सिद्धृू की इच्छा- करतारपुर के बाद अटारी बॉर्डर खुले:बोले, भारत-पाकिस्तान के लोगों को बिना रोक-टोक आने-जाने देना चाहिए, व्यापार भी जल्द शुरू हो

अमृतसर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अमृतसर में पाइटैक्स मेले में पहुंचे नवजोत सिद्धू। - Dainik Bhaskar
अमृतसर में पाइटैक्स मेले में पहुंचे नवजोत सिद्धू।

भारत-पाकिस्तान के बीच करतारपुर कॉरिडोर खोलने की मांग पूरी होने के बाद पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PPCC) प्रधान नवजोत सिद्धू ने दोनों देशों के बीच अटारी-वाघा सीमा खोलने की मांग की है। सिद्धू ने कहा है कि दोनों देशों के लोगों को बॉर्डर क्रॉस करने की अनुमति दे देनी चाहिए।

सिद्धू ने एक बार फिर दोनों देशों के बीच पहले की तरह व्यापार शुरू करने की मांग की। सिद्धू शनिवार को अमृतसर में लगे पाइटैक्स मेले में पहुंचे थे। गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच व्यापार बंद होने की वजह से इस साल पाइटैक्स मेले में पाकिस्तान से कोई स्टॉल नहीं लगा।

सिद्धू ने कहा कि अगर अटारी-वाघा सीमा से व्यापार शुरू हो जाता है तो इसका लाभ सीधे तौर पर पंजाब को होगा। छह महीने में पंजाब बरसों की तरक्की कर लेगा। उन्होंने कहा कि अगर कराची-मुम्बई के बीच व्यापार हो सकता है तो पंजाब के जरिए व्यापार क्यों नहीं हो सकता? सिद्धू ने भारत और पाकिस्तान सरकार से मांग की कि जिसके पास भी पासपोर्ट है, उसे वाघा-अटारी सीमा से बिना रोक-टोक आने-जाने देना चाहिए। गलत सोच के व्यक्ति हर जगह होते हैं। उनके कारण ऐसे लोगों पर प्रतिबंध नहीं लगाना चाहिए, जो शांति और अमन चाहते हैं।

भारत अपनी क्षमता का 5% व्यापार भी नहीं कर रहा

सिद्धू ने कहा कि भारत-पाकिस्तान और 34 देशों के बीच 37 बिलियन डॉलर का व्यापार संभव है लेकिन यह व्यापार 3 बिलियन डॉलर तक सीमित है। यह असल क्षमता का मात्र 5 प्रतिशत है। पंजाब ने पिछले 34 महीनों में 4 हजार करोड़ रुपए का नुकसान झेला है और 15 हजार युवाओं ने अपनी नौकरी गंवाई है।

अमृतसर में एग्जीबिशन सेंटर बनना चाहिए

सिद्धू ने इस दौरान कहा कि वह सरकारों को तब मानेंगे, जब दोनों देशों के लोग बे-रोक टोक आ जा सकेंगे। अमृतसर में ऐग्जीबिशन सेंटर होना चाहिए, ताकि अगले 34 देशों के लोग यहां आकर पंजाब की तरक्की को देख सकें। यहां से व्यापार हो सके।