बादल परिवार के दामाद आदेश प्रताप को हराने वाले लालजीत:किसी समय चुनाव में कैरों के झंडे लगाने वाले भुल्लर इस बार उन्हें ही हराकर बने मंत्री

अमृतसर6 महीने पहले

पंजाब में तरनतारन जिले की पट्टी विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक लालजीत सिंह भुल्लर ने आज मंत्री पद की शपथ ली है। भुल्लर अकाली दल जैसी रिवायती पार्टी को छोड़कर AAP में शामिल हुए। उनका मानना है कि कांग्रेस और अकाली दल ने पूरे पंजाब में करप्शन को बढ़ावा दिया और नेताओं ने अपनी प्रॉपर्टी बनाई। दोनों दलों के राज में नशे को बढ़ावा दिया गया जिससे पूरा पंजाब खोखला हो गया।

लालजीत भुल्लर इस बार पट्टी सीट से चार बार के विधायक और प्रकाश सिंह बादल परिवार के दामाद आदेश प्रताप सिंह कैरों को हराकर विधानसभा पहुंचे हैं। भुल्लर अकाली दल के कार्यकर्ता के तौर पर बरसों तक चुनावों में आदेश प्रताप सिंह कैरों के लिए काम करते हुए उनके झंडे तक लगाते रहे।

बेअदबी के बाद अकाली दल छोड़ा, कांग्रेस ने केस कराया तो फिर अकाली बने

41 साल के लालजीत सिंह भुल्लर साधारण परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पास खेती के लिए 60 एकड़ जमीन हैं। वहउ पट्‌टी अनाज मंडी में आढ़ती भी हैं। उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत अकाली दल कार्यकर्ता के रूप में की और 2015 तक आदेश प्रताप सिंह कैरों के कट्टर समर्थक रहे। मगर 2015 में बादल सरकार के कार्यकाल में हुई बेअदबी की घटनाओं ने उन्हें झकझोर दिया और उन्होंने अकाली दल छोड़ दिया।

आकली दल छोड़ने के बाद लालजीत ने कांग्रेस नेता हरमिंदर सिंह गिल से प्रभावित होकर कांग्रेस जॉइन कर ली। 2017 के चुनाव में हरमिंदर सिंह गिल आदेश प्रताप सिंह कैरों को हराकर पट्टी से विधायक बन गए। कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में ही लालजीत भुल्लर को एक आपराधिक मामले में फंसा दिया गया। इससे नाराज होकर लालजीत भुल्लर ने 2018 में एक बार फिर कैरों का हाथ थाम लिया। 2019 के लोकसभा चुनाव में अकाली दल ने एसजीपीसी की पूर्व प्रधान बीबी जागीर कौर को खडूर साहिब लोकसभा सीट से टिकट दिया। पट्‌टी विधानसभा हलका खडूर साहिब लोकसभा हलके में ही आता है। लालजीत भुल्लर ने चुनाव में बीबी जागीर कौर के लिए काम किया।

2019 से आप के साथ

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में खडूर साहिब सीट से अकाली कैंडिडेट बीबी जगीर कौर की हार के बाद लालजीत सिंह भुल्लर AAP कन्वीनर अरविंद केजरीवाल से प्रभावित होकर AAP में शामिल हो गए। फरवरी 2021 में हुए पट्टी नगर परिषद के चुनाव में लालजीत भुल्लर ने AAP उम्मीदवारों के पक्ष में अभियान चलाया। इस बीच उन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया। बाद में दबाव बढ़ने पर पुलिस भुल्लर को छोड़ने पर मजबूर हो गई।

10,999 वोट से कैरों को हराया

AAP ने 2022 के विधानसभा चुनाव में लालजीत सिंह भुल्लर को पट्‌टी सीट से टिकट दिया। चुनाव प्रचार के दौरान अकाली दल के कैंडिडेट आदेश प्रताप सिंह कैरों यहां भारी दिखे, लेकिन भुल्लर अकाली दल के वोट तोड़ने में सफल रहे। भुल्लर को चुनाव में कुल 57,323 वोट मिले, जबकि आदेश प्रताप सिंह कैरों को 46,324 वोट मिले। इस तरह भुल्लर 10999 वोट से जीत गए।