करतारपुर कॉरिडोर से कैसे जाएगा पहला जत्था?:गृहमंत्री के ऐलान के बाद असमंजस, साइट पर नहीं हो पा रहे ऑनलाइन आवेदन, पाक ने जारी की गाइडलाइन

अमृतसर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने 17 नवंबर से भारत-पाकिस्तान के बीच बने करतारपुर कॉरिडोर को दोबारा खोलने की घोषणा तो कर दी है, लेकिन इसके लिए रजिस्ट्रेशन अभी तक शुरू नहीं हाे पाया है। इसके लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय की गाइडलाइंस का इंतजार है। गुरु नानकदेव का प्रकाश पर्व महज 3 दिन बाद यानी 19 नवंबर को है।

करतारपुर कॉरिडोर पंजाब में गुरदासपुर के सरहदी इलाके डेरा बाबा नानक से शुरू होता है। ऐसे में इस कॉरिडोर के रास्ते पाकिस्तान जाने वाले श्रद्धालुओं से जुड़े इंतजाम गुरदासपुर जिला प्रशासन ही देखता है। इसके पास मंगलवार शाम तक इसे लेकर कोई दिशा-निर्देश नहीं पहुंचा। गुरदासपुर के DC और डेरा बाबा नानक डवलपमेंट अथॉरिटी, जहां से करतारपुर कॉरिडोर शुरू होता है, के चीफ एडमिनिस्ट्रेटर मोहम्मद इश्फाक के अनुसार, उन्हें केंद्र सरकार के निर्देशों का इंतजार है।

ऐसे में इस बात पर असमंजस है कि 17 नवंबर को पहला जत्था पाकिस्तान जाएगा भी या नहीं? और अगर जाएगा तो उसके लिए रजिस्ट्रेशन और दूसरी औपचारिकताएं कैसे पूरी की जाएंगी।

16 मार्च 2020 से बंद है ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

सामान्य दिनों में डेरा बाबा नानक से इस कॉरिडोर के रास्ते करतारपुर साहिब जाने के लिए 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ता है। यह रजिस्ट्रेशन https://prakashpurb550.mha.gov.in/kpr/ पर जाकर किया जाता है। मगर कोरोना महामारी की वजह से करतारपुर कॉरिडोर को मार्च 2020 में बंद कर दिया गया था और 16 मार्च 2020 से इस साइट पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा बंद पड़ी है।

यात्रा से 4 दिन पहले अपडेट होता था स्टेटस

कोरोना महामारी से पहले तक https://prakashpurb550.mha.gov.in/kpr/ पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के बाद आवेदन स्वीकार हुआ है या नहीं? इसका स्टेटस तय तारीख से चार दिन पहले इसी साइट पर अपडेट हो जाता था। चूंकि गुरु नानकदेव के प्रकाश पर्व में महज 3 दिन बचे हैं और अभी तक साइट पर ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है। इसलिए आमजन में इस बात को लेकर असमंजस है कि वह 19 नवंबर को बाबा नानक के प्रकाश पर्व वाले दिन करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए जा भी सकेगा या नहीं?

चन्नी के बारे में फैसला केंद्र करेगा

पंजाज के CM चरणजीत सिंह चन्नी ने 18 नवंबर को अपनी पूरी कैबिनेट के साथ करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए जाने की घोषणा कर दी है। ऐसे में चन्नी के साथ कौन और कितने VIP करतारपुर जा सकेंगे? इसका फैसला केंद्रीय गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय लेंगे। इस बीच CM चन्नी के ऐलान के बाद डेरा बाबा नानक में उनके स्वागत की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। गुरदासपुर के DC मोहम्मद इश्फाक ने खुद मंगलवार शाम को डेरा बाबा नानक का दौरा किया। DC ने कहा कि अभी CM का प्लान नहीं आया है, लेकिन जिला प्रशासन ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं।

जत्था कैसे जाएगा, यह केंद्रीय गृह मंत्रालय तय करेगा : DC

गुरदासपुर के DC और डेरा बाबा नानक डवलपमेंट अथॉरिटी के चीफ एडमिनिस्ट्रेटर मोहम्मद इश्फाक ने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर दोबारा खुलने के बाद पहले जत्थे में कौन जाएगा? उसके लिए कैसे और कहां आवेदन किए जा सकते हैं? यह सब केंद्रीय गृह मंत्रालय तय करेगा। फिलहाल उनके पास इसे लेकर कोई गाइडलाइन या दिशा-निर्देश नहीं आए हैं।

पाकिस्तान सरकार ने जारी की गाइडलाइंस

इस बीच भारतीय गृह मंत्रालय के करतारपुर कॉरिडोर खोलने के ऐलान के बाद पाकिस्तान सरकार ने गाइडलाइंस जारी कर दी। इस गाइडलाइंस के अनुसार, कॉरिडोर के रास्ते एक दिन में भारत से 300 श्रद्धालु करतारपुर साहिब गुरुद्वारे के दर्शन के लिए जा सकेंगे। इन श्रद्धालुओं के पास 72 घंटे पुरानी RT-PCR टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट होनी चाहिए या फिर उनके पास कोरोना वैक्सीनेशन की दोनों डोज का सर्टिफिकेट होना चाहिए। श्रद्धालुओं के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

खबरें और भी हैं...