर में और बाहर जितने भी पुल और हाईवे बने हैं, वे सभी अकाली सरकार के समय बने हैं। कांग्रेस के समय कभी कोई तरक्की का काम नहीं हो पाया।

अरविंद केजरीवाल पर कसा तंज
सुखबीर ने वोटरों को अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए भी हर वर्ग को कुछ ना कुछ देने का वादा कर दिया है। सुखबीर का कहना है कि चुनावों में किस पार्टी को चुनना है, वे वोटरों के हाथ में है। लेकिन इसी बीच उन्होंने आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल पर तंज भी कसा कि क्या वह हर बार पंजाब के मसले सुलझाने आएंगे। अगर कल को अरविंदर केजरीवाल कहीं चले गए तो पंजाब का क्या होगा। इसलिए उसी पार्टी को चुनो, जो पंजाब की है।

खबरें और भी हैं...