पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सूबे में आए बिजली संकट:सुबह 3 दिन बाद चली इंडस्ट्री, शाम को फिर 72 घंटे के ‘पावरलॉक’ का फरमान

अमृतसर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आज से 11 तारीख तक लार्ज स्केल इंडस्ट्री को फिर नहीं मिलेगी बिजली
  • इंडस्ट्री पूरी क्षमता से चलती होती तो लटक जाते पक्के ताले: कारोबारी

सूबे में आए बिजली संकट के बीच 72 घंटे बाद बुधवार को अमृतसर की लार्ज स्केल इंडस्ट्री एक दिन चलने के बाद अगले 72 घंटे के लिए फिर से नागा लागू कर दिया गया है। पावरकाॅम की तरफ से जारी हुआ फरमान बुधवार देर शाम को शहर के उद्योगपतियों तक पहुंचा। इसके बाद उनके चेहरों पर फिर से मायूसी छा गई।

इससे पहले पावरकाम ने 4 जुलाई सुबह 8 बजे से लेकर 7 जुलाई सुबह 8 बजे तक बार्डर जोन की इंडस्ट्री पर नागा लागू किया गया था। इसके बाद बुधवार को 8 जुलाई सुबह 8 बजे से 11 जुलाई सुबह 8 बजे तक लार्ज स्केल इंडस्ट्री की बिजली फिर बंद रखने का ऐलान कर दिया गया। इससे काराेबारी फिर मायूस हो गए।

उनके मुताबिक कोरोना के कारण बने हालातों के बीच पहले ही 40 फीसदी कैपेसिटी के साथ इंडस्ट्री चल रही है। ऐसे में अगर फुल कैपेसिटी से इंडस्ट्री चल रही होती और बिजली सप्लाई नहीं मिलती तो स्थित बेहद खराब हो जाती। कारोबारियों ने कहा कि पंजाब में जेएंडके से बिजली 40% महंगी है, फिर सरकार बिजली कट लगा रही है।

बल कलां इंडस्ट्रियल वेलफेयर एसोसिएशन के महासचिव राजकपूर लार्ज स्केल यूनिटों पर नागा लागू होने के कारण तीन दिन में प्रोडक्शन की खातिर 45 हजार का डीजल फूंकना पड़ा। इस दौरान भी सिर्फ 50 फीसदी कैपेसिटी के साथ काम हुआ। इस दौरान जो लेबर फ्री रही, उसे भी पेमेंट दी है। बिजली की जगह जेनरेटर पर मेनुफेक्चरिंग कोस्ट तीन गुना से ज्यादा बढ़ जाती है।

बुधवार को 72 घंटे बाद लार्ज स्केल इंडस्ट्री चली, इस दौरान भी दो बार करीब साढ़े तीन घंटे बिजली कट लगा। ऐसे में फिर से डीजल इस्तेमाल करना पड़ा। पावरकाम अधिकारियों से बात की तो मेंटिनेंस का काम चलने की बात कही। तीन दिन तक नागा रहने के दौरान मेंटिनेंस होनी चाहिए थी। वहीं अब आगे फिर जेनरेटर पर मशीनें चलानी बस से बाहर है।

पंजाब में रेट ज्यादा, फिर भी बिजली नहीं: निर्मल सुरेश
अमृतसर वार्प निटिंग इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के वाइस प्रेसिडेंट निर्मल सुरेखा का कहना है कि कोरोना के कारण वर्तमान में सिर्फ 40% कैपेसिटी पर ही इंडस्ट्री चल रही है। दूसरे राज्यों के मुकाबले सूबे में बिजली दरें महंगी हैं, फिर भी बिजली सप्लाई न मिलना सिस्टम पर सवाल खड़े कर रहा है। तीन दिन के बाद अगले तीन दिन फिर से नागा आने की वजह से लेबर फ्री रहेगी।

जम्मू की तरह पंजाब में मिलें रियायतें: कुक्कू
अमृतसर टैक्सटाइल प्रोसेसिंग इंडस्ट्री के प्रधान कृष्ण शर्मा कुक्कू का कहना है कि जम्मू-कश्मीर की नई इंडस्ट्रियल पाॅलिसी में 300 फीसदी तक जीएसटी और इनकम टैक्स में भी रियायत दी जा रही है। पंजाब में ऐसा होना चाहिए, क्योंकि जम्मू के मुकाबले यहां 40% बिजली महंगी है।

खबरें और भी हैं...