पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अमृतसर विजिलेंस ब्यूरो की कार्रवाई:एमएलआर काटने पर 40 हजार रुपए रिश्वत लेते दो फार्मासिस्ट व डॉक्टर अरेस्ट

अमृतसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विजिलेंस की हिरासत में आरोपी। - Dainik Bhaskar
विजिलेंस की हिरासत में आरोपी।

अमृतसर विजिलेंस ब्यूरो ने तरनतारन के कस्बा खेमकरण सिविल अस्पताल में रेड कर मेडिको लीगल रिपोर्ट (एमएलआर) काटने के एवज में रिश्वत 70 हजार रुपए रिश्वत लेने वाले एक डॉक्टर और दो फार्मासिस्टों को वीरवार को गिरफ्तार कर लिया। विजिलेंस ने इस संबंध में पीड़ित शाम सिंह निवासी गांव भूराकोना, पट्टी तरनतारन की शिकायत पर डॉ. कंवरताज सिंह, फार्मासिस्ट सुरेश कुमार और फार्मासिस्ट सुखपाल सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया है। दोनों फार्मासिस्टों को रेड के दौरान काबू किया गया, जबकि डॉक्टर को देररात पकड़ा गया।

शिकायतकर्ता शाम सिंह ने विजिलेंस ब्यूरो को दी शिकायत में बताया कि उनके दादा शिंगारा सिंह एक ‘स्वतंत्रता सेनानी’ थे। इसलिए उनके परिवार को तरनतारन के गांव मेहदीपुर में 13 एकड़ खेता योग्य जमीन सरकारी ने दी है। इस जमीन में से 31 कनाल 4 मरले जमीन पर मेहदीपुर के गुरनाम सिंह ने कब्जा कर रखा है। उन्होंने इस संबंध में अदालत में केस किया था, जिसका फैसला उनके पक्ष में आया था। मगर गुरनाम ने कब्जा नहीं छोड़ा।

इसी बीच 11 अप्रैल 2021 को गुरनाम ने उनके पिता जसवंत सिंह और उसके छोटे भाई गुरनाम पर हमला कर घायल कर दिया। वह पिता और छोटे भाई गुरनाम सिंह को सिविल अस्पताल खेमकरण ले गए। हालत गंभीर होने पर उन्हें अमृतसर के गुरु नानक देव अस्पताल रेफर कर दिया गया।

शिकायतकर्ता शाम ने बताया कि इलाज के बाद उसने आरोपी फार्मासिस्ट सुरेश कुमार से मुलाकात की। उसे एक्स-रे रिपोर्ट सौंपी और एमएलआर तैयार करने को कहा। सुरेश ने उसे बताया कि उसने अस्पताल में तैनात डॉ. कंवरताज से बात की है और उन्होंने कहा है कि अगर उन्हें 30 हजार रुपए रिश्वत देंगे तो एमएलआर काट देंगे। शिकायतकर्ता के मुताबिक उसने उसी वक्त सुरेश को 20 हजार रुपए दे दिए।

कुछ देर बाद सुरेश ने बताया कि उसने 20 हजार रुपए डॉ. कंवर को दे दिए हैं। वह दो दिन बाद 10 हजार रुपए और देकर एमएलआर ले जा सकता है। शाम सिंह ने बताया कि तीन मई को सुरेश और दसूरे आरोपी सुखपाल को मिलकर उसने 10 हजार रुपए दे दिए। मगर दोनों आरोपियों ने कहा कि डॉ. कंवर ने 40 हजार रुपए और रिश्वत मांगी है।

वह दोनों से समय मांग कर घर आ गया और फिर विजिलेंस ब्यूरो में शिकायत दे दी। इस पर विजिलेंस ब्यूरो ने ट्रैप लगाकर आरोपी फार्मासिस्ट सुरेश कुमार, फार्मासिस्ट सुखपाल सिंह को शुक्रवार को 40 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गवाहों की मौजूदगी में रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। वहीं डॉ. कंवर को पकड़ने के लिए छापेमारी शुरू कर दी गई। करीब 8 घंटे बाद देर रात उसे भी तरनतारन से गिरफ्तार कर लिया गया।

खबरें और भी हैं...